Month: November 2017

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 28 NOVEMBER 2017 – Aaj Baba ne Kaha

To Read 27 November Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*28.11.2017*

★【 *आज का पुरुषार्थ* 】★

बच्चे, जहाँ आकर्षण है, वहाँ असंतुष्टता है और जहाँ असंतुष्टता है, वहीं हलचल है।

जबकि इस तमोप्रधान दुनिया में आकर्षण बहुत बढ़ रहा है तो हलचल भी बहुत बढ़ रही है, जिससे सभी आत्मायें बहुत दुःखी और परेशान हो रही है और बच्चे यह सब कुछ अति में जाना ही है। 
चाहे लौकिक परिवार, चाहे अलौकिक सब जगह परेशानियाँ बढ़नी ही है … ऐसे समय में जबकि बाप आप बच्चों को सभी जगह से न्यारा कर विशेष पालना दे रहा है तो आप बच्चों को भी अपनी स्व-स्थिति की तरफ विशेष अटेन्शन रखना चाहिए।

यदि आप सोचते हों कि मैं वाचा, कर्मणा या संकल्प द्वारा इन सब परिस्थितियों को दूर कर दूँ, तो यह सम्भव नहीं है क्योंकि आपको पहले स्वयं को सम्पूर्ण रीति तैयार करना पड़ेगा अर्थात् इन सब तरह की बातों से स्वयं को न्यारा कर पाॅवरफुल बनाना पड़ेगा, तब ही आपकी पाॅवरफुल स्थिति आपके आस-पास के हलचल को खत्म कर सकेगी। इसलिए स्वयं को अचल-अडोल बनाना है जो आप केवल बाप की श्रीमत प्रमाण ही कर सकते हो।

इसके लिए आपको यह स्मृति रहनी चाहिए कि मेरी स्वयं की स्थिति से ही परिस्थिति खत्म होगी और जितनी मेरी स्व-स्थिति पाॅवरफुल होगी, उतना ही उसका प्रभाव दूर-दूर तक जायेगा।

इसलिए इस समय स्वयं को हर बात से न्यारा कर अपनी स्व-स्थिति बनानी है, फिर यहीं आपकी स्व-स्थिति आपको स्वयं ही सबका प्यारा बना देगी। इसलिए स्वयं पर फुल अटेन्शन रखो।

देखो बच्चे, यही समय है पुरूषार्थ का … फिर कल्प में कभी भी आपको यह समय नहीं मिलेगा…!

और पुरूषार्थ के बिना प्रालब्ध भी नहीं बन सकती । इसलिए स्वयं को हर बात से न्यारा कर अपनी हर समस्या, चाहे किसी भी तरह की हो, बाप को संकल्पों द्वारा समर्पण कर बाप की श्रीमत पर पूरा-पूरा चलने का पुरूषार्थ करना है।

अब पुरूषार्थ का समय बहुत ही लिमिटेड रह गया है।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

【 *Peace Of Mind TV* 】
Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | Jio TV |

TODAY MURLI 29 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 November 2017 :- Click Here

29/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence:Sweet children, don’t forget the Father who always gives you happiness, teaches you every day and gives you treasures of knowledge. Constantly continue to follow shrimat.
Question:What is the Father’s magic which human beings cannot perform?
Answer:To change this forest of thorns into a beautiful garden of flowers and to make impure human beings into pure deities is the magic of the Father and not any human being. The Father alone is the greatest Social Worker. He enters an impure body in the impure world and makes the whole impure world pure.
Song:Do not forget the days of your childhood!

Om shanti. You children heard the song that was sung to you. You are the sweet children of the Mother and Father. The Father tells you sweet children: After saying “Mama, Baba”, don’t forget them tomorrow. If you forget them you lose your inheritance, but some children forget this even though they hear Baba saying it. Nevertheless, the Father shows you an easy path. He doesn’t make you leave your home or the family path. He says: Whether you are householders, or even if you are bachelor s, simply make effort to follow shrimat. Never forget such a Father. The Father complains that some children say “Mama and Baba” and then never even write their news to Baba. You claim the sovereignty of heaven from the Father and you then forget Him, whereas you very happily write a letter to the father who gives you the property of hell. If a letter doesn’t come, the parents get worried and think that perhaps you are ill. So, the unlimited Father also thinks: I don’t know what the condition of the children is. He waits for their letters. Worldly children even cause sorrow and yet attachment is not removed from them. Here, look at the wonder of the One you call the Mother and Father and who is sitting in front of you! In fact, all the children will hear Him through the murli. The Father knows how many children are worthy and how many are unworthy, numberwise, according to the efforts they make. Even after saying “Mama, Baba” they leave Him. The song also says: Why do you forget such a Father? You should write a letter to such a Father every day. The Father gives you treasures every day; He teaches you every day. He also gives you love. He is the Father, Teacher and Satguru. He is all three. Children write letters to their physical fathers. They even remember their gurus. However, you forget the Father who gives constant happiness and makes you into the masters of the land of truth. You don’t even write a letter to Him. The Father is worried about what has happened: Has Maya killed you or pushed you into vice? Baba would caution you children through the murli. Baba would advise you: Continue to protect yourself in this way. This one is the Father’s eldest child and is moving ahead of everyone else. This one experiences all sorts of storms. He is called Mahavir, Hanuman. Because a powerful one is standing at the front, Maya would also become powerful and fight with that one first. Baba says: Whatever storms you experience, I experience them first. Baba even shares his experiences of this. You would say: Baba, how would you experience storms? You are elderly. Baba says: Everything comes to me. How else would I be able to caution you? However, children don’t tell Baba. They choke in the storms and die and destroy their status. This is why the Father says: Continue to remind one another. At least write a letter to Baba! Caution one another in every aspect. Maya is very clever; she punches you. You children are the true social workers of the whole world. Those people are limited social workers who do limited service. This Father is the Social Worker for the whole world. It is up to the Father to make the whole impure world pure. You call out to the Father. You call such a Father ‘Father’ and then you children forget Him! This song has been composed by someone who was especially touched just as some very good scriptures have been created which people keep with themselves. Here, there are no scriptures or pictures etc. These pictures have been made by us. All of those other pictures make your intellects develop doubt whereas all of these pictures make your intellects have faith. The world doesn’t know that Bharat was heaven. They have so much regard for Bharat. It is here that Shiv Baba comes. You call Shiva ‘Baba’ and then there is Brahma Baba. You wouldn’t call Vishnu ‘Baba’. You children know these things. People of the world say: O Purifier, come! We are impure, so come and purify us! However, they don’t know how He would make impure ones pure or where He would take them. They simply continue to speak like parrots without understanding the meaning of what they say. They don’t know anything and yet they call Him God, the Father. A Father means property. No one else can be called the Father. Neither Vishnu nor Shankar can be called Father, so how can anyone else be called that? Everyone understands that it is the incorporeal One who is God, the Father. A soul enters this body and calls out: O God, the Father The Father comes and makes you soul conscious. You say to the Father: Baba, make us pure and take us to the pure world. Shiv Baba enters Bharat to create the pure family path. The Father says: You, who belonged to the family path, were pure. You have the desire to become pure. You remember heaven. When you speak of Paradise, you remember Krishna. You don’t think that you should remember the empress and emperor Lakshmi and Narayan of the family path. People now want peace. This is a question of the whole world. The responsibility for this is with the Father. When Bharat becomes hell, the Father comes to make it into heaven. No one knows who then makes it into hell or when. The Father says: I make you into residents of heaven. I take you to the sweet world and then send you to the sweetsovereignty. You should study with such a Father day and night and claim your full inheritance. In fact, no one is taught day and night. The Father says: Study regularly every day for an hour in the morning and an hour in the evening. Everyone has time in the morning. It is a matter of a second. You simply have to remember Baba and the inheritance. Nevertheless, you forget Him and then you say: Baba, what can I do? Remembrance is very easy. The knowledge of the world cycle is also very easy. This is the world of sinful souls. You have to go to the world of charitable souls. Remember Shiv Baba. This is also very easy for those who live at home with their families. The Father definitely remembers you children: I haven’t received a letter from so-and-so. What has happened to him? Then, when the child comes in front of Him, He asks: You didn’t become unconscious, did you? You don’t have that much love for the Father and your love is drawn to someone who only earns a few pennies. You should give your news to Baba and tell Him that you are still alive and happy and that you are continuing to give the Father’s introduction to others. Baba sends love and remembrance through the murli every day. However, He cannot write the name of each one. Therefore, you children should also give your news. At this time, the face of everyone in the world has become dirty. Baba comes and makes them beautiful. Baba comes and changes the face of Bharat. He changes the forest of thorns into a garden of flowers. He is such a Magician. In the garden of heaven there is just Bharat. There, you are not aware of who is going to come after you. There, you feel that only you are the masters of the world. The golden age is called the garden of Allah. It isn’t that God creates a jungle. It is Ravan who creates that. Ravan is the old enemy whom no one knows. Baba asks: Whose children are you? Baba, we are the children of Brahma and the grandchildren of Shiv Baba. Shiv Baba gives you the inheritance through Brahma. He is establishing heaven through Brahma. You have become Baba’s children in order to claim your inheritance. Baba says: Remember this! Don’t forget it! You say: Baba, I repeatedly forget You. Oh! So you remember the one who makes you into a resident of hell and you forget the Father who makes you into a resident of heaven! If you don’t forget the Father, you won’t even forget your inheritance. At this time Baba is ever present in front of you. It is said: The Lord is present everywhere. He is incognito. You cannot say that you can see Him. Souls are incognito and the Father is also incognito. A soul enters a body and speaks. I too need a body. How else would I come? If I entered a womb, I would have to enter the jail of a womb. Why should I enter the jail of a womb? What crime have I committed? The palace of a womb exists in heaven. What would I do if I entered heaven? I make only you children into the masters of heaven. By sitting here personally and listening to Baba, all of you enjoy yourselves a great deal. As soon as you leave here, you forget everything. There is a lot of difference between claiming a kingdom for 21 births and claiming a status among the ordinary subjects. Natives only eat thick chappatis whereas wealthy people eat rich food. There is a difference in the status. Here, however, both are unhappy. In heaven, all are happy, but their status is numberwise. You have to make effort and claim a high status. You have to follow Mama and Baba. You are receiving shrimat at this time. Therefore, you have to follow the mother and father. The mother and father have to exist in the corporeal form. Shiv Baba doesn’t have to make effort. Mama and Baba make effort and claim their fortune of the kingdom for 21 births. Then, those who make good effort will be seated on the throne. Eight pass with honours. You should be one of them. If not that, then at least in the 108. There is also a margin for the 16,108. The rosary of 16,108 is very long. They sit and pull the beads of the rosary. Here, there is no question of turning the beads of a rosary. The Father says: Follow Me! This old Brahma studies and passes with the first number. Mama who was young also claimed number one. So, why do you not make effort? Why do you make mistakes? You don’t write a letter to the Father and you don’t even remember Him! You make a promise and then, as soon as you go outside, everything is finished. I even tell you that you will forget everything as soon as you go outside. You say: Baba, we will not forget You, and then you forget. It is a wonder. This study is completely new and it is not in any of the scriptures. No one can understand it. Baba has now given you drishti in this last birth. This Baba tells you that he used to study the Gita. I also used to worship Narayan. I would place a picture of Narayan on the gaddi and then I liberated Lakshmi (from massaging the feet of Narayan). You have to interact with the people of the world very tactfully. Continue to give Baba’s introduction in an incognito way: Remember the Father and the inheritance. The deities are in heaven and that is why the picture of Lakshmi and Narayan was created. The picture of the Trimurti was not used at first because people used to get upset when they saw a picture of Brahma. However, how would anything get done without Brahma? If the BKs don’t see their father, how would anything get done? The Father says: It is written in the Gita: “Manmanabhav, madhyajibhav”. Whether it is liberation or liberation-in-life, only I, and no one else, can give you the inheritance of both of these. These matters have to be understood very well. Definitely wake up at amrit vela and churn the ocean of knowledge. You may do your work during the day, but at amrit vela, from 4.00 am to 5.00 am, sit in remembrance and you will feel a lot of happiness. Baba comes from the sweet home in order to teach us children and then goes away again. He says: Remember Me, and the alloy will be removed. When you have become real gold, you will pass with honours. If you want to claim a high status, what cannot be achieved by making effort? Nevertheless, the Father says: Don’t forget this Godly childhood. You should remember such a Father again and again. By having this remembrance you become pure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t make any type of mistake. Caution one another, remind one another of the Father and continue to make progress. Don’t forget your Godly childhood.
  2. Continue to follow the mother and father. Don’t be afraid of the storms of Maya. At amrit vela sit in remembrance of the Father and experience happiness.
Blessing:May you become a great soul and transform your attitude by making a determined vow.
The basis of becoming a great soul is to make a vow of purity. To make a determined vow means to transform your attitude. A determined vow changes your attitude. The meaning of making a vow is to have a thought and to observe that precaution in a physical way. All of you made the vow of purity to make your attitude elevated. It is by having an attitude of brotherhood towards all souls that you become a great soul.
Slogan:To spread the sparkle of your pure and elevated vibrations into the world is to become a real diamond.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 28 November 2017 :- Click Here
29/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप जो सदा सुख देते हैं, रोज़ पढ़ाते हैं, ज्ञान खजाना देते हैं, ऐसे बाप को तुम भूलो मत, श्रीमत पर सदा चलते रहो”
प्रश्नः-बाप की जादूगरी कौन सी है जो मनुष्य नहीं कर सकते हैं?
उत्तर:-कांटों के इस जंगल को बदलकर सुन्दर फूलों का बगीचा बना देना, पतित मनुष्यों को पावन देवता बना देना – यह जादूगरी बाप की है। किसी मनुष्य की नहीं। बाप ही सबसे बड़ा सोशल वर्कर है जो पतित शरीर, पतित दुनिया में आकर सारी पतित दुनिया को पावन बनाते हैं।
गीत:-बचपन के दिन भुला न देना…

ओम् शान्ति। बच्चों ने अपने लिए गीत सुना। तुम हो मात-पिता के क्षीर (मीठे) बच्चे। बाप क्षीर बच्चों को कहते हैं कि मम्मा बाबा कहकर कल भूल न जाना। अगर भूले तो वर्सा गँवा देंगे। परन्तु बच्चे सुनते हुए भी भूल जाते हैं। तो भी बाप सहज रास्ता बताते हैं। घरबार, गृहस्थ-व्यवहार आदि कुछ भी छुड़ाते नहीं हैं। कहते हैं गृहस्थी हो, चाहे बैचलर (कुमार) हो सिर्फ श्रीमत पर चलने का पुरुषार्थ करो। ऐसे बाप को कभी भूल न जाओ। बाप उल्हना देते हैं कि कोई-कोई बच्चे मम्मा बाबा कहकर फिर कभी अपना समाचार भी नहीं देते हैं। बाप से स्वर्ग की बादशाही लेते हैं फिर उनको भूल जाते हैं और नर्क की जायदाद देने वाले बाप को बहुत खुशी से चिट्ठी लिखते हैं, चिट्ठी न आये तो माँ बाप भी मूँझ जाते हैं, सोचते हैं पता नहीं बीमार है क्या? तो बेहद का बाप भी ऐसे समझते हैं कि पता नहीं बच्चों का क्या हाल है? इन्तज़ार होता है ना। वो लौकिक बच्चे तो दु:ख देने वाले भी निकल पड़ते हैं, तो भी उनसे मोह नहीं जाता। यहाँ फिर वन्डर देखो जिस बाप को कहते हैं तुम मात-पिता… सामने भी बैठे हैं। यूँ तो सब बच्चे मुरली द्वारा भी सुनेंगे। बाप जानते हैं नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार कितने सपूत हैं, कितने कपूत हैं। बाबा मम्मा कहकर फिर भी छोड़ देते हैं। गीत भी कहता है ऐसे बाप को क्यों भूल जाते हो? ऐसे बाप को रोज़ चिट्ठी लिखनी चाहिए। बाप भी रोज़ खज़ाना देते हैं। रोज़ पढ़ाते भी हैं, प्यार भी देते हैं। बाप, टीचर, सतगुरू तीनों ही हैं। लौकिक बाप को तो बच्चे चिट्ठी लिखते हैं। गुरू को भी याद करते हैं। परन्तु जो सदा सुख देने वाला, सचखण्ड का मालिक बनाने वाला बाप है उनको भूल जाते हैं। चिट्ठी भी नहीं लिखते हैं। बाप को ]िफकर रहता है कि क्या हुआ? माया ने मार डाला वा विकार में ढकेल दिया। बाबा तो मुरली में ही बच्चों को सावधान करेंगे ना। बाबा राय देंगे कि ऐसे-ऐसे अपने को बचाते रहो क्योंकि यह है बाप का सबसे बड़ा बच्चा। सबसे आगे चल रहा है। इनके पास सब प्रकार के तूफान आदि आते हैं। महावीर, हनूमान इनको ही कहेंगे। आगे रूसतम होने के कारण माया भी रूसतम हो पहले इनसे ही लड़ेगी। बाबा कहते हैं तुमको जो तूफान आते हैं वह पहले मुझे आयेंगे। जो बाबा अनुभव भी बताते हैं। तुम कहेंगे बाबा आपको तूफान कैसे आयेंगे? आप तो बुजुर्ग हो। बाबा कहते हैं हमारे पास सब आते हैं। नहीं तो हम तुमको सावधान कैसे करें? परन्तु बच्चे बाबा को बताते ही नहीं हैं। तूफान में घुटका खाकर डूब मर जाते हैं। अपना पद भ्रष्ट कर देते हैं इसलिए बाप कहते हैं एक दो को याद दिलाते रहो – बाबा को पत्र तो लिखो। हर बात में एक दो को सावधान करो। माया बड़ी तीखी है। घूसा मार देती है।

तुम बच्चे सारी दुनिया के सच्चे सोशल वर्कर्स हो। वह हद के सोशल वर्कर हद की सेवा करते हैं, यह बाप तो सारी दुनिया का सोशल वर्कर है। सारी पतित दुनिया को पावन बनाना यह बाप के ऊपर है। बाप को ही बुलाते हैं। ऐसे बाप को बाप कह फिर बच्चे भूल जाते हैं। यह गीत भी कोई का टच किया हुआ है। जैसे कोई-कोई शास्त्र भी अच्छे बने हुए हैं जो मनुष्य अपने पास रखते हैं। यहाँ तो शास्त्र, चित्र आदि कुछ भी नहीं हैं। यह चित्र भी अपने ही बनाये हुए हैं। वह सब चित्र हैं संशयबुद्धि बनाने वाले। यह चित्र हैं निश्चयबुद्धि बनाने वाले।

दुनिया को तो यह मालूम ही नहीं कि भारत स्वर्ग था। भारत का कितना मान है। यहाँ ही शिवबाबा आते हैं। शिव को बाबा कहते हैं फिर है ब्रह्मा बाबा। विष्णु को बाबा नहीं कहेंगे। यह भी तुम बच्चे जानते हो। दुनिया के मनुष्य तो कहते हैं हे पतित-पावन आओ, हम पतित हैं आकर पावन बनाओ। परन्तु यह नहीं जानते कि वह पतित से पावन कैसे बनायेंगे। कहाँ ले जायेंगे? बस तोते के मुआफिक बोलते हैं। बिगर अर्थ कुछ भी नहीं जानते। अरे गॉड फादर कहते हो, फादर माना प्रापर्टी और किसको फादर नहीं कहा जाता। विष्णु और शंकर को भी फादर नहीं कह सकते, तो और किसी को कैसे कहेंगे। सब समझते हैं कि गॉड फादर निराकार ही है। आत्मा इस देह में आकर पुकारती है ओ गॉड फादर। बाप आकर देही-अभिमानी बनाते हैं। तुम बाप को कहते हो बाबा हमको पावन बनाओ और पावन दुनिया में ले चलो। शिवबाबा आते हैं – भारत में पवित्र प्रवृत्ति मार्ग बनाने।

बाप कहते हैं तुम प्रवृत्ति मार्ग वाले पावन थे। तुम ही चाहते हो हम पावन बनें। स्वर्ग को याद करते हो। वैकुण्ठ कहने से कृष्ण याद आता है। यह नहीं समझते कि प्रवृत्ति मार्ग के महाराजा-महारानी, लक्ष्मी-नारायण को याद करें। अब मनुष्य चाहते हैं शान्ति। यह सारी दुनिया का क्वेश्चन है। उसकी जवाबदारी बाप के ऊपर है। जब भारत नर्क हो जाता है तो उसको स्वर्ग बनाने बाप ही आते हैं। नर्क फिर कौन बनाते, कब बनाते हैं? यह कोई नहीं जानते हैं। बाप कहते हैं मैं तुमको स्वर्गवासी बनाता हूँ। स्वीट वर्ल्ड में ले जाए फिर तुमको स्वीट बादशाही में भेज देंगे। ऐसे बाप से तो रात दिन पढ़कर पूरा वर्सा लेना चाहिए। वास्तव में रात दिन कोई पढ़ाया नहीं जाता है। बाबा कहते हैं सवेरे और रात को एक घण्टा रेग्युलर पढ़ो। सवेरे का समय तो सबको मिलता है। एक सेकेण्ड की बात है। सिर्फ बाबा और वर्से को याद करना है। फिर भी तुम भूल जाते हो। फिर कहते हो बाबा हम क्या करें – याद भी बड़ी सहज है। सृष्टि चक्र का ज्ञान भी बड़ा सहज है। यह है पाप आत्माओं की दुनिया, तुमको पुण्य की दुनिया में जाना है। शिवबाबा को याद करो। गृहस्थ व्यवहार में रहने वालों के लिए भी बहुत सहज है। तो बाप बच्चों को जरूर याद करते हैं। फलाने की कभी चिट्ठी नहीं आती है, क्या हो गया है? वा जब सामने आते हैं तो पूछता हूँ – क्या बेहोश तो नहीं हो गये थे? बाप के साथ इतना लव नहीं, पाई पैसा कमाने वाले में लव चला जाता है। बाबा को समाचार देना चाहिए, बाबा हम जीते हैं, खुश हैं। औरों को भी परिचय देते रहते हैं। बाबा तो रोज़ मुरली में याद-प्यार भेजते हैं। बाकी एक-एक का नाम तो नहीं लिख सकते हैं, तो बच्चों को भी अपना समाचार देना चाहिए।

इस समय सारी दुनिया का मुँह काला हो गया है। उनको बाबा आकर गोरा बनाते हैं। बाबा भारत का मुँह फेर देते हैं। कांटों के जंगल को फूलों का बगीचा बनाते हैं। कैसा जादूगर है, स्वर्ग के बगीचे में भारत ही होता है। वहाँ यह पता नहीं रहता कि हमारे पीछे और कौन-कौन आने वाले हैं। समझते हैं बस हम ही विश्व के मालिक हैं। सतयुग को कहा जाता है गार्डन ऑफ अल्लाह। फिर जंगल कोई गॉड नहीं बनाते। वह तो रावण बनाते हैं। रावण पुराना दुश्मन है, जिसको कोई नहीं जानते हैं। बाबा पूछते हैं तुम किसकी सन्तान हो? बाबा हम ब्रह्मा के बच्चे हैं, शिवबाबा के पोत्रे हैं। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा वर्सा देते हैं। ब्रह्मा द्वारा स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। तुम बाबा के बच्चे बने ही हो वर्सा लेने के लिए। बाबा कहते हैं याद रखना, भूलना नहीं। कहते हैं बाबा घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। अरे तुमको जो नर्कवासी बनाते हैं उनको याद करते हो और स्वर्गवासी बनाने वाले बाप को भूल जाते हो? बाप को नहीं भूलेंगे तो वर्से को भी नहीं भूलेंगे। इस समय तो बाबा हाज़िर नाज़िर है। कहते भी हैं हाजिराहजूर…वह भी गुप्त है। ऐसे नहीं कहेंगे कि हम उनको देखते हैं। आत्मा गुप्त तो बाप भी गुप्त। आत्मा शरीर में आकर बोलती है, मुझे भी शरीर चाहिए। नहीं तो आऊं कैसे? गर्भ में आऊं तो गर्भ जेल में आना पड़े। मैं गर्भ जेल में क्यों आऊं, मैंने कौन सा गुनाह किया है? गर्भ महल तो होता है स्वर्ग में। हम स्वर्ग में आकर क्या करेंगे? स्वर्ग का मालिक तो तुम बच्चों को ही बनाता हूँ। यहाँ सम्मुख बैठकर सुनने से सबको मजा आता है। यहाँ से बाहर जाने से सब कुछ भूल जाते हैं। 21 जन्मों की राजाई लेना और साधारण प्रजा में पद पाना फ़र्क तो बहुत है ना। भील लोग रोटला खाते हैं। साहूकार माल खाते हैं। फ़र्क है मर्तबे का। परन्तु दु:खी तो दोनों ही होते हैं। स्वर्ग में फिर सब सुखी होते हैं, परन्तु मर्तबा नम्बरवार है। हमको पुरुषार्थ करके ऊंच पद पाना है। मम्मा-बाबा को फालो करना है। इस समय श्रीमत मिलती है। तो मात-पिता को फालो करना पड़े। मात-पिता तो साकार में चाहिए। शिवबाबा को तो पुरुषार्थ करना नहीं है। मम्मा बाबा पुरुषार्थ कर 21 जन्मों का राज्य भाग्य लेते हैं। फिर जो अच्छा पुरुषार्थ करते हैं, वह गद्दी पर बैठते हैं। 8 पास विद आनर होते हैं। उनमें आना चाहिए। उनमें नहीं तो 108 में आओ। मार्जिन तो 16108 की भी है। 16108 की बहुत बड़ी माला होती है। उनको बैठ खींचते हैं। यहाँ माला जपने की बात नहीं है। बाप तो कहते हैं फालो करो। यह ब्रह्मा बूढ़ा पढ़कर पास हो नम्बरवन में जाता है। मम्मा जवान भी नम्बरवन में जाती है। तो तुम पुरुषार्थ क्यों नहीं करते हो। ग़फलत क्यों करते हो? बाप को पत्र भी नहीं लिखते, याद भी नहीं करते हैं। प्रण भी कर जाते हैं परन्तु बाहर गये खलास। हम कह भी देते हैं – तुम बाहर जाने से भूल जायेंगे। कहते हैं बाबा हम नहीं भूलेंगे। फिर भूल जाते हैं। वन्डर है ना। यह है बिल्कुल नई पढ़ाई जो कोई शास्त्र में नहीं है। कोई समझ नहीं सकते। अब बाबा ने दृष्टि दी है – इस अन्तिम जन्म में। बाबा सुनाते हैं – हम गीता भी पढ़ते थे। नारायण का भी पूजन करते थे। गद्दी पर भी नारायण का चित्र रखते थे (हिस्ट्री सुनाना) लक्ष्मी को कैसे मुक्त कर दिया। दुनिया वालों से बड़ा युक्ति से चलना पड़ता है। तुम भी गुप्त रीति बाबा का परिचय देते रहो कि बाप और वर्से को याद करो। स्वर्ग के हैं देवी-देवता, इसलिए लक्ष्मी-नारायण का चित्र बनाया है। पहले त्रिमूर्ति नहीं डाला था क्योंकि ब्रह्मा को देख बिगड़ जाते हैं। परन्तु ब्रह्मा बिगर काम कैसे हो। बी.के. बाप को नहीं देखेंगे तो काम कैसे होगा? बाप कहते हैं गीता में लिखा हुआ है – मनमनाभव, मध्याजी भव। चाहे मुक्ति का वा जीवन मुक्ति का दोनों वर्सा मैं दे सकता हूँ और कोई नहीं। बहुत समझने की बातें हैं। अमृतवेले उठकर विचार सागर मंथन करना है जरूर। दिन में भल काम करो परन्तु अमृतवेले 4 बजे से 5 बजे तक बैठकर याद करो तो बहुत सुख फील होगा। बाबा स्वीट होम से हम बच्चों को पढ़ाने आते हैं, फिर चले जाते हैं। कहते हैं मुझे याद करो तो खाद निकलेगी। जब सच्चा सोना बन जायेंगे तब पास विद आनर होंगे। अगर ऊंच पद पाना है तो पुरुषार्थ से क्या नहीं हो सकता है? बाप फिर भी कहते हैं – इस ईश्वरीय बचपन को नहीं भूलना। ऐसे बाप को घड़ी-घड़ी याद करना चाहिए। याद से तुम कंचन बनते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी प्रकार की ग़फलत नहीं करनी है। एक दो को सावधान कर, बाप की याद दिलाए उन्नति को पाना है। अपने ईश्वरीय बचपन को भूलना नहीं है।

2) मात-पिता को फालो करते रहना है। माया के तूफानों से डरना नहीं है। अमृतवेले बाप की याद में बैठकर सुख का अनुभव करना है।

वरदान:-दृढ़ संकल्प रूपी व्रत द्वारा अपनी वृत्तियों को परिवर्तन करने वाले महान आत्मा भव 
महान आत्मा बनने का आधार है – ”पवित्रता के व्रत को प्रतिज्ञा के रूप में धारण करना” किसी भी प्रकार का दृढ़ संकल्प रूपी व्रत लेना अर्थात् अपनी वृत्ति को परिवर्तन करना। दृढ़ व्रत वृत्ति को बदल देता है। व्रत का अर्थ है मन में संकल्प लेना और स्थूल रीति से परहेज करना। आप सबने पवित्रता का व्रत लिया और वृत्ति श्रेष्ठ बनाई। सर्व आत्माओं के प्रति आत्मा भाई-भाई की वृत्ति बनने से ही महान आत्मा बन गये।
स्लोगन:-अपने पवित्र श्रेष्ठ वायब्रेशन की चमक विश्व में फैलाना ही रीयल डायमण्ड बनना है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 27 NOVEMBER 2017 – Aaj Baba ne Kaha

To Read 26 November Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*27.11.2017*

★【 *आज का पुरुषार्थ* 】★

याद-याद-याद, भारी कर देता है … इसलिए बच्चे ऐसा अनुभव करो कि – चमकते हुए star की किरणों में … प्यार-ही-प्यार में समाते जा रहे हैं … समाते जा रहे हैं … और बस समाते ही जा रहे हैं … … …।

निश्चय रखना है कि हम ही कल्प पहले माला के दाने बने थे, बने हैं और बनेंगे … सो हम, अब भी बनेंगे ही।

बच्चे, हर पल आप अपनी seat पर set रहो और 100% attention दो और अगर फिर भी कोई संस्कार आ जाता है जो आप समझते हो आना नहीं चाहिए तो उसी समय वो संस्कार बाबा को दे दो, उसे स्वयं ही खत्म करने के बजाए बाबा को दे दो।

जब आपने अपना तन-मन-धन बाबा को दे दिया है तो ज़िम्मेवार बाबा हो जाता है। इसलिए इस बात की हमेशा स्मृति रहें।

जब किसी चीज़ की सफाई की जाती है तो कूड़ा निकलेगा ही, जब तक सम्पूर्ण सफाई ना हो जाएं। इसलिए आप हल्का रहकर अपने हर संस्कार पर 100% attention दो और अपनी कमज़ोरी बाबा को दे दो और निश्चिन्त हो अपनी seat पर set हो जाओ।

Seat है ‘‘संतुष्टता’’ की।

अगर कोई कमज़ोर संस्कार आता है, तो उसी समय उसे एक second में अकेले सामना करने के बजाए उसे बाबा को दे दो। बाबा उसे स्वयं भस्म कर देगा। इसलिए हमेशा हमें double light रहना है और हर पल हमें गुणों और शक्तियों की seat पर set रह शिव बाप के साथ combined रहना है।

बाबा हर काम स्वयं ही कर देगा … हमें हल्का रहना है पर 100% attention भी रखना है।
संतुष्टता की seat पर set रहना है।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

【 *Peace Of Mind TV* 】
Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | Reliance # 640 | 
Jio TV |

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 27 November 2017 :- Click Here
28/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें इस रुद्र ज्ञान यज्ञ का बड़ा कदर होना चाहिए क्योंकि इस यज्ञ से ही भारत स्वर्ग बनता है, तुम इस यज्ञ के रक्षक हो”
प्रश्नः-बच्चे, बाप वा टीचर को तलाक अथवा फारकती कैसे और कब देते हैं?
उत्तर:-जब बाप अथवा टीचर को भूल जाते हैं, मुरली मिस करते हैं, पढ़ते वा सुनते नहीं हैं तो गोया बाप को फारकती वा तलाक दे देते हैं। बाबा कहते बच्चे तुम मुझे तलाक कभी नहीं देना।
प्रश्नः-तुम्हारा सत्य ज्ञान मनुष्यों को मुश्किल समझ में आता है, क्यों?
उत्तर:-क्योंकि यह ज्ञान परम्परा नहीं चलता है। अभी ही प्राय:लोप हो जाता है। इस ज्ञान का किसको पता ही नहीं है। यह नया ज्ञान है इसलिए उन्हें समझने में मुश्किल लगता है।
गीत:-पितु मात सहायक …..

ओम् शान्ति। जिसके साथ बच्चों का अभी योग है उनकी बाहर मनुष्य महिमा गाते रहते हैं। तुम उनकी याद में बैठे हो। अपने को आत्मा समझ देह का अभिमान छोड़ एक की ही याद में रहना है। अभी तुम आत्म-अभिमानी बने हो। पहले थे देह-अभिमानी। सतयुग में तुम बाप को नहीं जानते क्योंकि सुख में होते हो तो बाप याद नहीं रहता। यहाँ दु:खों में हो तब पुकारते हो। गायन भी है दु:ख हर्ता – सुखकर्ता। वास्तव में सच्चा-सच्चा हरिद्वार यह है। मनुष्य हरी कहते हैं कृष्ण को, बैकुण्ठ को कृष्ण का हरी द्वार कहते हैं। तुम जानते हो वास्तव में हरी कृष्ण को नहीं कहेंगे। दु:ख हरने वाले को हरी कहेंगे। तुम जानते हो शिवबाबा कृष्ण का द्वार अथवा बैकुण्ठ, सतयुग का द्वार खोलने आया है। कोई मकान बनाते हैं तो कोई ओपनिंग सेरीमनी करते हैं ना। तो बाबा आया है हरी द्वार की सेरीमनी करने। कृष्ण की राजधानी में कंस तो होता नहीं है। बाप द्वारा हम स्वर्ग का वर्सा ले रहे हैं। बाप ही आकर स्वर्ग के स्थापना की सेरीमनी कर रहे हैं। स्थापना को सेरीमनी कहा जाता है। मकान का पहला फाउन्डेशन लगाया जाता है फिर मकान बनकर पूरा होता है फिर सेरीमनी की जाती है। तो बाप फाउन्डेशन लगाने आया है। 1937 में फाउन्डेशन लगाया, अब फिर तुम स्थापना कर रहे हो। तुमको खुशी है कि बाबा आया है नई दुनिया स्थापन करने और हम नई दुनिया में जा रहे हैं। इस पृथ्वी पर स्वर्ग था, अब फिर स्थापन कर रहे हैं। हर एक को पैगाम दे रहे हैं। धर्म स्थापक को पैगम्बर कहा जाता है ना। सच्चा-सच्चा पैगाम मैं ही देता हूँ। मैं ही राजयोग सिखला कर स्वर्ग की स्थापना करा रहा हूँ। बाप समझाते हैं कि मैं वेद-शास्त्रों से नहीं मिलता हूँ। यह सब भक्ति मार्ग के शास्त्र हैं। भक्तिमार्ग की बहुत सामग्री है। जन्म-जन्मान्तर से तुम भक्ति करते आये हो। अब ज्ञान सुनो फिर सतयुग में ज्ञान नहीं सुनेंगे। कहा जाता है ज्ञान अंजन सतगुरू दिया। सतयुग में अंधकार है नहीं जो भक्ति करें। बाप से ज्ञान लो फिर भक्ति नहीं रहेगी।

तुम जानते हो रावण राज्य किसको कहा जाता है, रामराज्य किसको कहा जाता है। तुमको सारी रोशनी मिली है क्योंकि बाप जगाते हैं। अब देखो दीपावली मनाते हैं, उसमें दीपक कोई छोटे, कोई बड़े बनाते हैं। अब यह छोटे बड़े दीपक जग रहे हैं ना, ज्ञान का घृत मिल रहा है। मनुष्य मरते हैं तो दीपक में घृत डालते रहते हैं कि प्राणी अन्धियारे में ठोकरे न खाये। वह हैं हद की बातें, तुम्हारी हैं बेहद की बातें। जब रावणराज्य शुरू होता है तो ठोकरें खाना शुरू होती हैं। अभी दिन प्रतिदिन अधिक ही ठोकरें खाते रहते हैं। पहले एक की भक्ति करते अब तो मनुष्यों की, टिवाटे की भक्ति करते हैं। भक्ति की बहुत सामग्री है, जितनी वृक्ष की सामग्री है। बीज से कितना बड़ा वृक्ष निकलता है, भक्ति भी इतनी है। ज्ञान है बीज, यह सृष्टि तो अनादि अविनाशी है। इनका कब विनाश नहीं होता। यह सृष्टि चक्र लगाती रहती है। बीज भी एक है तो झाड़ भी एक है। ऐसे नहीं आकाश में, पाताल में, सूर्य में, चांद में दुनिया है। यह तो साइंस वाले चन्द्रमा में जाकर रहने की कोशिश करते हैं। परन्तु यह नहीं जानते कि साइंस से सारी दुनिया का विनाश होना है और राज्य तुम ले लेंगे। तुम कहेंगे यह भी ड्रामा में नूंध है। दूसरे इन बातों को समझेंगे नहीं। राजाई तुमको मिलनी है क्योंकि कनेक्शन है कृष्णपुरी और क्रिश्चियनपुरी का। इन्होंने भारतवासियों को आपस में लड़ाकर कृष्णपुरी को क्रिश्चियनपुरी बनाया। अब बाप कहते हैं हिसाब लेना है, इनको आपस में लड़ाकर माखन तुमको देते हैं अथवा तुमको विश्व का मालिक बनाते हैं। यह आपस में लड़ेंगे जरूर। वह समझते हैं हम पहलवान, वह कहते हैं हम पहलवान, हम जीतेंगे लेकिन सबसे पहलवान तो तुम निकल पड़े हो। जीत तुम्हारी होनी है। महावीर और महावीरनी कहा जाता है। बाप कहते हैं माया के तूफान तो आयेंगे परन्तु कर्म में नहीं आना। योगबल से स्थापना हो रही है और बाहुबल से विनाश हो रहा है। उठते-बैठते, चलते-फिरते बाप को याद करना है, इसको कहा जाता है योगबल। फिर ज्ञान बल कहा जाता है। ज्ञान बल क्यों कहा जाता है? क्योंकि शास्त्रों में बल नहीं हैं। उनसे कोई को मुक्ति-जीवनमुक्ति नहीं मिल सकती, इसलिए उनको ज्ञान नहीं कहा जाता। भक्ति के शास्त्र कहेंगे। ज्ञान का कोई शास्त्र होता नहीं। अब जो राम के पुस्तक बने हैं वा जो भी शास्त्र आदि हैं, सब लड़ाई में खत्म हो जायेंगे। झूठी गीता, सच्ची गीता सब खत्म हो जायेगी क्योंकि सद्गति मिल जाती है। सब कामनायें पूरी हो जाती हैं। कोई कामना रहेगी नहीं। अब तुम 84 के चक्र को जानते हो। तुम अभी बेअन्त नहीं कहेंगे। बेअन्त कहते हैं नास्तिक। कहते हैं गॉड फादर परन्तु नाम रूप देश काल कर्तव्य को नहीं जानते। तुम उनके नई दुनिया की स्थापना, पतितों को पावन करने के कर्तव्य को जान गये हो। मनुष्य तो रावण को जलाते हैं। तुमको तो अब हंसी आती है। जन्म-जन्मान्तर तुम भी रावण को जलाते थे। अभी तो रावणराज्य का विनाश होना है फिर आती है दीपावली। वहाँ घोर सोझरा है, उसको रामराज्य कहते हैं। कहते तो सब हैं कि रामराज्य चाहिए। परन्तु रामराज्य को जानते नहीं। अभी तुमको ज्ञान मिल रहा है और रावणराज्य ट्रांसफर होना है रामराज्य में। उससे पहले तुम जायेंगे रूद्रमाला में। और यह जो इस्लामी, बौद्धियों की आत्मायें हैं, वह आधाकल्प मुक्ति में रहेंगी। जब हमारी सतयुग की प्रालब्ध पूरी होगी तब भक्ति शुरू होगी। फिर द्वापर को रावणराज्य कहा जाता है क्योंकि अपने देवता धर्म को भूल गये हैं। यह होना है जरूर। मिसाल बड़ के झाड़ का देते हैं। बच्चे जानते हैं कि आदि सनातन देवी-देवता धर्म का फाउन्डेशन प्राय:लोप हो चुका है। सब धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट हो गये हैं। जब देवी देवता धर्म स्थापन हो तब यह सब धर्म विनाश हो जाएं। कहते भी हैं अनेक अधर्म विनाश, एक सत धर्म की स्थापना हो। यहाँ वर्सा पाने का तुम पुरूषार्थ कर रहे हो। जो धारणा करेंगे करायेंगे, वह ऊंच पद पायेंगे। बाप कहते हैं मुख्य बात जरूर धारण करो कि हमको निराकार बाप पढ़ाते हैं। कृष्ण नहीं पढ़ाते हैं। चित्र भी बनाया है – एक तरफ कृष्ण का चित्र, दूसरे तरफ शिव का। पूछना है अब बताओ गीता का भगवान कौन? जज करो तुमको समझाने में बहुत सहज होगा कि गीता का भगवान कृष्ण नहीं शिव है। तुमको मालूम है गीता का ज्ञान फिर से बाप दे रहे हैं। गीत में भी है गीता का ज्ञान फिर से सुनाना पड़े। गीत तो तुमने नहीं बनाये हैं। बनाने वाले तो मनुष्य ही हैं, परन्तु अर्थ को नहीं जानते। कहते हैं गीता के भगवान ने ज्ञान घोड़े गाड़ी में बैठकर दिया। कृष्ण के लिए कोई घोड़े गाड़ी थोड़ेही आयेगी। अगर कृष्ण होता तो उनके लिए अच्छे से अच्छी गाड़ी ले आयें। बड़े-बड़े धनवान आ जायें। यहाँ तो देखो अपनी मोटर (शरीर) भी नहीं है। आता ही हूँ पतित शरीर में। तो गुप्त है ना। कृष्ण की तो बात नहीं। फिर तुम भक्ति मार्ग में मेरा कितना मान रखते हो। सोमनाथ का मन्दिर बनाते हो। कोई एक मन्दिर थोड़ेही होगा, अनेक होंगे फिर उन्हें लूटा भी होगा। तो सारी बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी को तुम जान गये हो। बाप को कहते हैं नॉलेजफुल। तो यहाँ ज्ञान भी दिया जाता है, पढ़ाई भी पढ़ाई जाती है। ज्ञान है मनमनाभव, इससे सद्गति होती है। फिर मध्याजीभव की पढ़ाई पढ़ाते हैं। टीचर और गुरू का पार्ट इकट्ठा चलता है। सारे वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी तुमको पढ़ाते हैं।

सच्ची-सच्ची नन्स तुम हो क्योंकि तुम एक को याद करती हो। नन्स को गले में क्रास पड़ा रहता है। क्राइस्ट को याद करती हैं, समझती हैं क्राइस्ट गॉड का बच्चा था। तुम जानते हो कि क्राइस्ट कोई गॉड का बच्चा नहीं था, क्राइस्ट की आत्मा गॉड का बच्चा थी। ऐसे तो हम सभी हैं। बाप आकर 3 धर्म स्थापन करते हैं। तुम ऊंचे ते ऊंची चोटी ब्राह्मण हो क्योंकि तुम ऊंच ते ऊंच विश्व की सेवा करते हो। मनुष्य को आत्मा का ज्ञान देते हो। तुम आत्मा को बाप से वर्सा मिलता है। बरोबर बाप कल्प-कल्प के संगमयुगे वर्सा देने आते हैं। शास्त्रों में तो युगे-युगे लिख दिया है। कल्प अक्षर बीच से निकाल दिया है। उनका नाम ही है पतित-पावन। तो युगे-युगे आकर क्या करेंगे। कल्प में एक बार आकर पावन बनाकर चले जाते हैं। तो बाप कहते हैं मुझे तलाक मत देना। आजकल स्त्रियाँ पति को तलाक दे देती हैं वैसे हिन्दू नारी पति को कभी तलाक नहीं देती थी। तुमको मुरली सुननी है जरूर। मुरली नहीं सुनते हो तो गोया बाप टीचर को भूल जाते हो, यह भी जैसे तलाक हो गया। तुमको भी कितना अटेन्शन देना है। अब नापास होंगे तो कल्प-कल्पान्तर नापास होंगे। अन्त में सबको मालूम पड़ जायेगा कि किस-किस ने कितनी पढ़ाई पढ़ी थी। सब कहते हैं कि शान्ति चाहिए। गोया मुक्ति चाहते हैं। कहते हैं कि दु:ख में सिमरण सब करें… तो आधाकल्प सुख और आधाकल्प दु:ख है। सुख दु:ख का खेल भारत पर ही है। तुम तो कहेंगे हम ही देवता, हम ही क्षत्रिय….. तो हम सो का अर्थ भी तो कोई नहीं जानते हैं। तो बाप कहते हैं मनमनाभव, मध्याजीभव। खुद धारण कर औरों को धारण करायें तो अहो सौभाग्य। याद से ही विकर्म विनाश होंगे। कहाँ गंगा में स्नान करना, कहाँ योग में रह पावन बनना।

बच्चों को यज्ञ के पैसे की बहुत कदर होनी चाहिए क्योंकि इससे भारत स्वर्ग बनता है। बाप है गरीब निवाज। गरीबों की पाई-पाई पड़ेगी तब वह साहूकार बनेंगे। स्वर्ग में हेल्थ, वेल्थ, हैपीनेस है। अगर हेल्थ वेल्थ है तो हैपीनेस भी है। अगर हेल्थ हो वेल्थ न हो तो हैपीनेस हो नहीं सकती। सतयुग में हेल्थ वेल्थ है तो सदैव हैपी रहते हैं। वहाँ कभी रोते नहीं हैं। तो तुमको भी यहाँ रोना नहीं है। परन्तु माया के तूफान मुरझा देते हैं। हेल्थ मिलती है हॉस्पिटल से और वेल्थ मिलती है पढ़ाई से। तो देखो मेरे बच्चे कितने गरीब हैं। तीन पैर पृथ्वी में हॉस्पिटल खोल देते हैं। जहाँ से ही सबको हेल्थ वेल्थ मिलती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) माया के तूफानों में कभी मुरझाना नहीं है। सदैव खुशी में रहना है।

2) हमको निराकार बाप पढ़ाते हैं, इस नशे में रहना है। इस झूठी दुनिया में कोई भी कामना नहीं रखनी है।

वरदान:-डबल लाइट स्थिति द्वारा उड़ती कला का अनुभव करने वाले सर्व आकर्षण मुक्त भव 
अभी चढ़ती कला का समय समाप्त हुआ, अभी उड़ती कला का समय है। उड़ती कला की निशानी है डबल लाइट। थोड़ा भी बोझ होगा तो नीचे ले आयेगा। चाहे अपने संस्कारों का बोझ हो, वायुमण्डल का हो, किसी आत्मा के सम्बन्ध-सम्पर्क का हो, कोई भी बोझ हलचल में लायेगा इसलिए कहीं भी लगाव न हो, जरा भी कोई आकर्षण आकर्षित न करे। जब ऐसे आकर्षण मुक्त, डबल लाइट बनो तब सम्पूर्ण बन सकेंगे।
स्लोगन:-स्नेह का चुम्बक बनो तो ग्लानि करने वाले भी समीप आकर स्नेह के पुष्पों की वर्षा करेंगे।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

TODAY MURLI 28 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 November 2017 :- Click Here

28/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence:Sweet children, you should value this sacrificial fire of Rudra a great deal because it is through this sacrificial fire that Bharat becomes heaven. You are the protectors of this sacrificial fire.
Question:How and when do you children divorce the Father and the Teacher ?
Answer:When you forget the Father and the Teacher, when you miss the murli, when you don’t study or listen to it, it means you divorce the Father. Baba says: Children, never divorce Me!
Question:Why is it that people find it difficult to understand your true knowledge?
Answer:It is because this knowledge doesn’t continue from time immemorial; it is now to disappear. No one knows about this knowledge. This knowledge is new and this is why they find it difficult to understand.
Song:You are the Mother, Father, Helper, Swami, Friend and Protector of All.

Om shanti. People outside are now singing praise of the One with whom you children have yoga. You are sitting in remembrance of Him. You have to consider yourselves to be souls, renounce the arrogance of the body and stay in remembrance of the One alone. You have now become soul conscious. Previously, you were body conscious. In the golden age you didn’t know the Father because when you are in happiness you don’t remember the Father. When you are in sorrow here, it is then that you call out to Him. It is remembered that He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. In fact, the true Haridwar (Hari dwar-Gateway to God) is this. People refer to Krishna as Hari. They say that Vaikunth (Paradise) is the Haridwar of Krishna. You know that Krishna cannot in fact be called Hari. The One who removes your sorrow is called Hari. You know that Shiv Baba has come to open the door to Krishna, that is, the door to Vaikunth and the golden age. When a building is built, people have an opening ceremony. Therefore, Baba has come to carry out the ceremony of Haridwar. Kans, the Devil, doesn’t exist in Krishna’s kingdom. We are claiming our inheritance of heaven from the Father. The Father Himself has come and is now carrying out the ceremony of the establishment of heaven. Establishment is said to be a ceremony. First, the foundation of a building is laid and then, when the building is completed, a ceremony is held. So, the Father came to lay the foundation. He laid the foundation in 1937. You are now carrying out establishment once again. You have the happiness that Baba has come to establish the new world and that you are now going to the new world. There was heaven on this earth. We are now establishing that once again. We are giving everyone the message. The founder of a religion is called a messenger. It is I who give you the true message. Only I teach you Raja Yoga and I am now inspiring the establishment of heaven. The Father explains that He cannot be found in the Vedas and scriptures. All of those scriptures belong to the path of devotion. There is a lot of paraphernalia on the path of devotion. You have been performing devotion for birth after birth. Listen to knowledge now because you won’t hear it in the golden age. It is said that the darkness of ignorance was dispelled when the Satguru gave you the ointment of knowledge. There is no darkness in the golden age for which you would have to perform devotion. Take knowledge from the Father and then devotion won’t remain. You know what Ravan’s kingdom is and what Rama’s kingdom is. You have now received total light because the Father has awakened you. Now, look! Diwali is celebrated and so people make small and large earthenware lamps. You small and large lamps are now being ignited and are receiving the oil of knowledge. When a person dies, people continue to pour oil into a lamp so that that departed soul doesn’t stumble in the darkness. That is something limited whereas yours is unlimited. When Ravan’s kingdom begins, people begin to stumble. Now, day by day, they stumble a lot more. Previously, there was only the worship of One, whereas people now even worship human beings and perform devotion at T-junctions etc. There is a lot of paraphernalia of devotion, just like a tree that has many branches. Such a big tree emerges from its seed. There is just as much devotion. Knowledge is the seed. This world is eternal and imperishable; it is never destroyed, it continues to go around the cycle. There is just one Seed and one tree. It isn’t that there is a world up above in the sky, one down below, one on the sun and one in the moon etc. Scientists go to the moon and try to live there. However, they don’t know that the whole world is to be destroyed through science and that you will then claim the kingdom. You would say that this too is fixed in the drama. Others will not understand these things. You are to receive the kingdom because there is a connection between the land of Krishna and the land of Christians. They made the people of Bharat fight among themselves and made the land of Krishna into the land of Christians. The Father now says: The account has to be settled. They will fight among themselves and you will be given the butter, that is, He makes you into the masters of the world. They will definitely fight among themselves. One side believes that they are very strong and the other side believes that they are strong and that they will win. However, you turn out to be the strongest of all. You are to be victorious. It is said: Mahavir and mahavirni (female). The Father says: Storms of Maya will come, but you mustn’t put them into action. Establishment is taking place with the power of yoga whereas destruction takes place with physical power. While walking, moving around and sitting, you have to remember the Father. This is known as the power of yoga. Then there is also the power of knowledge. Why is it called the power of knowledge? Because there is no power in the scriptures. No one can receive liberation or liberation-in-life from those and this is why that is not called knowledge. They are called the scriptures of devotion. There are no scriptures of knowledge. All the books of Rama that have been written and all the scriptures etc. will be destroyed in the War. The true Gita and the false Gita will also be destroyed because you will have received salvation. All your desires will have been fulfilled. No desires will then remain. You now know the cycle of 84 births. You no longer speak of God being infinite. Atheists say that God is infinite. They speak of God, the Father, but they don’t know His name, form, land, time period or His tasks. You now know about His tasks of establishing the new world and of making impure ones pure. People burn an effigy of Ravan. You are now amused by all of that. You too used to burn Ravan for birth after birth. Ravan’s kingdom is now to be destroyed and then there will be Deepawali. There is extreme light there. That is called the kingdom of Rama (God). Everyone says that they want there to be the kingdom of Rama, but they don’t know the kingdom of Rama. You are now receiving knowledge. The kingdom of Ravan is now to be transferred into the kingdom of Rama. Before that, you will become part of the rosary of Rudra. The souls who belong to the religions of Islam and Buddhism will remain in liberation for half the cycle. Devotion will begin when your reward of the golden age comes to an end. Then the copper age is called Ravan’s kingdom because they forgot their deity religion. This definitely has to happen. They give the example of a banyan tree. You children know that the foundation of the original eternal deity religion has disappeared. Everyone has become corrupt in their religion and their action. Only when the deity religion is established will all the other religions be destroyed. It is said: Destruction of the many false religions and establishment of the one true religion. You are making effort here to claim your inheritance. Those who imbibe this and inspire others to do so will receive a high status. The Father says: You definitely have to imbibe the main thing that the incorporeal Father is teaching you. It isn’t Krishna who is teaching you. Pictures have been made in which there is an image of Krishna on one side and an image of Shiva on the other side. Ask them: Now, tell us: Who is the God of the Gita? Judge for yourself! It will be very easy for you to explain that the God of the Gita is not Krishna, but Shiva. You know that the Father is once again giving you the knowledge of the Gita. You also sing in the song: You have to tell us the knowledge of the Gita once again. You didn’t compose those songs. It was human beings who composed those songs, but they don’t know the meaning of them. They say that the God of the Gita sat in a horse chariot and gave knowledge. A horse chariot would not come for Krishna. If it were Krishna, then the best car would be brought for him. Many wealthy people would come. Here, look at that One: He doesn’t even have His own motor (body). I enter an impure body. Therefore, this is incognito. It is not a question of Krishna. However, you then pay Me so much respect on the path of devotion. You build the Somnath Temple to Me. There wouldn’t be just one temple; there would be many of them and they would then be looted. You now know the unlimited history and geography. The Father is called knowledgefull. Here, you are given knowledge. An education is also given here. Knowledge is “Manmanabhav” and you receive salvation through that. Then you are taught “Madhyajibhav”. The parts of the Teacher and the Guru continue side by side. You are taught the history and geography of the whole world. You are true nuns because you remember the One. Nuns wear a cross around their necks. They remember Christ and believe that Christ was the son of God. The Father comes and establishes three religions. You Brahmins are the highest topknot because you do the highest service of the world. You give human beings knowledge of souls. You souls receive the inheritance from the Father. The Father truly comes at the confluence age of the cycle to give you the inheritance. In the scriptures they have written that He comes in every age. They have removed the word ‘cycle’ from that. He is called the Purifier. So, what would He do coming in every age? He comes once in the cycle, purifies you and then goes back. The Father says: Don’t divorce Me! Nowadays, women divorce their husbands. Previously, a Hindu wife would never divorce her husband. You definitely have to listen to the murli. When you don’t listen to the murli, it means that you have forgotten the Father and the Teacher. This is like divorcing Him. You have to pay so much attention. If you fail now, you fail every cycle. At the end, everyone will know how much each one of you has studied. Everyone says that they want peace, that is, they want liberation. It is said that everyone remembers God at a time of sorrow. Therefore, there is happiness for half the cycle and sorrow for half the cycle. The play of happiness and sorrow is based on Bharat. You say that you were the deities, you were the warriors… No one knows the meaning of ‘hum so’. The Father says: “Manmanabhav”, “Madhyajibhav”! If you yourselves imbibe it and then inspire others to do so, that is then your great fortune. Only by having remembrance will your sins be absolved. There is a vast difference between bathing in the Ganges and staying in yoga and becoming pure. You children should have a lot of value for the money of the yagya because it is through this that Bharat becomes heaven. The Father is the Lord of the Poor. Only when every penny of the poor is used will they become wealthy. In heaven you have healthwealth and happiness. When you have health and wealth, you also have happiness. If you have health, but no wealth, there cannot be happiness. In the golden age they have health and wealth and so they remain constantly happy. They never cry there. Therefore, you too mustn’t cry here. However, storms of Maya make you wilt. You receive health at the hospital and wealth through the study. So, just look how poor My children are! They open a hospital on three feet of land where everyone can receive health and wealth. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never wilt because of storms of Maya. Remain constantly happy.
  2. Maintain the intoxication that the incorporeal Father is teaching you. Don’t have any desires in this false world.
Blessing:May you be free from all attractions and with your double-light stage, experience the flying stage.
The time for the ascending stage has now finished and it is now the time for the flying stage. The sign of the flying stage is being double light. The slightest burden would bring you down. Even if it is the burden of your own sanskars, the atmosphere, a connection and relationship with any soul, any type of burden will bring upheaval. Therefore, let there not be any attachment to anyone. Don’t let the slightest attraction attract you. When you become free from attraction and double light, you will be able to become perfect.
Slogan:Become a magnet of love and then even those who defame you will come close to you and shower you with flowers.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize