BRAHMAKUMARIS Aaj Ka Purusharth 15 MAY 2019 – आज का पुरूषार्थ

Om Shanti
15.05.2019

★【 आज का पुरूषार्थ】★

बाबा कहते हैं … बच्चे, हाहाकार का समय अर्थात् दुःख और अशान्ति वाला समय जोकि बस आने ही वाला है, उस समय इन आँखों से जो कुछ भी देखते हो, वो कुछ काम नहीं आने वाला…।

बस, आपकी अपनी स्व-स्थिति जो आपने बाप की श्रीमत प्रमाण चल बनाई है, वो ही काम आयेगी…।

इसलिए, धैर्यतापूर्वक love and light का अभ्यास करते जाओ। समय परिवर्तन हुआ कि हुआ…।

Love and light का अभ्यास अर्थात् स्वयं को point of light समझ, Supreme point of light के पास जाकर बैठ, सारे विश्व में light ही light फैला दो … अर्थात् प्यार के सागर के पास जाकर master प्यार का सागर बन बैठ जाओ और पूरे विश्व पर यह प्रेम की light-might की किरणें फैला दो…।
अब आँखों को जब भी use करो, तो सबकुछ light ही देखो, वो भी बहुत प्रेम के साथ…।

अपने सारे इस स्थूल दुनिया के संकल्प बाप को समर्पण कर स्वयं को शुभ संकल्पों से भरपूर रखो। फिर तो देखते ही देखते आप मास्टर भगवान बच्चे, समय को चलाने वाले बन जाओगे…।

आपकी मन्सा में कभी भी यह संकल्प ना आये कि हम इतने समय से पुरूषार्थ कर रहे हैं…! इस संकल्प से आप दिलशिकस्त हो जाओगे, थक जाओगे या फिर हार ही खा जाओगे…!

देखो बच्चे, प्राप्तियाँ असीम है जोकि शुरू ही होने वाली हैं। बाप पर निश्चय ही आपकी विजय का आधार है।

निश्चय अर्थात् बाप की एक-एक बात पर निश्चय…।

बच्चे, अचल-अडोल रहना है। जो भी छोटी-छोटी हलचल के scene सन्मुख आ रहे हैं … बस वो आपकी checking के लिए आ रहे हैं…, इसलिए स्वयं अचल रह, हर बात को drama के scene की तरह cross कर दो।

बस जल्दी ही drama change होने वाला है। 
इसलिए प्रेमपूर्वक आगे बढ़ते रहो…।

बस, आपके कल्याण अर्थ छोटी-छोटी problems आ रही हैं, इसे किनारे कर बाप को अपना सहारा बना अर्थात् बाप पर निश्चय रख, बाप पर समर्पण हो अंगुली पकड़, चलते चलो। बाप जल्द से जल्द आप बच्चों को आपकी मंज़िल तक पहुँचायेगा…।

बस बच्चे, हर second स्वयं का कल्याण समझो…।

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Font Resize