12 july ki murli

TODAY MURLI 12 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 12 July 2020

12/07/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
22/02/86

Spiritual service, altruistic service.

Today, the Father, the World Benefactor of all souls, is seeing His server children who are His companions in service. From the beginning, server children have been BapDada’s companions; BapDada made the children into incognito instruments and has now revealed them to do world service until the end. In the beginning, Father Brahma and the Brahmin children were incognito instruments for service. Now, the Shakti Army and the Pandava Army of the server children are carrying out a task in front of the world very visibly. Very good zeal and enthusiasm for service can be seen in the majority of children. There has been love for service from the beginning and that will remain till the end. Brahmin life is a life of service. Brahmin souls cannot survive without service. The elevated method for protecting yourself from Maya and for staying alive is service alone. Service also makes you yogyukt. But, which service? One is service of the mouth, the service of relating what you have heard. The other is the service of speaking through your mind, to become an embodiment of the sweet words you have heard, to serve through your form – altruistic service, service through renunciation and tapasya, altruistic service that is beyond limited desires. This is called Godly service, spiritual service. The service of just serving with the mouth is called service simply to please oneself. In order to please everyone, service with the mind and mouth has to take place at the same time. To serve with the mind means to serve with words while in the state of “Manmanabhav”.

Today, BapDada was seeing both His right-hand, server-children and His left-hand server-children. Both types are servers but there is a difference between the right and the left. The right hand is always an altruistic server. The left hand becomes an instrument for service with the desire of eating one limited fruit of service or other in this birth. That one is an incognito server and the other is a server for name. One moment he does service and the next moment earns a name: Very good! Very good! However, you do something now, and you instantly eat the fruit; you don’t accumulate in your account. An incognito server means an altruistic server. One is an altruistic server and the other is a server wanting a name. Even though an incognito server remains incognito in name at the present time, he remains constantly filled with the happiness of success. Some children think: I am doing everything, but my name is not mentioned, whereas the names of those who earn fame in service with external show are mentioned a great deal. However, it is not like that. The sounds from the hearts of those who earn an imperishable name altruistically reaches the heart. It cannot remain hidden. The sparkle of being a true server is definitely visible on his face and in his form. If a server for name earns his name here, then, although that was done for the future, he ate the fruit and finished it, and so he didn’t make the future elevated or imperishable. This is why BapDada has a complete record of all the servers. Continue to do service and do not think about earning a name. Think about accumulating. Claim a right to the imperishable fruit. Each of you has come here for an everlasting inheritance. If you eat the fruit of service for a temporary period, then the right to an everlasting inheritance will be reduced. Therefore, remain an altruistic server who is free from temporary desires. Become a right hand and continue to move forward in service. There is greater importance in making incognito donations and doing incognito service. Such a soul would always remain full within himself; he would be a carefree emperor and not be concerned about name or fame. He would be a carefree emperor in this, that is, he would always be seated on the throne of self-respect – not on a throne of limited respect. He is seated on the throne of self-respect and seated on an everlasting throne. He is seated on the throne of eternal and infinite attainment. This is known as being a world-benefactor server. Never move backwards in attaining success by having ordinary thoughts in the task of world service. Constantly attain success with renunciation and service and continue to move forward. Do you understand?

Who is called a server? So, are all of you servers? Any service that makes your stage fluctuate is not service. Some think that there is a lot of fluctuation in service. There are obstacles in service and it is service that makes you free from obstacles. However, any service that takes on the form of an obstacle is not service. That would not be called true service; that would only be called service in name. True service is a true diamond. Just as the sparkle of a true diamond can never remain hidden, similarly, true servers are true diamonds. No matter how beautiful the sparkle of an artificial diamond may be, which one is valuable? It is the real diamond that has value. An artificial one doesn’t have that value. True servers are invaluable jewels. A true server has value for many births. Service only in name shows a temporary sparkle. Therefore, become a constant server and continue to benefit the world with service. Do you understand what the importance of service is? No one is any less than the other. Each one of you is a special server with your own individual speciality. Do not consider yourself to be any less. Then, after doing something, do not have any desire to earn a name for yourself. Continue to surrender your service to world benefit. Generally, on the path of devotion, those who are incognito donors, charitable souls, always think that everything should be for the benefit of everyone. They don’t think that there should be something in it for them or that they should receive some fruit. No, let everyone receive the fruit. They would be surrendered to serve everyone. They would not have any desires just for themselves. So, serve everyone in this way. Continue to accumulate in the bank of benefit for everyone. What will you then all become? Altruistic servers. If no one asks about you now, they will ask about you for 2500 years. If someone asks about you for one birth or for 2500 years – which is greater? That is greater, is it not? Remain beyond limited thoughts, become an unlimited server, a carefree emperor seated on the Father’s heart throne and continue to celebrate in the happiness and pleasure of the confluence age. If any service makes you unhappy, then understand that that is not service. If anything makes you fluctuate or brings you into upheaval, then that is not service. Service is something that makes you fly. Service makes you an emperor of the land without sorrow. You are such servers, are you not? Carefree emperors, emperors of the land without sorrow. Furthermore, success itself follows such souls, they do not chase after success. Success always follows them. Achcha. You are making plans for unlimited service, are you not? Plans made for unlimited service with an unlimited stage are easily successful. (Double-foreign brothers and sisters have made a plan in which they want to ask all souls for a donation of a few minutes of peace – Million Minutes of Peace Appeal.)

This plan you have made for making the world a great donor is good. Whether they do it out of desperation or love, the sanskars of peace will emerge for a short time. Even if they follow a programme, at least the sanskars of peace do emerge, because the original religion of souls is peace anyway. You are the children of the Ocean of Peace, you are also residents of the land of peace. So, even by them bringing that out according to the programme, that power of peace will continue to attract them. It is said that even if someone has only tasted something sweet once, then, whether they receive something sweet or not, the taste of sweetness that they had will repeatedly pull them. So, this too is like tasting the honey of peace. So, these sanskars of peace will automatically continue to remind them. Therefore, let there gradually be an awakening of peace in souls. This is also giving those souls a donation of peace as well as making them donors. The pure thought that all of you have is that souls should experience peace in whatever way possible. World peace will also be based on peace in souls, will it not? Nature (the elements) also functions on the basis of human beings. The elements of nature will become peaceful when souls become aware of peace. Then, it doesn’t matter in what way they do that, but they will have at least gone beyond peacelessness, and a minutes peace will continue to attract them again and again. Therefore, you have made a good plan. This is like giving people a little oxygen and enabling them to take a breath of peace. They are, in fact, unconscious without the breath of peace. Therefore, this plan is like oxygen. Some are able to start breathing a little. Some can be revived with the oxygen. So, first of all, you all have to become peace houses all the time with zeal and enthusiasm and give rays of peace. Then, with the help of your rays of peace and with your thoughts of peace, they will have the thought that they will also do that somehow. However, the vibrations of peace of all of you will pull them to the right method. This is also the way to show a ray of hope to those who have lost hope. It is a means of creating hope in those who have become hopeless. As much as possible, to whatever extent anyone comes into contact with you, you definitely have to try to tell them about soul-conscious peace and peace of mind in a few words, because everyone will definitely have their names added. Even if they do it through correspondence, they will come into connection with you, will they not? They would come into the list, would they not? So, as much as possible, try to clarify in a few words the meaning of peace. A soul can have that awakening in even a minute. Do you understand? All of you like the plan, do you not? Others simply do work just in name, whereas you do real work. Since you are the messengers of peace, this sound from the messengers of peace will echo everywhere and the angels of peace will continue to be revealed. Simply discuss this amongst yourselves and find a word to be added to the word “peace”, a word that seems different from other worldly things. People in the world use words such as “Peace March” or “Peace”. So, along with the word “Peace”, let there be a special word that is universal, so that as soon as people hear it, they feel that that is something different. So, invent something. However, this is a good thing. For as long as this programme continues, no matter what happens, you yourselves at least must not become peaceless or make others peaceless for that time. You must not let go of peace. First of all you Brahmins have to tie this bracelet on yourselves (make this promise). Since you Brahmins are thinking of tying this bracelet on them, you will only be able to tie it on others when you first tie this bracelet on yourselves. What thought did all of you have for the Golden Jubilee? You had the thought that you would not become a problem, did you not? Continue to underline this again and again. Let it not be that you become a problem and then say that you will not become an embodiment of problems. So, you would like to tie this bracelet, would you not? First of all, on yourself and then on the world. You yourself are able to make an impact on the world. Achcha.

Today, it is the turn of Europe. Europe too is very big, is it not? To the extent that Europe is big, do those from Europe, also have big hearts? To the extent that there is expansion in Europe, there is essence in service. Where did the spark of destruction emerge from? It emerged from Europe, did it not? So, just as the means of destruction emerged from Europe, similarly, for the task of establishment, special souls from Europe have to be revealed. Just as bombs were initially prepared underground and then put to use, in the same way, such souls are being prepared who are at present incognito and underground. However, they are to be revealed and will continue to be revealed. Just as every country has its own speciality, so there, too, every place has its own speciality. The instruments from Europe will be useful for glorifying the name. Just as the instruments of science have been useful, so too, the instruments from Europe will be instrumental in spreading the sound. It will be Europe that will help in preparing the new world. Things from Europe are always strong. Everyone gives a lot of importance to things from Germany. So, too, important souls who are instruments for service will continue to be revealed. Do you understand? Europe is no less than anywhere else. The curtain of revelation is now beginning to open. At the right time, you will come on stage. It is good that you have had very good expansion in a short time and created a very good creation. Now you are giving the water of sustenance to that creation and making it strong. Just as physical things from Europe are strong, so too, souls from there will also be especially unshakeable and immovable; they will be strong. You are making effort with love. Therefore, effort is not effort, but you have very good love for service. Wherever there is love, obstacles that come immediately finish and you will continue to receive success. In any case, if you look at the quality of total Europe, it is very good. Brahmins are also IPs. In any case, they are IPs. Therefore, make the instrument servers from Europe even stronger by giving them elevated sustenance filled with love and continue, in particular, to bring them on to the field of service. The land is one that will bear fruit. Achcha. You have the speciality that, as soon as you belong to the Father, you begin to make others belong to the Father. You have good courage and, because of this courage, you have the gift that makes service centres continue to expand. Increase the quality and also the quantity. Let there be a balance of the two. The beauty of quantity is different from the beauty of quality. Both are needed. If there is just quality but no quantity, then those who are doing service get tired. This is why both are useful with their own specialities. Both types of service are essential because 900,000 have to be created. Out of 900,000, how many have been created from the foreign lands? (5000). Achcha. At least the number of one kalpa has been completed. The foreign lands have the blessing of coming last and going fast and so you have to go faster than Bharat because those from Bharat have to work hard to prepare the land. The land abroad is not barren. Here, those who have heard bad things first have to be made good again. There, they haven’t heard anything bad, they haven’t heard anything bad or wrong and so they are very clean. Those from Bharat first have to clean their slates and then they have to write on them. According to the time, the foreign lands have the blessing of “last so fast”. So, how many hundreds of thousands will Europe prepare? Just as you have created this programme of “Million Minutes of Peace”, so too, prepare a programme to create subjects in the same way. Subjects can be created, can they not? If you can collect a million minutes, can you not prepare a million subjects? Baba is saying one hundred thousand less than a million, He is only asking for 900,000! Do you understand what those from Europe have to do? Make preparations with a lot of force. Achcha. Double foreigners have double luck. In any case, everyone else only has a chance to listen to one murli, whereas you have received a double chance. You saw the conference and also the Golden Jubilee. You also saw the senior Dadis. You saw Ganga (Ganges), Jamuna, Godavri, Brahmputra etc. (Four main rivers of India). You saw all the senior Dadis, did you not? Take one speciality from each Dadi as a gift and those will be useful. Go with your apron filled with the gifts of specialities. The customs people will not stop you with these gifts. Achcha.

To the elevated souls who are constant world benefactors and true servers, instruments for world service, to the special souls who always attain the birthright of success, to the souls who are close and, through their form, remind others of their own form, to those who always become altruistic servers in an unlimited way and fly in the flying stage, to the doublelight children, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Blessing:May you be a master bestower of liberation and salvation who distributes the holy offering of liberation and salvation through your angelic form.
At present, all souls of the world are crying out because of adverse situations: some because everything is expensive, some crying out physically with their mouths, some because of physical illness, some because of the peacelessness in their minds. Everyone’s vision is going to the Tower of Peace. Everyone is watching to see when there will be the cries of victory after the cries of distress. So, now with your physical angelic form, remove the sorrow of the world. Be a master bestower of liberation and salvation and give the devotees the holy offering (prasad) of liberation and salvation.
Slogan:Only those who put into practical form BapDada’s every order become an example.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

12-07-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 22-02-86 मधुबन

रूहानी सेवा – नि:स्वार्थ सेवा

आज सर्व आत्माओं के विश्व कल्याणकारी बाप अपने सेवाधारी सेवा के साथी बच्चों को देख रहे हैं। आदि से बापदादा के साथ-साथ सेवाधारी बच्चे साथी बने और अन्त तक बापदादा ने गुप्त रूप में और प्रत्यक्ष रूप में बच्चों को विश्व सेवा के निमित्त बनाया। आदि में ब्रह्मा बाप और ब्राह्मण बच्चे गुप्त रूप में सेवा के निमित्त बनें। अभी सेवाधारी बच्चे शक्ति सेना और पाण्डव सेना विश्व के आगे प्रत्यक्ष रूप में कार्य कर रहे हैं। सेवा का उमंग-उत्साह मैजारिटी बच्चों में अच्छा दिखाई देता है। सेवा की लगन आदि से रही है और अन्त तक रहेगी। ब्राह्मण जीवन ही सेवा का जीवन है। ब्राह्मण आत्मायें सेवा के बिना जी नहीं सकती। माया से जिन्दा रखने का श्रेष्ठ साधन सेवा ही है। सेवा योगयुक्त भी बनाती है। लेकिन कौन सी सेवा? एक है सिर्फ मुख की सेवा, सुना हुआ सुनाने की सेवा। दूसरी है मन से मुख की सेवा। सुने हुए मधुर बोल का स्वरूप बन, स्वरूप से सेवा, नि:स्वार्थ सेवा। त्याग, तपस्या स्वरूप से सेवा। हद की कामनाओं से परे निष्काम सेवा। इसको कहा जाता है ईश्वरीय सेवा, रूहानी सेवा। जो सिर्फ मुख की सेवा है उसको कहते हैं सिर्फ स्वयं को खुश करने की सेवा। सर्व को खुश करने की सेवा मन और मुख की साथ-साथ होती है। मन से अर्थात् मनमनाभव स्थिति से मुख की सेवा।

बापदादा आज अपने राइट हैण्डस सेवाधारी और लेफ्ट हैण्ड सेवाधारी दोनों को देख रहे थे। सेवाधारी दोनों ही हैं लेकिन राइट और लेफ्ट में अन्तर तो है ना। राइट हैण्ड सदा निष्काम सेवाधारी है। लेफ्ट हैण्ड कोई न कोई हद की इस जन्म के लिए सेवा का फल खाने की इच्छा से सेवा के निमित्त बनते हैं। वह गुप्त सेवाधारी और वह नामधारी सेवाधारी। अभी-अभी सेवा की अभी-अभी नाम हुआ – बहुत अच्छा, बहुत अच्छा। लेकिन अभी किया अभी खाया। जमा का खाता नहीं। गुप्त सेवाधारी अर्थात् निष्काम सेवाधारी। तो एक है निष्काम सेवाधारी, दूसरे हैं नामधारी सेवाधारी। तो गुप्त सेवाधारी का चाहे वर्तमान समय नाम गुप्त रहता भी है लेकिन गुप्त सेवाधारी सफलता की खुशी में सदा भरपूर रहता है। कई बच्चों को संकल्प आता है कि हम करते भी हैं लेकिन नाम नहीं होता। और जो बाहर से नामधारी बन सेवा का शो दिखाते हैं, उनका नाम ज्यादा होता है। लेकिन ऐसे नहीं है जो निष्काम अविनाशी नाम कमाने वाले हैं उनके दिल का आवाज दिल तक पहुँचता हैं। छिपा हुआ नहीं रह सकता है। उसकी सूरत में, मूर्त में सच्चे सेवाधारी की झलक अवश्य दिखाई देती है। अगर कोई नामधारी यहाँ नाम कमा लिया तो आगे के लिए किया और खाया और खत्म कर दिया, भविष्य श्रेष्ठ नहीं, अविनाशी नहीं इसलिए बापदादा के पास सभी सेवाधारियों का पूरा रिकार्ड है। सेवा करते चलो, नाम हो यह संकल्प नहीं करो। जमा हो यह सोचो। अविनाशी फल के अधिकारी बनो। अविनाशी वर्से के लिए आये हो। सेवा का फल विनाशी समय के लिए खाया तो अविनाशी वर्से का अधिकार कम हो जायेगा इसलिए सदा विनाशी कामनाओं से मुक्त निष्काम सेवाधारी, राइट हैण्ड बन सेवा में बढ़ते चलो। गुप्त दान का महत्व, गुप्त सेवा का महत्व ज्यादा होता है। वह आत्मा सदा स्वयं में भरपूर होगी। बेपरवाह बादशाह होगी। नाम-शान की परवाह नहीं। इसमें ही बेपरवाह बादशाह होंगे अर्थात् सदा स्वमान के तख्त नशीन होंगे। हद के मान के तख्तनशीन नहीं। स्वमान के तख्तनशीन, अविनाशी तख्तनशीन। अटल अखण्ड प्राप्ति के तख्तनशीन। इसको कहते हैं विश्व कल्याणकारी सेवाधारी। कभी साधारण संकल्पों के कारण विश्व सेवा के कार्य में सफलता प्राप्त करने में पीछे नहीं हटना। त्याग और तपस्या से सदा सफलता को प्राप्त कर आगे बढ़ते रहना। समझा!

सेवाधारी किसको कहा जाता है। तो सभी सेवाधारी हो? सेवा स्थिति को डगमग करे वह सेवा नहीं है। कई सोचते हैं सेवा में नीचे ऊपर भी बहुत होते हैं। विघ्न भी सेवा में आते हैं और निर्विघ्न भी सेवा ही बनाती है। लेकिन जो सेवा विघ्न रूप बने वह सेवा नहीं। उसको सच्ची सेवा नहीं कहेंगे। नामधारी सेवा कहेंगे। सच्ची सेवा सच्चा हीरा है। जैसे सच्चा हीरा कभी चमक से छिप नहीं सकता। ऐसे सच्चा सेवाधारी सच्चा हीरा है। चाहे झूठे हीरे में चमक कितनी भी बढ़िया हो लेकिन मूल्यवान कौन? मूल्य तो सच्चे का होता है ना। झूठे का तो नहीं होता। अमूल्य रत्न सच्चे सेवाधारी हैं। अनेक जन्म का मूल्य सच्चे सेवाधारी का है। अल्पकाल की चमक का शो नामधारी सेवा है इसलिए सदा सेवाधारी बन सेवा से विश्व कल्याण करते चलो। समझा – सेवा का महत्व क्या है। कोई कम नहीं है। हरेक सेवाधारी अपनी-अपनी विशेषता से विशेष सेवाधारी है। अपने को कम भी नहीं समझो और फिर करने से नाम की इच्छा भी नहीं रखो। सेवा को विश्व कल्याण के अर्पण करते चलो। वैसे भी भक्ति में जो गुप्त दानी पुण्य आत्मायें होती हैं वो यही संकल्प करती हैं कि सर्व के भले प्रति हो! मेरे प्रति हो, मुझे फल मिले, नहीं, सर्व को फल मिले। सर्व की सेवा में अर्पण हो। कभी अपनेपन की कामना नहीं रखेंगे। ऐसे ही सर्व प्रति सेवा करो। सर्व के कल्याण की बैंक में जमा करते चलो। तो सभी क्या बन जायेंगे? निष्काम सेवाधारी। अभी कोई ने नहीं पूछा तो 2500 वर्ष आपको पूछेंगे। एक जन्म में कोई पूछे या 2500 वर्ष कोई पूछे, तो ज्यादा क्या हुआ। वह ज्यादा है ना। हद के संकल्प से परे होकर बेहद के सेवाधारी बन बाप के दिलतख्तनशीन बेपरवाह बादशाह बन, संगमयुग की खुशियों को, मौजों को मनाते चलो। कभी भी कोई सेवा उदास करे तो समझो वह सेवा नहीं है। डगमग करे, हलचल में लाये तो वह सेवा नहीं है। सेवा तो उड़ाने वाली है। सेवा बेगमपुर का बादशाह बनाने वाली है। ऐसे सेवाधारी हो ना? बेपरवाह बादशाह, बेगमपुर के बादशाह। जिसके पीछे सफलता स्वयं आती है। सफलता के पीछे वह नहीं भागता। सफलता उसके पीछे-पीछे है। अच्छा – बेहद की सेवा के प्लैन बनाते हो ना। बेहद की स्थिति से बेहद की सेवा के प्लैन सहज सफल होते ही हैं। (डबल विदेशी भाई बहनों ने एक प्लैन बनया है जिसमें सभी आत्माओं से कुछ मिनट शान्ति का दान लेना है।)

यह भी विश्व को महादानी बनाने का अच्छा प्लैन बनाया है ना! थोड़ा समय भी शान्ति के संस्कारों को चाहे मजबूरी से, चाहे स्नेह से इमर्ज तो करेंगे ना। प्रोग्राम प्रमाण भी करें तो भी जब आत्मा में शान्ति के संस्कार इमर्ज होते हैं तो शान्ति स्वधर्म तो है ही ना। शान्ति के सागर के बच्चे तो हैं ही। शान्तिधाम के निवासी भी हैं। तो प्रोग्राम प्रमाण भी वह इमर्ज होने से वह शान्ति की शक्ति उन्हों को आकर्षित करती रहेगी। जैसे कहते हैं ना – एक बारी जिसने मीठा चखकर देखा तो चाहे उसे मीठा मिले न मिले लेकिन वह चखा हुआ रस उसको बार-बार खींचता रहेगा। तो यह भी शान्ति की माखी (शहद) चखना है। तो यह शान्ति के संस्कार स्वत: ही स्मृति दिलाते रहेंगे इसलिए धीरे-धीरे आत्माओं में शान्ति की जागृति आती रहे, यह भी आप सभी शान्ति का दान दे उन्हों को भी दानी बनाते हो। आप लोगों का शुभ संकल्प है कि किसी भी रीति से आत्मायें शान्ति की अनुभूति करें। विश्व शान्ति भी आत्मिक शान्ति के आधार पर होगी ना। प्रकृति भी पुरूष के आधार से चलती है। यह प्रकृति भी तब शान्त होगी जब आत्माओं में शान्ति की स्मृति आये। चाहे किस विधि से भी करें लेकिन अशान्ति से तो परे हो गया ना। और एक मिनट की शान्ति भी उन्हों को अनेक समय के लिए आकर्षित करती रहेगी। तो अच्छा प्लैन बनाया है। यह भी जैसे कोई को थोड़ा-सा आक्सीजन दे करके शान्ति का श्वाँस चलाने का साधन है। शान्ति के श्वाँस से वास्तव में बेहोश पड़े हैं। तो यह साधन जैसे आक्सीजन है। उससे थोड़ा श्वाँस चलना शुरू होगा। कईयों का श्वाँस आक्सीजन से चलते-चलते चल भी पड़ता है। तो सभी उमंग उत्साह से पहले स्वयं पूरा ही समय शान्ति हाउस बन शान्ति की किरणें देना। तब आपके शान्ति की किरणों की मदद से, आपके शान्ति के संकल्प से उन्हों को भी संकल्प उठेगा और किसी भी विधि से करेंगे, लेकिन आप लोगों की शान्ति के वायब्रेशन उनको सच्ची विधि तक खींचकर ले आयेंगे। यह भी किसी को जो नाउम्मीद हैं उनको उम्मीद की झलक दिखाने का साधन है। नाउम्मीद में उम्मीद पैदा करने का साधन है। जहाँ तक हो सके वहाँ तक जो भी सम्पर्क में आये, जिसके भी सम्पर्क में आये तो उनको दो शब्दों में आत्मिक शान्ति, मन की शान्ति का परिचय देने का प्रयत्न जरूर करना क्योंकि हरेक अपना-अपना नाम एड तो करायेंगे ही। चाहे पत्र-व्यहार द्वारा करें लेकिन कनेक्शन में तो आयेंगे ना। लिस्ट में तो आयेगा ना। तो जहाँ तक हो सके शान्ति का अर्थ क्या है, वह दो शब्दों में भी स्पष्ट करने का प्रयत्न करना। एक मिनट में भी आत्मा में जागृति आ सकती है। समझा! प्लैन तो आप सबको भी पसन्द है ना। दूसरे तो काम उतारते हैं, आप काम करते हो। जब हैं ही शान्ति के दूत तो चारों ओर शान्ति दूतों की यह आवाज गूंजेगी और शान्ति के फरिश्ते प्रत्यक्ष होते जायेंगे। सिर्फ आपस में यह राय करना कि पीस के आगे कोई ऐसा शब्द हो जो दुनिया से थोड़ा न्यारा लगे। पीस मार्च या पीस यह शब्द तो दुनिया भी यूज़ करती है। तो पीस शब्द के साथ कोई विशेष शब्द हो जो युनिवर्सल भी हो और सुनने से ही लगे कि यह न्यारे हैं। तो इन्वेन्शन करना। बाकी अच्छी बातें हैं। कम से कम जितना समय यह प्रोग्राम चले उतना समय कुछ भी हो जाए – स्वयं न अशान्त होना है, न अशान्त करना है। शान्ति को नहीं छोड़ना है। पहले तो ब्राह्मण यह कंगन बांधेंगे ना! जब उन्हों को भी कंगन बांधते हो तो पहले ब्राह्मण जब अपने को कंगन बांधेंगे तब ही औरों को भी बांध सकेंगे। जैसे गोल्डन जुबली में सभी ने क्या संकल्प किया? हम समस्या स्वरूप नहीं बनेंगे, यही संकल्प किया ना। इसको ही बार-बार अन्डरलाइन करते रहना। ऐसे नहीं समस्या बनो और कहो कि समस्या स्वरूप नहीं बनेंगे। तो यह कंगन बांधना पसन्द है ना। पहले स्व, पीछे विश्व। स्व का प्रभाव विश्व पर पड़ता है। अच्छा!

आज यूरोप का टर्न है। यूरोप भी बहुत बड़ा है ना। जितना बड़ा यूरोप है उतनी बड़ी दिल वाले हो ना। जैसे यूरोप का विस्तार है, जितना विस्तार है उतना ही सेवा में सार है। विनाश की चिनगारी कहाँ से निकली? यूरोप से निकली ना! तो जैसे विनाश का साधन यूरोप से निकला तो स्थापना के कार्य में विशेष यूरोप से आत्मायें प्रख्यात होनी ही है। जैसे पहले बाम्बस अन्डरग्राउण्ड बने, पीछे कार्य में लाये गये। ऐसे ऐसी आत्मायें भी तैयार हो रही हैं, अभी गुप्त हैं, अन्डरग्राउण्ड हैं लेकिन प्रख्यात हो भी रही हैं और होती भी रहेंगी। जैसे हर देश की अपनी-अपनी विशेषता होती है ना, तो यहाँ भी हर स्थान की अपनी विशेषता है। नाम बाला करने के लिए यूरोप का यंत्र काम में आयेगा। जैसे साइन्स के यंत्र कार्य में आये, ऐसे आवाज बुलन्द करने के लिए यूरोप से यंत्र निमित्त बनेंगे। नई विश्व तैयार करने के लिए यूरोप ही आपका मददगार बनेगा। यूरोप की चीज़ सदा मजबूत होती है। जर्मनी की चीज़ को सब महत्व देते हैं। तो ऐसे ही सेवा के निमित्त महत्व वाली आत्मायें प्रत्यक्ष होती रहेंगी। समझा। यूरोप भी कम नहीं है। अभी प्रत्यक्षता का पर्दा खुलने शुरू हो रहा है। समय पर बाहर आ जायेगा। अच्छा है, थोड़े समय में चारों ओर विस्तार अच्छा किया है, रचना अच्छी रची है। अभी इस रचना को पालना का पानी दे मजबूत बना रहे हैं। जैसे यूरोप की स्थूल चीजें मजबूत होती है वैसे आत्मायें भी विशेष अचल अडोल मजबूत होंगी। मेहनत मुहब्बत से कर रहे हो इसलिए मेहनत, मेहनत नहीं है लेकिन सेवा की लगन अच्छी है। जहाँ लगन है वहाँ विघ्न आते भी समाप्त हो, सफलता मिलती रहती है। वैसे टोटल यूरोप की अगर क्वालिटी देखो तो बहुत अच्छी है। ब्राह्मण भी आई. पी. हैं। वैसे भी आई.पी. हैं इसलिए यूरोप के निमित्त सेवाधारियों को और भी स्नेह भरी श्रेष्ठ पालना से मजबूत कर विशेष सेवा के मैदान में लाते रहो। वैसे धरनी फल देने वाली है। अच्छा यह तो विशेषता है जो बाप का बनते ही दूसरों को बनाने में लग जाते हैं। हिम्मत अच्छी रखते हैं और हिम्मत के कारण ही यह गिफ्ट है, जो सेवाकेन्द्र वृद्धि को पाते रहते हैं। क्वालिटी भी बढ़ाओ और क्वान्टिटी भी बढ़ाओ। दोनों का बेलेन्स हो। क्वालिटी की शोभा अपनी है और क्वान्टिटी की शोभा फिर अपनी है। दोनों ही चाहिए। सिर्फ क्वालिटी हो क्वान्टिटी न हो तो भी सेवा करने वाले थक जाते हैं इसलिए दोनों ही अपनी-अपनी विशेषता के काम के हैं। दोनों की सेवा जरूरी है क्योंकि 9 लाख तो बनाना है ना। 9 लाख में विदेश से कितने हुए हैं? (5 हजार) अच्छा- एक कल्प का चक्र तो पूरा किया। विदेश को लास्ट सो फास्ट का वरदान है तो भारत से फास्ट जाना है क्योंकि भारत वालों को धरनी बनाने में मेहनत होती है। विदेश में कलराठी जमीन नहीं है। यहाँ पहले बुरे को अच्छा बनाना पड़ता है। वहाँ बुरा सुना ही नहीं है तो बुरी बातें उल्टी बातें सुनी ही नहीं इसलिए साफ है। और भारत वालों को पहले स्लेट साफ करनी पड़ती है फिर लिखना पड़ता है। विदेश को समय प्रमाण वरदान है लास्ट सो फास्ट का इसलिए यूरोप कितने लाख तैयार करेगा? जैसे यह मिलियन मिनट का प्रोग्राम बनाया है, ऐसे ही प्रजा का बनाओ। प्रजा तो बन सकती हैं ना। मिलियन मिनट बना सकते हो तो मिलियन प्रजा नहीं बना सकते हो। और ही एक लाख कम 9 लाख ही कहते हैं! समझा- यूरोप वालों को क्या करना है। जोर शोर से तैयारी करो। अच्छा- डबल विदेशियों का डबल लक है, वैसे सभी को दो मुरलियाँ सुनने को मिलती आपको डबल मिलीं। कानफ्रेंस भी देखी, गोल्डन जुबली भी देखी। बड़ी-बड़ी दादियाँ भी देखी। गंगा, जमुना, गोदावरी, ब्रह्मापुत्रा सब देखी। सब बड़ी-बड़ी दादियाँ देखी ना! एक-एक दादी की एक-एक विशेषता सौगात में लेकर जाना तो सभी की विशेषता काम में आ जायेगी। विशेषताओं के सौगात की झोली भर करके जाना। इसमें कस्टम वाले नहीं रोकेंगे। अच्छा!

सदा विश्व कल्याणकारी बन विश्व सेवा के निमित्त सच्चे सेवाधारी श्रेष्ठ आत्मायें, सदा सफलता के जन्म सिद्ध अधिकार को प्राप्त करने वाली विशेष आत्मायें, सदा स्व के स्वरूप द्वारा सर्व को स्वरूप की समृति दिलाने वाली समीप आत्मायें, सदा बेहद के निष्काम सेवाधारी बन उड़ती कला में उड़ने वाले, डबल लाइट बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

वरदान:-अपने फरिश्ते रूप द्वारा गति-सद्गति का प्रसाद बांटने वाले मास्टर गति-सद्गति दाता भव
वर्तमान समय विश्व की अनेक आत्मायें परिस्थितियों के वश चिल्ला रही हैं, कोई मंहगाई से, कोई भूख से, कोई तन के रोग से, कोई मन की अशान्ति से …. सबकी नजर टॉवर ऑफ पीस की तरफ जा रही है। सब देख रहे हैं हा-हाकार के बाद जय-जयकार कब होती है। तो अब अपने साकारी फरिश्ते रूप द्वारा विश्व के दु:ख दूर करो, मास्टर गति सद्गति दाता बन भक्तों को गति और सद्गति का प्रसाद बांटो।
स्लोगन:-आप हिम्मत का एक कदम बढ़ाओ तो बाप मदद के हजार कदम बढ़ायेंगे।

TODAY MURLI 12 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 12 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 11 July 2019:- Click Here

12/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence:Sweet children, this eternal drama continues to turn; it continues to tick away. In this, the parts of no two souls can be the same. Understand this accurately and stay constantly cheerful.
Question:With which method can you prove to everyone that God has already come?
Answer:Do not tell anyone directly that God has come. If you say this, people will laugh at you and make comments because there are many nowadays who call themselves God. Therefore, first give them the introduction of the two fathers tactfully, that one is a limited father and the other is the unlimited Father, and that a limited inheritance is received from a limited father, whereas the unlimited Father gives you the unlimited inheritance. Then, they will understand you.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. There is just this world and the Father has to come here in order to explain to you. Nothing can be explained in the incorporeal world. Everything is explained in the physical world. The Father knows that all the children are impure and that they are of no use. There is nothing but sorrow and more sorrow in this world. The Father has explained that you are now in the ocean of poison. Previously, you were in the ocean of milk. The land of Vishnu is called the ocean of milk. There cannot be an ocean of milk here, and so they created a lake. It is said that rivers of milk used to flow there and that the cows there were firstclass. Here, people fall ill, whereas there, even the cows never fall ill; they are firstclass. Animals etc. never fall ill there. There is a lot of difference between here and there. Only the Father comes and tells you this. No one else in the world knows this. You know that this is the most auspicious confluence age when the Father comes and takes everyone back. The Father says: All the children call out to Allah, God or Bhagwan: they have given Me many names. They give Me whatever name enters their minds, good or bad. You children now know that Baba has come. The world cannot understand this. Only those who understood it 5000 years ago will understand it. This is why it is remembered, “Only a handful out of multimillions and a few out of the handful”. Only you children know who I am, what I am and what I teach you children. No one else can understand this. You know that you are not studying with a corporeal being. It is the incorporeal One who is teaching you. People would definitely become confused as to how He could teach you because the incorporeal One resides up above. You incorporeal souls also reside up above. You then come and sit on those thrones. This throne is perishable whereas the soul is immortal. The soul never experiences death. It is the body that dies. This is a living throne. There is the “Immortal Throne” at Amritsar too. That is a wooden throne. Those poor, helpless people don’t know that souls are immortal and cannot be eaten by death. The soul, the immortal image, sheds a body and takes another. The soul needs a chariot. The incorporeal Father too needs a human being’s chariot because the Father is the Ocean of Knowledge, the Lord of Knowledge (Gyaneshwar). Many people take the name Gyaneshwar. They consider themselves to be God and relate things of the scriptures of devotion. They give themselves the name Gyaneshwar, that is, the Lord who gives knowledge, but the Ocean of Knowledge is needed for that. He alone is called God the Father. Here, many have become God! When there is a lot of defamation, when they become very poor and unhappy, it is then that the Father comes. The Father is called the Lord of the Poor. The day eventually comes when the Father, the Lord of the Poor, comes. You children also know that the Father comes and establishes heaven. There is limitless wealth there. Money is never counted there. Here, they calculate and work out how many millions and billions have been spent. There is no mention of this there; they have plenty of wealth. You children know that Baba has now come to take us back home. Children have forgotten their home. They continue to stumble around on the path of devotion. This is called the night. People continue to search for God, but no one finds God at all. You children know that God has now come. You have this faith too. It isn’t that everyone has firm faith. Maya makes you forget at some time or other. This is why the Father says: Those who were amazed, who saw Me, who belonged to Me, who related this knowledge to others – oh Maya! you are so powerful that you made them run away from Me. There were many who run away. They became those who divorce Me. Where will they go and take birth? They will receive a very low birth. They fail their exams. This is the examination of changing from human beings into deities. The Father doesn’t tell you that everyone will become Narayan. No, those who make effort well will claim a good status. The Father understands who the good effort-makers are: those who make effort to change other human beings into deities, that is, those who give others recognition of the Father. Nowadays, out of opposition, so many people continue to call themselves God. They consider you to be weak and innocent. How can you explain to them that God has come? If you tell them directly that God has come, they would never believe you. This is why you need a clever method in order to explain to them. You must never tell anyone that God has come. You have to explain to them: You have two fathers. One is the unlimited parlokik Father and the other is a limited physical father. You should give them the introduction very clearly so that they can understand that what you say is right. No one knows how you receive the unlimited inheritance from the unlimited Father. An inheritance is received from a father. No one else would ever say that human beings have two fathers. You prove to them that a limited inheritance is received from a limited worldly father whereas the unlimited inheritance, that is, the inheritance of the new world is received from the unlimited, parlokik Father. The new world is heaven and only when He comes can the Father give you that. That Father is the Creator of the new world. If you simply tell people that God has come, they would not believe you and would make even more comments; they would not listen to you. You don’t have to explain this in the golden age. You have to explain at the time the Father comes and gives you teachings. No one remembers God in happiness, but everyone remembers God at a time of sorrow. Only that parlokik Father is called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. He liberates you from sorrow, becomes your Guide and takes you to your sweet home. That is called the sweet silence home. No one knows how we will go there, nor do they know the Creator or the beginning, middle and end of creation. You know that Baba has come to take you to the land of nirvana. He will take all souls back with Him. He will not leave a single one behind. That is the home of souls and this is the home of bodies. So, first of all, you have to give the Father’s introduction. He is the incorporeal Father and He is also called the Supreme Father. The words “Supreme Father” are right and are sweet. By simply saying, “God” or “Ishwar” you don’t receive the fragrance of the inheritance. You remember the Supreme Father and so you receive the inheritance. He is the Father. It has also been explained to you children that the golden age is the land of happiness. Heaven cannot be called the land of peace. Make it very firm that the land of peace is the place where souls reside. The Father says: Children, you don’t have any attainment by reading the Vedas and scriptures etc. People study the scriptures in order to attain God, whereas God says: I do not meet anyone by their reading the scriptures. You call out to Me to come here to make the impure world pure. No one understands these things because they have stone intellects. When children don’t study at school, they are told, “You have stone intellects.” You would not say this in the golden age. It is only the Supreme Father, the unlimited Father, who makes you into those with divine intellects. At this time, your intellects are divine because you are with the Father. Then, in the golden age, even after one birth, there is a slight difference. There are two degrees less in 1250 years. Your degrees continue to decrease second by second in 1250 years. Your lives are now becoming completely perfectat this time. Since you are becoming oceans of knowledge and oceans of happiness and peace, the same as the Father, you claim the full inheritance. The Father comes here simply to give you the inheritance. First of all, you go to the land of peace and then you go to the land of happiness. There is just peace in the land of peace. You then go to the land of happiness where there is no question of the slightest peacelessness. You then have to come down. You continue to come down minute by minute. The new world continues to become old. This is why Baba asked you to calculate: There are so many months, so many hours in 5000 years. Then people will be amazed. This clear account has been shown. You should write down the accurate calculation. There cannot be the slightest difference in that. It continues to tick away, minute by minute. The whole reel repeats. As it turns, it continues to roll and it then repeats. This huge rollis very wonderful. It cannot be measured. The roll of the whole world continues to tick away. No two seconds are the same. This cycle continues to turn. Those are limited dramas whereas this is the unlimited drama. Previously, you didn’t know anything about how this is an imperishable drama. That which is predestined is taking place once again. Whatever is to happen is that which happens; it is nothing new. This drama has continued to repeat many times, second by second. No one else can explain these things. First of all, you have to give the Father’s introduction. The unlimited Father gives you the unlimited inheritance. He only has the one name, Shiva. The Father says: I come when there is extreme defamation of religion. This is called the extreme iron age. There is a lot of sorrow here. There are some who ask: How can you remain pure in this extreme iron age? However, they don’t know who it is that makes you pure. The Father Himself comes at the confluence age and establishes the pure world. There, both husband and wife remain pure, whereas here, both are impure. This is the impure world. That is the pure world, heaven. This is the extreme depths of hell. It is hell! You children have now understood, numberwise, according to your efforts. It takes effort to explain. Those who are poor understand quickly. Expansion continues to take place day by day. Then, such big buildings will also be needed. Many children have to come here because the Father is not going to go anywhere. Previously, Baba used to go to places without being asked by anyone. Now, children will continue to come here. You may even have to come in the cold. You would have to make a programme. “Come at such-and-such a time, when there isn’t a crowd. Not everyone can come at the same time. The number of children will continue to increase. Here, you children build small buildings, whereas there, you will have many palaces. You children know that all the money is going to turn to dust. Many people dig holes and hide their money in them. Then, either thieves steal that or it just remains in the holes. Then, when people dig the land on their fields, the money emerges. Destruction will now take place and everything will be buried. You will then receive everything new there. There are many kings’ fortresses where a lot of their things are buried. Even big diamonds emerge and they earn an income of hundreds of thousands or millions. It isn’t that you will dig the land in heaven and bring out diamonds etc. No, the mines of everything there will be new and full. Here, the land is barren and so it has no strength. There is no strength left in the seeds that they sow. Everything they put in is all rubbish and impure. There, there is no mention of anything impure. Everything is new. Daughters come back (from trance) having had visions of heaven. There is natural beauty there. You children are now making effort to go to that world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. It is at this time that you have to become perfect, like the Father, and claim your full inheritance. Imbibe all the Father’s teachings and become an ocean of knowledge, happiness and peace, the same as He is.
  2. In order to make your intellect divine, pay full attention to your study. Have faith in the intellect and pass the examination to change from a human being into a deity.
Blessing:May you clearly experience all three aspects of time with your trikaldarshi stage and become master knowledge-full.
Those who remain stable in the trikaldarshi stage can clearly see the three aspects of time in a second. What was I yesterday? What am I today? What will I be tomorrow? All of that is clear in front of such souls. When you stand at the higher point of city and look down, you would enjoy yourself looking down on the whole city. In the same way, the confluence age is the top point. Stand at the peak and look at all three aspects of time and say with the sparkle of intoxication: I was a deity and I will become that once again. This is called being master knowledge-full.
Slogan:Every moment is the final moment: be everready in this awareness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 July 2019

To Read Murli 11 July 2019 :- Click Here
12-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – यह अनादि ड्रामा फिरता ही रहता है, टिक-टिक होती रहती है, इसमें एक का पार्ट न मिले दूसरे से, इसे यथार्थ समझकर सदा हर्षित रहना हैˮ
प्रश्नः-किस युक्ति से तुम सिद्ध कर बता सकते हो कि भगवान् आ चुका है?
उत्तर:-किसी को सीधा नहीं कहना है कि भगवान् आया हुआ है, ऐसा कहेंगे तो लोग हँसी उड़ायेंगे, टीका करेंगे क्योंकि आजकल अपने को भगवान् कहलाने वाले बहुत हैं इसलिए तुम युक्ति से पहले दो बाप का परिचय दो। एक हद का, दूसरा बेहद का बाप। हद के बाप से हद का वर्सा मिलता है, अब बेहद का बाप बेहद का वर्सा देते हैं, तो समझ जायेंगे।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं, सृष्टि तो यही है। बाप को भी यहाँ आना पड़ता है समझाने के लिए। मूलवतन में तो नहीं समझाया जाता। स्थूल वतन में ही समझाया जाता है। बाप जानते हैं बच्चे सब पतित हैं। कोई काम के नहीं रहे हैं। इस दुनिया में दु:ख ही दु:ख है। बाप ने समझाया है अभी तुम विषय सागर में पड़े हो। असुल में तुम क्षीरसागर में थे। विष्णुपुरी को क्षीरसागर कहा जाता है। अब क्षीर का सागर तो यहाँ मिल न सके। तो तलाव बना दिया है। वहाँ तो कहते हैं दूध की नदियाँ बहती थी, गायें भी वहाँ की फर्स्ट क्लास नामीग्रामी हैं। यहाँ तो मनुष्य भी बीमार हो पड़ते हैं, वहाँ तो गायें भी कभी बीमार नहीं पड़ती। फर्स्टक्लास होती हैं। जानवर आदि कोई बीमार नहीं होते। यहाँ और वहाँ में बहुत फ़र्क है। यह बाप ही आकर बताते हैं। दुनिया में दूसरा कोई जानता नहीं। तुम जानते हो यह पुरूषोत्तम संगमयुग है, जबकि बाप आते हैं सबको वापिस ले जाते हैं। बाप कहते हैं जो भी बच्चे हैं कोई अल्लाह को, कोई गॉड को, कोई भगवान् को पुकारते हैं। मेरे नाम तो बहुत रख दिये हैं। अच्छा-बुरा जो आया सो नाम रख देते हैं। अब तुम बच्चे जानते हो बाबा आया हुआ है। दुनिया तो यह समझ न सके। समझेंगे वही जिन्होंने 5 हज़ार वर्ष पहले समझा है इसलिए गायन है कोटों में कोई, कोई में भी कोई। मैं जो हूँ जैसा हूँ, बच्चों को क्या सिखाता हूँ, वह तो तुम बच्चे ही जानते हो और कोई समझ न सके। यह भी तुम जानते हो हम कोई साकार से नहीं पढ़ते हैं। निराकार पढ़ाते हैं। मनुष्य जरूर मूँझेंगे, निराकार तो ऊपर में रहते हैं, वह कैसे पढ़ायेंगे! तुम निराकार आत्मा भी ऊपर में रहती हो। फिर इस तख्त पर आती हो। यह तख्त विनाशी है, आत्मा तो अकाल है। वह कभी मृत्यु को नहीं पाती। शरीर मृत्यु को पाता है। यह है चैतन्य तख्त। अमृतसर में भी अकालतख्त है ना। वह तख्त है लकड़ी का। उन बिचारों को पता नहीं है अकाल तो आत्मा है, जिसको कभी काल नहीं खाता। अकाल-मूर्त आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। उनको भी रथ तो चाहिए ना। निराकार बाप को भी जरूर रथ चाहिए मनुष्य का क्योंकि बाप है ज्ञान का सागर, ज्ञानेश्वर। अब ज्ञानेश्वर नाम तो बहुतों के हैं। अपने को ईश्वर समझते हैं ना। सुनाते हैं भक्ति के शास्त्रों की बातें। नाम रखाते हैं ज्ञानेश्वर अर्थात् ज्ञान देने वाला ईश्वर। वह तो ज्ञान सागर चाहिए। उनको ही गॉड फादर कहा जाता है। यहाँ तो ढेर भगवान् हो गये हैं। जब बहुत ग्लानि हो जाती, बहुत गरीब हो जाते, दु:खी हो जाते हैं तब ही बाप आते हैं। बाप को कहा जाता है गरीब-निवाज़। आखरीन वह दिन आता है, जो गरीब-निवाज़ बाप आते हैं। बच्चे भी जानते हैं बाप आकर स्वर्ग की स्थापना करते हैं। वहाँ तो अथाह धन होता है। पैसे कभी गिने नहीं जाते। यहाँ हिसाब निकालते हैं, इतने अरब खरब खर्चा हुआ। वहाँ यह नाम ही नहीं, अथाह धन रहता है।

अभी तुम बच्चों को मालूम पड़ा है बाबा आया हुआ है, हमको अपने घर ले जाने लिए। बच्चों को अपना घर भूल गया है। भक्ति मार्ग के धक्के खाते रहते हैं, इसको कहा जाता है रात। भगवान् को ढूँढते ही रहते हैं, परन्तु भगवान् कोई को मिलता नहीं। अभी भगवान् आया हुआ है, यह भी तुम बच्चे जानते हो, निश्चय भी है। ऐसे नहीं सबको पक्का निश्चय है। कोई न कोई समय माया भुला देती है, तब बाप कहते हैं आश्चर्यवत् मेरे को देखन्ती, मेरा बनन्ती, औरों को सुनावन्ती, अहो माया तुम कितनी जबरदस्त हो जो फिर भी भागन्ती करा देती हो। भागन्ती तो ढेर होते हैं। फारकती देवन्ती हो जाते हैं। फिर वह कहाँ जाकर जन्म लेंगे! बहुत हल्का जन्म पायेंगे। इम्तहान में नापास हो पड़ते हैं। यह है मनुष्य से देवता बनने का इम्तहान। बाप ऐसे तो नहीं कहेंगे कि सब नारायण बनेंगे। नहीं, जो अच्छा पुरूषार्थ करेंगे, वे पद भी अच्छा पायेंगे। बाप समझ जाते हैं कौन अच्छे पुरूषार्थी हैं – जो औरों को भी मनुष्य से देवता बनाने का पुरूषार्थ कराते हैं अर्थात् बाप की पहचान देते हैं। आजकल आपोजीशन में कितने मनुष्य अपने को ही भगवान् कहते रहते हैं। तुमको अबलायें समझते हैं। अब उन्हों को कैसे समझायें कि भगवान् आया हुआ है, सीधा किसको कहेंगे भगवान् आया है, तो ऐसे कभी मानेंगे नहीं इसलिए समझाने की भी युक्ति चाहिए। ऐसे कभी किसी को कहना नहीं चाहिए कि भगवान् आया हुआ है। उनको समझाना है तुम्हारे दो बाप हैं। एक है पारलौकिक बेहद का बाप, दूसरा लौकिक हद का बाप। अच्छी रीति परिचय देना चाहिए, जो समझें कि यह ठीक कहते हैं। बेहद के बाप से वर्सा कैसे मिलता है – यह कोई नहीं जानते। वर्सा मिलता ही है बाप से। और कोई भी ऐसे कभी नहीं कहेंगे कि मनुष्य को दो बाप होते हैं। तुम सिद्ध कर बतलाते हो, हद के लौकिक बाप से हद का वर्सा और पारलौकिक बेहद बाप से बेहद अर्थात् नई दुनिया का वर्सा मिलता है। नई दुनिया है स्वर्ग, सो तो जब बाप आये तब ही आकर देवे। वह बाप है ही नई सृष्टि का रचने वाला। बाकी तुम सिर्फ कहेंगे भगवान् आया हुआ है – तो कभी मानेंगे नहीं, और ही टीका करेंगे। सुनेंगे ही नहीं। सतयुग में तो समझाना नहीं होता। समझाना तब पड़ता है, जब बाप आकर शिक्षा देते हैं। सुख में सिमरण कोई नहीं करते हैं, दु:ख में सब करते हैं। तो उस पारलौकिक बाप को ही कहा जाता है दु:खहर्ता सुख कर्ता। दु:ख से लिबरेट कर गाइड बन फिर ले जाते हैं अपने घर स्वीट होम। उनको कहेंगे स्वीट साइलेन्स होम। वहाँ हम कैसे जायेंगे – यह कोई भी नहीं जानते। न रचता, न रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। तुम जानते हो हमको बाबा निर्वाणधाम ले जाने के लिए आया हुआ है। सब आत्माओं को ले जायेंगे। एक को भी छोड़ेंगे नहीं। वह है आत्माओं का घर, यह है शरीर का घर। तो पहले-पहले बाप का परिचय देना चाहिए। वह निराकार बाप है, उनको परमपिता भी कहा जाता है। परमपिता अक्षर राइट है और मीठा है। सिर्फ भगवान्, ईश्वर कहने से वर्से की खुशबू नहीं आती है। तुम परमपिता को याद करते हो तो वर्सा मिलता है। बाप है ना। यह भी बच्चों को समझाया है सतयुग है सुखधाम। स्वर्ग को शान्तिधाम नहीं कहेंगे। शान्तिधाम जहाँ आत्मायें रहती हैं। यह बिल्कुल पक्का करा लो।

बाप कहते हैं – बच्चे, तुमको यह वेद-शास्त्र आदि पढ़ने से कुछ भी प्राप्ति नहीं होती है। शास्त्र पढ़ते ही हैं भगवान् को पाने के लिए और भगवान् कहते हैं मैं किसको भी शास्त्र पढ़ने से नहीं मिलता हूँ। मुझे यहाँ बुलाते ही हैं कि आकर इस पतित दुनिया को पावन बनाओ। यह बातें कोई समझते नहीं हैं, पत्थरबुद्धि हैं ना। स्कूल में बच्चे नहीं पढ़ते हैं तो कहते हैं ना कि तुम तो पत्थरबुद्धि हो। सतयुग में ऐसे नहीं कहेंगे। पारसबुद्धि बनाने वाला है ही परमपिता बेहद का बाप। इस समय तुम्हारी बुद्धि है पारस क्योंकि तुम बाप के साथ हो। फिर सतयुग में एक जन्म में भी इतना ज़रा फ़र्क जरूर पड़ता है। 1250 वर्ष में 2 कला कम होती हैं। सेकण्ड बाई सेकण्ड 1250 वर्ष में कला कम होती जाती हैं। तुम्हारा जीवन इस समय एकदम परफेक्ट बनता है जबकि तुम बाप मिसल ज्ञान का सागर, सुख-शान्ति का सागर बनते हो। सब वर्सा ले लेते हो। बाप आते ही हैं वर्सा देने। पहले-पहले तुम शान्तिधाम में जाते हो, फिर सुखधाम में जाते हो। शान्तिधाम में तो है ही शान्ति। फिर सुखधाम में जाते हो, वहाँ अशान्ति की ज़रा भी बात नहीं। फिर नीचे उतरना होता है। मिनट बाई मिनट तुम्हारी उतराई होती है। नई दुनिया से पुरानी होती जाती है। तब बाबा ने कहा था हिसाब निकालो, 5 हज़ार वर्ष में इतने मास, इतने घण्टे……. तो मनुष्य वण्डर खायेंगे। यह हिसाब तो पूरा बताया है। एक्यूरेट हिसाब लिखना चाहिए, इसमें ज़रा भी फ़र्क नहीं पड़ सकता। मिनट बाई मिनट टिक-टिक होती रहती है। सारा रील रिपीट होता, फिरता-फिरता फिर रोल होता जाता है फिर वही रिपीट होगा। यह ह्यूज़ रोल बड़ा वण्डरफुल है। इनका माप आदि नहीं कर सकते। सारी दुनिया का जो पार्ट चलता है, टिक-टिक होती रहती है। एक सेकण्ड न मिले दूसरे से। यह चक्र फिरता ही रहता है। वह होता है हद का ड्रामा, यह है बेहद का ड्रामा। आगे तुम कुछ भी नहीं जानते थे कि यह अविनाशी ड्रामा है। बनी बनाई बन रही……. जो होना है वही होता है। नई बात नहीं है। अनेक बार सेकण्ड बाई सेकण्ड यह ड्रामा रिपीट होता आया है। और कोई यह बातें समझा न सके। पहले-पहले तो बाप का परिचय देना है, बेहद का बाप बेहद का वर्सा देते हैं। उनका एक ही नाम है शिव। बाप कहते हैं मैं आता ही तब हूँ जब अति धर्म ग्लानि होती है, इसको कहा जाता है घोर कलियुग। यहाँ बहुत दु:ख है। कई हैं, जो कहते हैं ऐसे घोर कलियुग में पवित्र कैसे रह सकते हैं! परन्तु उन्हों को यह पता ही नहीं है कि पावन बनाने वाला कौन है? बाप ही संगम पर आकर पवित्र दुनिया स्थापन करते हैं। वहाँ स्त्री-पुरूष दोनों पवित्र रहते हैं। यहाँ दोनों अपवित्र हैं। यह है ही अपवित्र दुनिया। वह है पवित्र दुनिया – स्वर्ग, हेविन। यह है दोज़क, नर्क, हेल। तुम बच्चे समझ गये हो नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। समझाने में भी मेहनत है। गरीब झट समझ जाते हैं। दिन-प्रतिदिन वृद्धि होती जाती है, फिर मकान भी इतना बड़ा चाहिए। इतने बच्चे आयेंगे क्योंकि बाप तो अब कहाँ जायेगा नहीं। आगे तो बिगर कोई के कहे भी बाबा आपेही चले जाते थे। अभी तो बच्चे यहाँ आते रहेंगे। ठण्डी में भी आना पड़े। प्रोग्राम बनाना पड़ेगा। फलाने-फलाने समय पर आओ, फिर भीड़ नहीं होगी। सभी इकट्ठे एक ही समय तो आ न सकें। बच्चे वृद्धि को पाते रहेंगे। यहाँ छोटे-छोटे मकान बच्चे बनाते हैं, वहाँ तो ढेर महल मिलेंगे। यह तो तुम बच्चे जानते हो – पैसे सब मिट्टी में मिल जायेंगे। बहुत ऐसे करते हैं जो खड्डे खोदकर भी अन्दर रख देते हैं। फिर या तो चोर ले जाते, या फिर खड्डों में ही अन्दर रह जाते हैं, फिर खेती खोदने समय धन निकल आता है। अब विनाश होगा, सब दब जायेगा। फिर वहाँ सब कुछ नया मिलेगा। बहुत ऐसे राजाओं के किले हैं जहाँ बहुत सामान दबा हुआ है। बड़े-बड़े हीरे भी निकल आते हैं तो हज़ारों-लाखों की आमदनी हो जाती है। ऐसे नहीं कि तुम स्वर्ग में खोदकर ऐसे कोई हीरे आदि निकालेंगे। नहीं, वहाँ तो हर चीज़ की खानियाँ आदि सब नई भरपूर हो जायेंगी। यहाँ कलराठी जमीन है तो ताकत ही नहीं है। बीज जो बोते हैं उनमें दम नहीं रहा है। किचड़पट्टी अशुद्ध चीज़ें डाल देते हैं। वहाँ तो अशुद्ध चीज़ का कोई नाम नहीं होता है। एवरीथिंग इज़ न्यू। स्वर्ग का साक्षात्कार भी बच्चियाँ करके आती हैं। वहाँ की ब्यूटी ही नेचुरल है। अभी तुम बच्चे उस दुनिया में जाने का पुरूषार्थ कर रहे हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस समय ही बाप समान परफेक्ट बन पूरा वर्सा लेना है। बाप की सब शिक्षाओं को स्वयं में धारण कर उनके समान ज्ञान का सागर, शान्ति-सुख का सागर बनना है।

2) बुद्धि को पारस बनाने के लिए पढ़ाई पर पूरा-पूरा ध्यान देना है। निश्चयबुद्धि बन मनुष्य से देवता बनने का इम्तहान पास करना है।

वरदान:-त्रिकालदर्शी स्थिति द्वारा तीनों कालों का स्पष्ट अनुभव करने वाले मा. नॉलेजफुल भव
जो त्रिकालदर्शी स्थिति में स्थित रहते हैं वह एक सेकण्ड में तीनों कालों को स्पष्ट देख सकते हैं। कल क्या थे, आज क्या हैं और कल क्या होंगे – उनके आगे सब स्पष्ट हो जाता है। जैसे कोई भी देश में जब टॉप प्वाइंट पर खड़े होकर सारे शहर को देखते हैं तो मजा आता है, ऐसे ही संगमयुग टॉप प्वाइंट है, इस पर खड़े होकर तीनों कालों को देखो और फ़लक से कहो कि हम ही देवता थे और फिर से हम ही बनेंगे, इसी को कहते हैं मास्टर नॉलेजफुल।
स्लोगन:-हर समय अन्तिम घड़ी है, इस स्मृति से एवररेडी बनो।

Aaj ki murli July 2019 – Om shanti murli today

ब्रह्माकुमारी मुरली : आज की मुरली (हिंदी मुरली)

Brahma kumaris Om Shanti Murli : Aaj ki Murli July 2019

 

Om Shanti Murli : गूगल ड्राइव से आज की मुरली डाउनलोड कर सकते हैं।

01-07-201902-07-201903-07-201904-07-201905-07-2019
06-07-201907-07-201908-07-201909-07-201910-07-2019
11-07-201912-07-201913-07-201914-07-201915-07-2019
16-07-201917-07-201918-07-201919-07-201920-07-2019
21-07-201922-07-201923-07-201924-07-201925-07-2019
26-07-201927-07-201828-07-201929-07-201930-07-2019
31-07-2019

 


आज की मुरली ऑनलाइन पढ़ें
 :- TODAY MURLI

Font Resize