27 March ki murli

TODAY MURLI 27 MARCH 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 March 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 March 2019 :- Click Here

27/03/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence:Sweet children, it is now your stage of retirement because you have to go home, beyond sound. Therefore, stay in remembrance and become pure.
Question:In order to reach the high destination, to which aspect do you have to pay attention?
Answer:Be cautious about your eyes. They are very deceptive. Criminal eyes cause a lot of damage. Therefore, as much as possible, consider yourself to be a soul and remember the Father. Practise the vision of brotherhood. Wake up early in the morning, sit in solitude and talk to yourself. God’s order is: Sweet children, lust is the greatest enemy. Therefore, remain cautious.

Om shanti. You sweetest, spiritual children have understood that it is not a human being teaching you here. Only those who can understand this can come here. It is God who is teaching you here. There has to be the recognition of God. The name is so great – God – and then they say that He is beyond name and form! Actually, He is beyond, in a practical way. He is such a tiny point. It is said that a soul is a star. Those stars are not tiny. This soul, a star, is truly tiny. The Father too is a point. The Father is ever pure. His praise is: The Ocean of Knowledge and the Ocean of Peace. There is no question of being confused about this. The main thing is to become pure. There is fighting because of vice. They call out to the Purifier in order to become pure. So, surely, you have to become pure. You mustn’t be confused about this. Whatever happened in the past, whatever obstacles etc. there were, they were nothing new. Innocent ones have to be assaulted. These things do not exist in other spiritual gatherings. There is no upheaval anywhere else. Here, there is upheaval especially because of this aspect. The Father comes to make you pure and so there is so much upheaval. The Father sits here and teaches you. The Father says: I come when it is the stage of retirement. The law of the stage of retirement began here. So, those who are in the stage of retirement will definitely stay beyond sound. In order to go beyond sound, you have to remember the Father fully and become pure. There is only one way to become pure. If you want to go back, you definitely have to become pure. Everyone has to go back home. It is not just two or four that have to go back; the whole impure world has to change. No one knows about this drama. This cycle of the drama is from the golden age to the iron age. The Father says: Consider yourself to be a soul and remember the Father and also definitely become pure. Only then will you be able to go to the land of peace and the land of happiness. It is remembered that the Bestower of Liberation and Salvation is only One. There are very few in the golden age and they remain pure. In the iron age, there are innumerable religions and they become impure. This is something easy and the Father tells you in advance. The Father knows that there will definitely be upheaval. If He didn’t know this, why would He have created the clever method for you to bring a letter saying that you want to go to drink the nectar of knowledge? He knows that it is fixed in the drama for this fighting to take place. Those who are to be amazed will recognize Him and take this knowledge very well. They even give the knowledge to others, and then, oh Maya! You pull them to you! All of this is fixed in the drama. No one can prevent what is destined. People simply say these words, but they don’t understand the meaning of them. Children, this is a very elevated study. The eyes are so deceptive, don’t even ask! The world is tamopradhan. At colleges they are very bad. Don’t even ask about the situation abroad! Such things do not exist in the golden age. Those people say that it has been hundreds of thousands of years since the golden age existed. The Father says: It was only yesterday that I went away, having given you your fortune of the kingdom. You lost everything. In the world as well, a father says: I gave you so much property and you lost everything. There are even such children who lose all the property in just a short time. The unlimited Father also says: I departed having given you so much wealth. I made you into such worthy masters of the world and now, according to the drama, this has become your condition! You are those same children of Mine, are you not? You were so wealthy! This is an unlimited thing which you explain. There is the story of a boy who used to cry out every day that a lion had come, but the lion never came. One day the lion truly did come. You too say that death is about to come and people say: Every day you say this, but destruction doesn’t take place. You know that destruction will definitely take place one day. They have made up that story from this. The unlimited Father says that it is not their fault. The same thing happened in the previous cycle too. It is a matter of 5000 years. Baba has said many times: You can continue to write: The museum opened in exactly the same way 5000 years ago, too, to establish the deity religion in Bharat. Write it so clearly that people can come and understand that Baba has come. The inheritance from the Father is the sovereignty of heaven. Bharat was heaven. First of all, there is heaven in the new Bharat, in the new world. Heaven then becomes hell. This is a very big unlimited drama. All are actors in it. We have played our parts of 84 births and are now going back home. Previously, we were the masters and we have now become poverty-stricken. We are now following Baba’s directions and becoming the masters. You know that you make Bharat into heaven every cycle by following shrimat. You definitely also have to become pure. Because of becoming pure, there are assaults. The Father explains a lot to you children, but then, when you go outside, you become senseless. There are those who were amazed by this knowledge, listened to the knowledge, spoke the knowledge and gave the knowledge to others; then, oh Maya! They become the same as they were previously. In fact, they become even worse. They become trapped in the vice of lust and fall.

Shiv Baba is making this Bharat into Shivalaya. So you children should also make effort. That unlimited Baba is a very sweet Baba. If everyone were to know this, so many would come here and there wouldn’t be any studying. Solitude is needed to study. The mornings are very quiet and peaceful. We consider ourselves to be souls and we remember the Father. How would our sins be absolved except by having remembrance? You just have this one concern. You have now become impure and poverty-stricken and so how can you become double-crowned? The Father explains a very simple thing to you. There will be upheavals. There is nothing to be afraid of. This father is very ordinary. He dresses in the same way etc. There is no difference externally. Sannyasis at least leave their homes and families and wear saffron robes, but this one’s dress is the same. It is just that the Father has entered him; there is no other difference. Just as a father looks after his children with love and sustains them, similarly, this one also does the same. There is no question of arrogance. He lives very ordinarily. However, buildings have to be built for all of you to stay in. They are also ordinary. The unlimited Father is teaching you. The Father is the Magnet. Is this a small thing? When daughters become pure, they receive a lot of happiness. Those people say that there is some power, but they don’t understand what that power is. The Father is the Almighty Authority. He makes everyone the same, but not everyone can become the same. In that case, everyone’s featureswould be the same, and their status would also be the same. This drama is predestined. In 84 births, you receive the same 84 features that have you received every cycle. You will continue to receive those same features. There cannot be any difference in that. These matters have to be understood and imbibed. Destruction definitely has to take place. There cannot be peace in the world at this time. They continue to fight among themselves. Death is just over your heads. According to the drama, the one original, eternal, deity religion has to be established and all the rest have to be destroyed. They continue to manufacture atomic bombs. There will also be natural calamities. Big rocks will fall and all the buildings etc. will be destroyed. No matter how strong they make the buildings or how strong the foundations are, none of them will remain. They think that such buildings will not fall even in earthquakes. However, it is said: No matter what you do, even if you make hundred-storey buildings, destruction definitely has to take place. None of this will remain. You children have come here to receive the inheritance of heaven. Look what is happening abroad! That is called the pomp of Ravan. Maya says: I too am no less. There, you will have palaces studded with diamonds and jewels. There, everything will be golden. There is no need to build any double- or triple-storey buildings there. Land doesn’t even cost anything there. You have everything present in front of you. Therefore, you children have to make a lot of effort. You have to give everyone the message. Children become very good guides and come here to become refreshed. This is also fixed in the dramaThey will come again. So many have come. I don’t know if I will be able to see them all again or not, whether all of them will be able to stay here or not. So many have come, but there are also those who were amazed by knowledge and then ran away. They write: Baba, I have fallen. Ah! you have lost whatever you had earned. You won’t be able to claim such a high status. This is the greatest disobedience. Those people issue an ordinance: No one should go outside after such and such a time, otherwise they will be shot. The Father also says: If you indulge in vice, you will be shot. God’s order is: Remain cautious. Nowadays, they make such things of gas etc. that people die while just sitting somewhere. All of this is fixed in the drama because no hospitals etc. will remain at the end. A soul sheds a body and quickly takes another. All his sorrow and suffering ends. There is no suffering etc. there. Souls are free. A soul sheds his body when he has lived his full lifespan. Death doesn’t exist there. Ravan himself doesn’t exist there, so how could death come there? They are messengers of Ravan, not of God. God’s children are very lovely. A father can never bear to see his children suffering. According to the drama, you experience three-quarters happiness. You should follow the directions of the Father who gives you so much happiness. This is your final birth. The Father says: Stay at home with your family and become pure in this final birth. Only by having remembrance of the Father will your sins be absolved. You have the sins of many births on your heads. You definitely have to become satopradhan from tamopradhan. The Father is the Almighty Authority. All of those who study the scriptures etc. are called authorities. The Father says: I am the Authority for everyone. I tell you the essence of all the scriptures through Brahma: Consider yourself to be a soul and remember Me and your sins will be absolved. How could you become pure by bathing in water? When there was a little water somewhere, they would even believe that to be a pilgrimage place and quickly bathe there. That is called tamopradhan faith. Yours is satopradhan faith. The Father explains: There is nothing to be afraid of in this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never disobey the order to become pure that God has given you. Remain very, very cautious. Become pure and give the return of the sustenance you have received from both Bap and Dada.
  2. The destiny of the drama is fixed. Know it and remain constantly carefree. Enable the Father’s message to reach everyone before destruction takes place.
Blessing:May you be a true yogi and a true server who remains engaged in remembrance and service with the awareness of the one word “Baba”.
You children repeatedly say the word “Baba” either with your mouth or in your mind. Since you are His children, it is service for you to remember the word “Baba” or to think this is yoga, and to repeatedly say through your lips, “Baba used to say this, Baba had said this”. However, some say this word “Baba” from their hearts whereas some say it from their brains with knowledge. Those who say it from their hearts receive instant attainment in their hearts in the form of happiness and power. Those who simply use their heads receive happiness at the time of speaking, but it does not last all the time.
Slogan:True moths are those who surrender themselves to God, the Flame.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 MARCH 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 March 2019

To Read Murli 26 March 2019 :- Click Here
27-03-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारी अब वानप्रस्थ अवस्था है क्योंकि तुम्हें वाणी से परे घर जाना है इसलिए याद में रहकर पावन बनो”
प्रश्नः-ऊंची मंज़िल पर पहुँचने के लिए किस बात की सम्भाल जरूर रखनी है?
उत्तर:-आंखों की सम्भाल करो, यही बहुत धोखेबाज हैं। क्रिमिनल आंखें बहुत नुकसान करती हैं इसलिए जितना हो सके अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। भाई-भाई की दृष्टि का अभ्यास करो। सवेरे-सवेरे उठ एकान्त में बैठ अपने आपसे बातें करो। भगवान् का हुक्म है – मीठे बच्चे, काम महाशत्रु से खबरदार रहो।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे यह तो समझ गये हैं क्योंकि यहाँ समझने वाले ही आ सकते हैं। यहाँ कोई मनुष्य नहीं पढ़ाते हैं। यह तो भगवान् पढ़ाते हैं। भगवान् की भी पहचान चाहिए। नाम कितना बड़ा है भगवान् और फिर कहते हैं नाम रूप से न्यारा। अब है भी जैसे प्रैक्टिकल में न्यारा। इतनी छोटी बिन्दी है, कहते भी हैं आत्मा स्टार है। जैसे वह सितारे छोटे तो नहीं हैं। यह आत्मा स्टार तो सच-सच छोटी है। बाप भी बिन्दी है। बाप तो सदा पवित्र है। उनकी महिमा भी है ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर…..। इसमें मूँझने की कोई बात नहीं। मुख्य बात है पावन बनने की। विकार पर ही झगड़ा होता है। पावन बनने लिए पतित-पावन को बुलाते हैं। तो जरूर पावन बनना पड़े ना, इसमें मूँझना नहीं है। जो कुछ पास्ट हुआ, विघ्न आदि पड़े, नई बात नहीं है। अबलाओं पर अत्याचार होने हैं। और सतसंगों में यह बातें नहीं होती हैं। कहाँ भी हंगामा नहीं होता। यहाँ हंगामा खास इस बात पर ही होता है। बाप पावन बनाने आते हैं तो कितना हंगामा होता है। बाप बैठ पढ़ाते हैं। बाप कहते हैं मैं आता भी वानप्रस्थ अवस्था में हूँ। वानप्रस्थ अवस्था का कायदा भी यहाँ से ही शुरू होता है। तो वानप्रस्थ अवस्था वाले जरूर वानप्रस्थ में ही रहेंगे। वाणी से परे जाने के लिए बाप को पूरा याद कर पवित्र बनना है। पवित्र बनने का तरीका तो एक ही है। वापिस जाना है तो पवित्र जरूर बनना है। जाना तो सबको है। दो-चार को तो नहीं जाना है। सारी पतित दुनिया को बदली होना है। इस ड्रामा का किसको भी पता नहीं है। सतयुग से कलियुग तक यह ड्रामा का चक्र है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है और पावन भी जरूर बनना है, तब ही तुम शान्तिधाम और सुखधाम में जा सकेंगे। गायन भी है गति-सद्गति दाता एक ही है। सतयुग में बहुत थोड़े होते हैं और पवित्र होते हैं। कलियुग में हैं अनेक धर्म और अपवित्र हो पड़ते हैं। यह तो सहज बात है और बाप पहले से ही बता देते हैं। बाप तो जानते हैं कि हंगामा होगा जरूर। न जाने तो युक्तियां क्यों रचें कि चिट्ठी ले आओ कि हमको ज्ञान अमृत पीने जाना है। जानते हैं यह झगड़ा होने की भी ड्रामा में नूँध है। आश्चर्यवत् अच्छी तरह पहचान कर ज्ञान लेते, औरों को भी ज्ञान देते फिर भी अहो माया, उन्हों को तुम अपनी तरफ खींच लेती हो। यह सब ड्रामा में नूँध है। इस भावी को कोई टाल नहीं सकता है। मनुष्य सिर्फ अक्षर कह देते हैं परन्तु अर्थ नहीं समझते हैं। बच्चे, यह बहुत ऊंची पढ़ाई है। आंखें ऐसी धोखेबाज हैं, बात मत पूछो। तमोप्रधान दुनिया है, कॉलेजों में भी बहुत खराब हो पड़ते हैं। विलायत की तो बात नहीं पूछो। सतयुग में ऐसी बातें नहीं होती। वो लोग कह देते सतयुग को लाखों वर्ष हो गये हैं। बाप कहते हैं कल तुमको राज्य भाग्य देकर गये थे, सब कुछ गँवा दिया है। लौकिक में भी बाप कहते हैं इतनी तुमको मिलकियत दी, सब गँवा दी। ऐसे भी बच्चे निकल पड़ते हैं जो धक से मिलकियत को उड़ा देते हैं। बेहद का बाप भी कहते हैं मैं तुमको कितना धन देकर गया, कितना तुमको लायक विश्व का मालिक बनाया, अब ड्रामा अनुसार तुम्हारा क्या हाल हो गया है! तुम वही मेरे बच्चे हो ना। कितने तुम धनवान थे। यह है बेहद की बात जो तुम समझाते हो। एक कहानी है रोज़ कहता था शेर आया शेर आया। परन्तु शेर आता नहीं था। एक दिन सच-सच शेर आ गया। तुम भी कहते हो मौत आया कि आया तो कहते हैं यह रोज़ कहते हैं विनाश तो होता नहीं है। अब तुम जानते हो एक दिन विनाश होना जरूर है। उनकी फिर कहानी बना दी है। बेहद का बाप कहते हैं उन्हों का दोष नहीं है। कल्प पहले भी हुआ था। 5 हजार वर्ष की बात है। बाबा ने तो बहुत बार बोला है – यह भी तुम लिखते रहो कि 5 हज़ार वर्ष पहले भी हूबहू ऐसा म्युजियम खोला था, भारत में देवी-देवता धर्म की स्थापना करने। एकदम क्लयीर लिखो तो आकर समझें। बाबा आया हुआ है। बाप का वर्सा है ही स्वर्ग की बादशाही। भारत स्वर्ग था। पहले-पहले नई दुनिया में नया भारत हेविन था। हेविन सो हेल। यह बहुत बड़ा बेहद का ड्रामा है, इसमें सब पार्टधारी हैं। 84 जन्मों का पार्ट बजाए अब फिर हम वापिस जाते हैं। पहले हम मालिक थे फिर कंगाल बने। अब फिर बाबा की मत पर चलकर मालिक बनते हैं। तुम जानते हो हम श्रीमत पर कल्प-कल्प भारत को स्वर्ग बनाते हैं। पावन भी जरूर बनना है। पावन बनने कारण अत्याचार होते हैं। बाबा बच्चों को समझाते तो बहुत हैं फिर बाहर जाने से बेसमझ बन पड़ते हैं। आश्चर्यवत् सुनन्ती, कथन्ती, ज्ञान देवन्ती, अहो मम माया, वैसे का वैसा बन जाते हैं और ही बदतर। काम विकार में फँसे और गिरे।

शिवबाबा इस भारत को शिवालय बनाते हैं, तो बच्चों को भी पुरूषार्थ करना चाहिए। यह बेहद का बाबा बहुत मीठा बाबा है। अगर सबको पता पड़ जाए तो ढेर की ढेर आ जाएं। पढ़ाई चल न सके। पढ़ाई में तो एकान्त चाहिए। सुबह को कितनी शान्ति रहती है। हम अपने को आत्मा समझ बाप को याद करते हैं। याद के सिवाए विकर्म विनाश कैसे होंगे? यही फुरना लगा हुआ है। अब पतित कंगाल बन पड़े हैं फिर पावन सिरताज कैसे बनें। बाप तो बिल्कुल सहज बात समझाते हैं। हंगामा तो होगा। डरने की कोई बात नहीं। बाप तो बिल्कुल साधारण है। ड्रेस आदि सब वही है। कुछ भी फ़र्क नहीं। सन्यासी तो फिर भी घर-बार छोड़ गेरु कफनी पहन लेते हैं, इनकी तो वही पहरवाइस है। सिर्फ बाप ने प्रवेश किया और कोई फ़र्क नहीं। जैसे बाप बच्चों को प्यार से सम्भालते, पालन-पोषण करते हैं। वैसे यह भी करते हैं। कोई अहंकार की बात नहीं है। बिल्कुल साधारण चलते हैं। बाकी रहने के लिए मकान तो बनाना पड़े। वह भी साधारण। तुम्हें तो बेहद का बाप पढ़ाते हैं। बाप तो चुम्बक है। कम है क्या! बच्चियां पवित्र बनती हैं तो बहुत सुख मिलता है, वह तो कह देते कोई शक्ति है परन्तु शक्ति किसको कहा जाता है, वह भी समझते नहीं हैं। सर्वशक्तिमान् बाप है, वह सबको ऐसा बनाते हैं। परन्तु सब एक जैसे तो बन न सकें। फिर तो फीचर्स भी एक जैसे हो जाएं। पद भी एक हो जाए। यह तो ड्रामा बना हुआ है। 84 जन्मों में तुमको वही 84 फीचर्स मिलते हैं जो कल्प पहले मिले थे। वही फीचर्स मिलते रहेंगे। इसमें फ़र्क नहीं हो सकता। कितनी समझने और धारण करने की बातें हैं। विनाश तो जरूर होना है। विश्व में शान्ति अभी तो हो नहीं सकती। आपस में लड़ते रहते हैं। मौत तो सिर पर खड़ा है। ड्रामा अनुसार एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना, बाकी धर्मों का विनाश होना है। एटॉमिक बाम्ब्स भी बनाते रहते हैं। नैचुरल कैलेमिटीज भी होगी। बड़े-बड़े पत्थर गिरेंगे जो सब मकान आदि टूट पडेंगे। कितना भी मजबूत मकान बनावें, फाउन्डेशन पक्का बनावें परन्तु रहना तो कुछ भी नहीं है। वह समझते हैं अर्थ क्वेक में भी गिर न सकें। परन्तु कहते हैं कितना भी करो, 100 मंज़िल बनाओ परन्तु विनाश होना है जरूर। यह कुछ भी रहेंगे नहीं।

तुम बच्चे यहाँ आये हो स्वर्ग का वर्सा पाने। विलायत में देखो क्या लगा पड़ा है। इसको रावण का पॉम्प कहा जाता है। माया कहती है – हम भी कम नहीं। वहाँ तो तुम्हारे हीरे-जवाहरों के महल होते हैं। सोने की सब चीज़ें होंगी। वहाँ तो दूसरा-तीसरा माड़ा (मंजिल) बनाने की जरूरत नहीं है। जमीन पर भी खर्चा नहीं लगता। सब कुछ मौजूद रहता है। तो बच्चों को बहुत पुरूषार्थ करना चाहिए। सबको पैगाम देना है। अच्छे-अच्छे पण्डे बन बच्चे आते हैं रिफ्रेश होने के लिए। यह भी ड्रामा में नूँध है। फिर भी आयेंगे। इतने सब आये हैं, पता नहीं इन सबको फिर देखूँगा वा नहीं? यह सब ठहर सकेंगे वा नहीं? आये तो ढेर के ढेर, फिर आश्चर्यवत् भागन्ती हो गये। लिखते हैं बाबा हम गिर गये। अरे, की कमाई चट कर दी! फिर इतना ऊंच चढ़ नहीं सकते। यह है बड़े ते बड़ी अवज्ञा। वो लोग आर्डीनेन्स निकालते हैं – फलाने टाइम पर कोई भी बाहर न निकले, नहीं तो शूट कर देंगे। बाप भी कहते हैं विकार में जायेंगे तो शूट हो जायेंगे। भगवान् का हुक्म है ना – खबरदार रहना। आजकल गैस आदि की ऐसी चीजें निकाली हैं जो मनुष्य बैठे-बैठे फट से खलास हो जायें। यह सब ड्रामा में नूँध है क्योंकि पिछाड़ी में हॉस्पिटल आदि रहेंगे नहीं। झट आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। दु:ख-क्लेष आदि सब छूट जाता है। वहाँ क्लेष आदि होता ही नहीं। आत्मा स्वतंत्र है। जिस समय पर आयु पूरी होती है तो शरीर छोड़ देती है। वहाँ काल होता नहीं। रावण ही नहीं तो काल फिर कहाँ से आयेगा। यह रावण के दूत हैं, भगवान् के नहीं। भगवान् के बच्चे तो बहुत प्यारे हैं। बाप कभी बच्चों का दु:ख सहन कर न सके। ड्रामा अनुसार कल्प का 3 हिस्सा तुम सुख पाते हो। बाप जो इतना सुख देते हैं तो उनकी श्रीमत पर चलना चाहिए। यह अन्तिम जन्म है, बाप कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रह अन्तिम जन्म में पवित्र बनना है। बाप की याद से ही विकर्म विनाश होंगे। जन्म-जन्मान्तर के पाप सिर पर हैं। तमोप्रधान से सतोप्रधान जरूर बनना है। बाप है सर्वशक्तिमान् अथॉरिटी। जो भी शास्त्र आदि पढ़ते हैं, उनको अथॉरिटी कहते हैं। अब बाप कहते हैं सबकी अथॉरिटी मैं हूँ। मैं इन ब्रह्मा द्वारा सब शास्त्रों का सार आकर सुनाता हूँ। अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो तो पाप विनाश होंगे। बाकी पानी में स्नान करने से पावन कैसे होंगे! कहाँ चुल्लू पानी (थोड़ा-सा पानी) होगा तो उनको भी तीर्थ समझ झट स्नान करेंगे। इसको कहा जाता है तमोप्रधान निश्चय। यह तुम्हारा है सतोप्रधान निश्चय। बाप समझाते हैं इसमें डरने की बात ही नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) भगवान् ने जो पवित्र बनने का हुक्म दिया है, उसकी कभी भी अवज्ञा नहीं करनी है। बहुत-बहुत खबरदार रहना है। बापदादा दोनों की पालना का रिटर्न पवित्र बनकर दिखाना है।

2) ड्रामा की भावी अटल बनी हुई है, उसे जानकर सदा निश्चितं रहना है। विनाश के पहले सबको बाप का पैगाम पहुँचाना है।

वरदान:-एक बाबा शब्द की स्मृति से याद और सेवा में रहने वाले सच्चे योगी, सच्चे सेवाधारी भव
आप बच्चे मुख से वा मन से बार-बार बाबा शब्द कहते हो, बच्चे हो तो बाबा शब्द याद आना या सोचना ही योग है और मुख से बार-बार कहना कि बाबा ऐसे कहते हैं, बाबा ने ये कहा – यही सेवा है। लेकिन इस बाबा शब्द को कोई दिल से कहने वाले हैं कोई नॉलेज के दिमाग से। जो दिल से कहते हैं उन्हें दिल में सदा प्रत्यक्ष प्राप्ति खुशी और शक्ति मिलती है। दिमाग वालों को बोलने समय खुशी होती सदाकाल की नहीं।
स्लोगन:-परमात्मा रूपी शमा पर फिदा होने वाले ही सच्चे परवाने हैं।

TODAY MURLI 27 MARCH 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 March 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 March 2018 :- Click Here

27/03/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence:Sweet children, in order to become victorious jewels, die alive. Become soul conscious and make effort to become the garland around the Father’s neck.
Question:Even though you children clearly understand the secret of the discus of self-realisation, why do you imbibe it numberwise?
Answer:Because this drama is created very systematically. Only Brahmins can understand the 84 births and remember Baba. However, it is only in remembrance that Maya causes obstacles for Brahmins; she repeatedly breaks your yoga. If everyone were to imbibe knowledge equally and passeasily, the rosary would be made up of hundreds of thousands. Therefore, because a kingdom is being established, everyone imbibes numberwise.
Song:To live in Your lane and to die in Your lane.

Om shanti. You children heard the song. This is the birth in which you die alive. When someone dies, the world ends for that person. When a soul departs, none of the maternal or paternal uncles remain either. It is said: He has died, that is, the soul has gone and merged into God. In fact, no one goes there, but people believe that the soul went back and merged into the light. The Father sits here and explains. You children know that souls have to take rebirth. Rebirth is called birth and death. It is possible that souls who come at the end only take one birth; they shed those bodies and then go back home. There is a big account where rebirth is concerned. There are millions of human beings. Baba cannot tell you the details of each one individually. You children now say: O Baba, we will now renounce all our bodily relations and become the garland around Your neck. That is, we have come to belong to You while alive. Effort has to be made with a body. A soul by itself (without a body) cannot make effort. The Father sits here and explains: When a sacrificial fire of Rudra is created, they make a large image of Shiv Baba out of clay. They also make many images of saligrams out of clay. What are those saligrams that people create and then worship? They believe Shiva to be the Supreme Father, the Supreme Soul. They keep Shiva as the main one. There are many souls. Therefore, they also create many saligrams. They would make 10,000 or even 100,000 saligrams. They make them every day, then break them and then make them again. This requires a lot of effort. Neither the worshippers nor the ones who have sacrificial fires created know who those saligrams represent. Are that many souls worthy of being worshipped? No. Achcha, even if you make 330 million saligrams to represent the people of Bharat, that too is not possible, because not everyone helps the Father. These are very deep matters and have to be understood. People spend four to five hundred thousand rupees in creating a sacrificial fire. Achcha, Shiva, the Supreme Father, the Supreme Soul, is right, but who are the children who are worshipped as saligrams? At this time, only you children know the Father and become His helpers. People also help. Those who remember Shiv Baba will definitely go to heaven. Although they may not give knowledge to anyone, they will still go to heaven. There will be so many of them but there are 108 main ones. Look Mama is such a great jewel! She is worshipped so much! You children now definitely have to become soul conscious. You have been body conscious for birth after birth. No human being would say: I, the soul, am a child of the Supreme Father, the Supreme Soul. If you are His child, you should know His full biography. The biography of the Father from beyond is very great. So, children say: Baba, I will definitely die alive and become the garland around Your neck. There are big rosaries of souls. In the same way, there is also the biggest garland of the human world. Prajapita Brahma is the main one. He is also called Adam, Adi Dev, Mahavir. These are very deep things. You souls understand that all of you are children of the incorporeal Father and that this is the genealogical tree of the human world. It is called the genealogical tree. When someone has the surname “Agarwal”, his children and grandchildren would also have the same surname. A family tree is created in this way. Gradually growing from one, the tree becomes big. All souls are the garland around Shiv Baba’s neck. He is imperishable. There is also Prajapita Brahma. How is the new world created? Does annihilation take place? No, the world exists all the time. It is just that when it becomes old, the Father comes and makes it new. You now understand that you were the newest of all. You souls were new and pure. You souls were pure gold and, because of that, you also received golden jewellery (the body). That is called having an eternal (long-lasting) body. Here, the average lifespan of a person is 40 to 45 years. Some perhaps live up to the age of 100. There, your lives would not be less then 125 years on average. Your age is made like that of the kalpa tree. There is never untimely death there. You souls are children of Shiv Baba. Brahmins are definitely created through Brahma and they then create other people. First of all, you become Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. There is one Shiv Baba, so where is the mother? This is a very deep secret. I come and adopt you children through this one. You die alive to the old world. When those people adopt children, they do so to give them wealth. The Father adopts you to give you the inheritance of heaven. He makes you worthy. He will take you with Him. This is why you have to die alive to this old world. While living at home with your families, become pure and belong to the Father. We are residents of that place. Then, in the golden age, we will play our parts of happiness. The Father explains these things. They are not mentioned in the scriptures. The Father sits here and purifies you souls. He removes the dirt from souls. You each receive a third eye of knowledge. They have then sat and created the story of the third eye. In fact, that refers to the present time. You now receive all the information of Brahmand and of the beginning, the middle and the end of the world. The Father only comes once and explains to you. Sannyasis continue to take rebirth. That One simply comes and teaches you children; that is all! This is something new. These things are not mentioned in the scriptures. This is a very big college. The rule is first of all to understand very well for one week. You have to sit in the furnace. They have readings of the Gita or the Bhagawad for a week, and so they have to sit in a bhatthi (furnace) for seven days. Everyone indulges in vice. Sannyasis leave their homes and become viceless. Nevertheless, they take birth through vice and then take up renunciation in order to become viceless. Some also believe in rebirth because they see the examples. Some shed their bodies having studied many Vedas and scriptures and so they take birth according to those sanskars. Therefore, they are able to recite scriptures in their childhood. They take birth and consider themselves to be impure. They would then take up renunciation to become pure. You become pure only once and become deities. You don’t then have to renounce anything. So, their renunciation is limited. They themselves are unable to explain these things. Baba sits here and explains this. He is the most elevated Father and you have become His children. This is also a school and many new things emerge every day. He says: Today, I am going to tell you the deepest things of all. If you don’t listen to Me, how would you be able to imbibe? The Father sits here and explains: Now that you belong to Me, shed the consciousness of the body. I have come as the Guide to take you back. You are the Pandava community. They are physical guides whereas you are spiritual guides. They take you on a physical pilgrimage whereas your pilgrimage is spiritual. They have given the Pandavas weapons and portrayed them on a battlefield. You children must now also have strength. When the number of you increases, your strength will also increase. The Father sits here and explains: I have adopted you through this Brahma. This is why He is called the Mother and Father. Everyone says: You are the Mother and Father and we are Your children. Achcha, He is called God, the Father. He is not called God, the Mother. So, how can you call Him the Mother? So, people then consider Jagadamba to be the Mother but no; she too has a mother and father. Who is her Mother? These are very deep matters. There is the praise, but who can explain it to you and prove it? You know that that One is the Mother and Father. First of all there is the Mother. You truly definitely have to come to this mother Brahma first. I enter this one and adopt you. Therefore, this One is the Mother and Father. These things are not mentioned in the scriptures. The Father sits here and explains how you become the mouth-born creation. I create you through the mouth of Brahma. A king would say: I say that you are mine. The soul says this. However, that one would not be called the mother and father. These are very wonderful things. You know that you belong to Shiv Baba and so you have to renounce the consciousness of your body. To consider yourself to be a bodiless soul requires effort. This is called Raja Yoga and knowledge. Both words are included in this. When someone is dying, he is told to chant the name of Rama, or a guru would give him his name. When a guru dies, his son is made the guru. Here, when the Father goes back, everyone has to go back. This is the final birth in the land of death. Baba is taking us to the land of immortality via the land of liberation. It has been explained to you that when destruction takes place, the part of the iron age goes down below and the golden age comes up above. However, nothing goes into the ocean. You children come here to the Ocean to be refreshed. You see the dance of knowledge in person. The gopes and gopis are portrayed dancing with Krishna. This refers to the present time. The Father’s murli is played in front of the chatrak children (a type of bird that eagerly awaits drops of rain). You children have to study this. Then it also depends on how much each one of you studies. You have to explain: Claim your inheritance from the unlimited Father. You say: Oh God! However, He is in fact the Creator, and so He would definitely create heaven. That One is the only Father who creates heaven which lasts for half the cycle. Baba explains so many secrets to you. You children have to make effort to imbibe it. Baba has also shown you the meaning of the discus of self-realisation so clearly. Only Brahmins can remember the cycle of 84 births. This is remembering the cycle by connecting your intellects in yoga. However, Maya repeatedly breaks your yoga and creates obstacles. If it were easy, everyone would pass and a rosary of hundreds of thousands would be created, but this drama is created systematically. There are eight main ones; there cannot be any difference in them. All the princes and princesses up to the end of the silver age study together here. The subjects would also study here, since the kingdom is established here. Only the Father establishes a kingdom. None of the preceptors establish a kingdom. This is a very wonderful secret. Where did the kingdom of Lakshmi and Narayan come from in the golden age since there is no kingdom in the iron age? There are innumerable religions. The people of Bharat are poverty-stricken. The night of the iron age ends, the day begins and the kingdom starts. What happened? They show the play of Allah-Aladdin. Plenty of treasures emerge from there. You go and see Paradise in a second through divine vision. Achcha.

The mother and Father, Bap and Dada and all the children, the whole family, are sitting together. To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do the service of refreshing everyone like the Father does. Become chatraks and perform the dance of knowledge and also inspire others.
  2. Renounce any consciousness of your body and die alive to the old world. Practise being bodiless. Make yourself worthy of the inheritance of heaven.
Blessing:May you be free from all bondages and, with the blessing of the flying stage, continue to move constantly forward.
To belong to the Father means to receive the blessing of the flying stage. By using this blessing in your life practically, you will never step back in anything; you will continue to move forward. When you have the company of the Almighty Authority Father, you are always at the front in every step. You are constantly full and you also do the service of making others full. Such souls never allow themselves to be obstructed by any obstruction. Such blessed children can never be tied by any bondage, they become free from all bondages.
Slogan:The elements become the servants of those who have a stock of all powers.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 MARCH 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 March 2018

To Read Murli 26 March 2018 :- Click Here
27-03-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – विजयी रत्न बनने के लिए जीते जी मरकर देही-अभिमानी बन बाप के गले का हार बनने का पुरुषार्थ करो”
प्रश्नः-स्वदर्शन चक्र का राज़ स्पष्ट होते हुए भी बच्चों में धारणा नम्बरवार होती है – क्यों?
उत्तर:-क्योंकि यह ड्रामा बहुत कायदे अनुसार बना हुआ है। ब्राह्मण ही 84 जन्मों को समझकर याद कर सकते हैं लेकिन माया ब्राह्मणों को ही याद में विघ्न डालती है, घड़ी-घड़ी योग तोड़ देती है। अगर एक समान धारणा हो जाए, सब सहज पास हो जाएं तो लाखों की माला बन जाये इसलिए राजधानी स्थापन होने के कारण नम्बरवार धारणा होती है।
गीत:-मरना तेरी गली में…

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। यह है मरजीवापने का जन्म। मनुष्य जब शरीर छोड़ते हैं तो दुनिया मिट जाती है, आत्मा अलग हो जाती है तो न मामा, न चाचा कुछ भी नहीं रहते। कहा जाता है – यह मर गया अर्थात् आत्मा जाकर परमात्मा से मिली। वास्तव में कोई जाते नहीं हैं। परन्तु मनुष्य समझते हैं आत्मा वापिस गई या ज्योति ज्योत में समाई। अब बाप बैठ समझाते हैं – यह तो बच्चे जानते हैं आत्मा को पुनर्जन्म लेना ही होता है। पुनर्जन्म को ही जन्म-मरण कहा जाता है। पिछाड़ी में जो आत्मायें आती हैं, हो सकता है एक जन्म लेना पड़े। बस, वह छोड़ फिर वापस चली जायेगी। पुनर्जन्म लेने का भी बड़ा भारी हिसाब-किताब है। करोड़ों मनुष्य हैं एक-एक का विस्तार तो नहीं बता सकेंगे। अब तुम बच्चे कहते हो – हे बाबा, हमारी देह के जो भी सम्बन्ध हैं वे सब त्याग अब हम तुम्हारे गले का हार बनने आये हैं अर्थात् जीते जी आपका होने आये हैं। पुरुषार्थ तो शरीर के साथ करना पड़ेगा। अकेली आत्मा तो पुरुषार्थ कर न सके। बाप बैठ समझाते हैं – जब रूद्र यज्ञ रचते हैं तो वहाँ शिव का चित्र बड़ा मिट्टी का बनाते हैं और अनेक सालिग्राम के चित्र मिट्टी के बनाते हैं। अब वह कौन से सालिग्राम हैं जो बनाकर और फिर उनकी पूजा करते हैं? शिव को तो समझेंगे कि यह परमपिता परमात्मा है। शिव को मुख्य रखते हैं। आत्मायें तो ढेर हैं। तो वे भी सालिग्राम बहुत बनाते हैं। 10 हजार अथवा 1 लाख भी सालिग्राम बनाते हैं। रोज़ बनाया और तोड़ा फिर बनाया। बड़ी मेहनत लगती है। अब वह न पुजारी, न यज्ञ रचवाने वाले ही जानते हैं कि यह कौन है। क्या इतनी सब आत्मायें पूज्यनीय लायक हैं? नहीं। अच्छा, समझो भारतवासियों के 33 करोड़ सालिग्राम बनायें, वह भी हो नहीं सकता क्योंकि सभी तो बाप को मदद देते नहीं। यह बड़ी गुह्य बातें हैं समझने की। चार पांच लाख रूपया खर्च करते हैं रूद्र यज्ञ रचने में। अच्छा, अब शिव तो परमपिता परमात्मा ठीक है बाकी सालिग्राम इतने सब कौन से बच्चे हैं, जो पूजे जाते हैं? इस समय तुम बच्चे ही बाप को जानते हो और मददगार बनते हो। प्रजा भी तो मदद करती है ना। शिवबाबा को जो याद करते हैं, वह स्वर्ग में तो आ जायेंगे। भल ज्ञान किसको न भी दें तो भी स्वर्ग में आ जायेंगे। वह तो कितने ढेर होंगे! परन्तु मुख्य 108 हैं। मम्मा भी देखो कितनी जबरदस्त रत्न है! कितनी पूजी जाती है! अब तुम बच्चों को देही-अभिमानी जरूर बनना है। जन्म-जन्मान्तर तुम देह-अभिमानी रहे हो। कोई भी मनुष्य ऐसे नहीं कहेगा कि मैं आत्मा परमपिता परमात्मा की सन्तान हूँ। सन्तान हैं तो उनकी पूरी बायोग्राफी मालूम होनी चाहिए। पारलौकिक बाप की बायोग्राफी बड़ी जबरदस्त है। तो बच्चे कहते हैं अब जीते जी मरकर बाबा हम आपके गले का हार जरूर बनेंगे। आत्माओं की भी बड़ी-बड़ी माला है। वैसे ही फिर मनुष्य सृष्टि की बड़े ते बड़ी माला है। प्रजापिता ब्रह्मा है मुख्य। इनको आदम, आदि देव, महावीर भी कहते हैं। अब यह बड़ी गुह्य बातें हैं।

तुम समझते हो हम सब आत्मायें एक निराकार बाप की सन्तान हैं और यह मनुष्य सृष्टि का सारा सिजरा है जिसको जिनॉलॉजिकल ट्री कहा जाता है। जैसे सरनेम होता है ना – अग्रवाल, फिर उनके बच्चे पोत्रे अग्रवाल ही होंगे। सिजरा बनाते हैं ना। एक से फिर बढ़ते-बढ़ते बड़ा झाड़ हो जाता है। जो भी आत्मायें हैं वह शिवबाबा के गले का हार हैं। वह तो अविनाशी है। प्रजापिता ब्रह्मा भी तो है। नई दुनिया कैसे रची जाती है, क्या प्रलय हो जाती है? नहीं। दुनिया तो कायम है सिर्फ जब पुरानी होती है तो बाप आकर उनको नया बनाते हैं। अभी तुम समझते हो हम नये ते नये थे। हमारी आत्मा पवित्र नई थी। प्योर सोना थी, उनसे फिर हम आत्माओं को जेवर (शरीर) भी सोना मिला, उसको काया कल्पतरू कहते हैं। यहाँ तो मनुष्यों की एवरेज आयु 40-45 वर्ष रहती है। कोई-कोई की करके 100 वर्ष होती है। वहाँ तो तुम्हारी आयु एवरेज 125 वर्ष से कम होती नहीं। तुम्हारी आयु कल्प वृक्ष समान बनाते हैं। कभी अकाले मृत्यु नहीं होगी। तुम आत्मायें शिवबाबा के बच्चे हो, ब्रह्मा द्वारा जरूर ब्राह्मण पैदा होंगे, उनसे फिर प्रजा रची जाती है। पहले-पहले तुम ब्राह्मण बनते हो ब्रह्मा मुख वंशावली। शिवबाबा तो एक है फिर माता कहाँ? यह बड़ा गुह्य राज़ है। मैं इन द्वारा आकर तुम बच्चों को एडाप्ट करता हूँ। तो तुम पुरानी दुनिया से जीते जी मरते हो। वह जो एडाप्ट करते हैं वह धन देने के लिए करते हैं। बाप एडाप्ट करते हैं स्वर्ग का वर्सा देने के लिए, लायक बनाते हैं। साथ में ले जायेंगे इसलिए इस पुरानी दुनिया से जीते जी मरना है। गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र बन बाप का बनना है। हम वहाँ के रहने वाले हैं फिर सतयुग में सुख का पार्ट बजाया। यह बातें बाप समझाते हैं। शास्त्रों में तो हैं नहीं। अब बाप बैठ तुम आत्माओं को पवित्र बनाते हैं। आत्मा की मैल निकालते हैं। तुमको ज्ञान का तीसरा नेत्र मिलता है। उन्हों ने फिर तीजरी की कथा बैठ बनाई है। वास्तव में बात यहाँ की है। तुमको ब्रह्माण्ड से लेकर सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का सारा समाचार मिल जाता है। बाप एक ही बार आकर समझाते हैं। सन्यासी तो पुनर्जन्म लेते रहते हैं। यह तो आया और बच्चों को पढ़ाया। बस। यह तो नई बात हो जाती है। शास्त्रों में यह बातें हैं नहीं। यह बहुत बड़े ते बड़ा कॉलेज है। कायदा है एक हफ्ता तो अच्छी रीति समझना पड़े। भट्ठी में बैठना पड़े। गीता का पाठ अथवा भागवत का पाठ भी एक हफ्ता रखते हैं ना, तो सात रोज़ भट्ठी में बैठना पड़े। विकारी तो सभी हैं, भले सन्यासी घरबार छोड़ निर्विकारी बनते हैं फिर भी जन्म विकार से लेकर फिर निर्विकारी बनने लिए सन्यास करते हैं। कई पुनर्जन्म को भी मानते हैं क्योंकि मिसाल देखते हैं। कोई बहुत वेद-शास्त्र पढ़ते-पढ़ते शरीर छोड़ते हैं तो उन संस्कारों अनुसार फिर जन्म लेते हैं, तो छोटेपन में ही शास्त्र अध्ययन हो जाते हैं। जन्म ले अपने को अपवित्र समझ फिर पवित्र बनने के लिए सन्यास करते हैं। तुम तो एक ही बार पवित्र बन देवता बनते हो। तुमको फिर सन्यास नहीं करना पड़ेगा। तो उनका सन्यास अधूरा हुआ ना। यह बातें खुद भी समझा नहीं सकते हैं। बाबा बैठ समझाते हैं। वह है उत्तम ते उत्तम बाप, जिसके तुम बच्चे बने हो। यह स्कूल भी है, रोजाना नई-नई बातें निकलती हैं। कहते हैं आज गुह्य ते गुह्य सुनाता हूँ। नहीं सुनेंगे तो धारणा कैसे होगी? अब बाप बैठ समझाते हैं तुम मेरे बने हो तो शरीर का भान छोड़ो, मैं गाइड बन आया हूँ वापिस ले जाने।

तुम हो पाण्डव सम्प्रदाय। वह जिस्मानी पण्डे हैं, तुम रूहानी पण्डे हो। वह जिस्मानी यात्रा पर ले जाते हैं। तुम्हारी है रूहानी यात्रा। उन्होंने तो पाण्डवों को हथियार दे, युद्ध के मैदान में दिखाया है। अभी तुम बच्चों में भी ताकत चाहिए। बहुत होते जायेंगे तो फिर ताकत भी बढ़ती जायेगी। तो बाप बैठ समझाते हैं कि मैंने तुमको गोद में लिया है इस ब्रह्मा द्वारा इसलिए इनको मात-पिता कहा जाता है। यह तो सब कहते हैं तुम मात-पिता हम बालक तेरे। अच्छा, उनको तो गॉड फादर कहा जाता है। गॉड मदर तो नहीं कहा जाता। तो मदर कैसे कहते? मनुष्य फिर जगदम्बा को मदर समझ लेते हैं। परन्तु नहीं, उनके भी मात-पिता हैं, उनकी माता भला कौन सी है? यह बड़ी गुह्य बातें हैं। गायन तो है परन्तु सिद्ध कर कौन समझाये? तुम जानते हो यह मात-पिता है। पहले है माता। बरोबर तुमको इस ब्रह्मा माता के पास पहले आना पड़े। इनमें प्रवेश कर तुमको एडाप्ट करता हूँ, इसलिए यह मात-पिता ठहरे। यह बातें कोई शास्त्र में नहीं हैं। यह बाप बैठ समझाते हैं – कैसे तुम मुख वंशावली बनते हो। मैं ब्रह्मा मुख से तुमको रचता हूँ। कोई राजा है, कहेंगे मुख से तुमको कहता हूँ तुम मेरे हो। यह आत्मा कहती है। परन्तु उनको फिर भी मात-पिता नहीं कहेंगे। यह बड़ी वन्डरफुल बात है। तुम जानते हो हम शिवबाबा के बने हैं तो यह देह का भान छोड़ना पड़े। अपने को आत्मा अशरीरी समझना मेहनत का काम है। इसको कहा ही जाता है राजयोग और ज्ञान। दोनों अक्षर आते हैं। मनुष्य जब मरते हैं तो उनको कहते हैं राम-राम कहो या गुरू लोग अपना नाम दे देते हैं। गुरू मर जाता तो फिर उनके बच्चे को गुरू कर देते हैं। यहाँ तो बाप जायेंगे तो सभी को जाना है। यह मृत्युलोक का अन्तिम जन्म है। बाबा हमको अमरलोक में ले जाते हैं, वाया मुक्तिधाम जाना है।

यह भी समझाया जाता है जब विनाश होता है तो यह कलियुग का पुर नीचे चला जाता है। सतयुग ऊपर आ जाता है। बाकी कोई समुद्र के अन्दर नहीं चले जाते हैं। यहाँ तुम बच्चे सागर के पास आते हो रिफ्रेश होने। यहाँ तुम सम्मुख ज्ञान डांस देखते हो, दिखाते हैं गोप-गोपियों ने कृष्ण को डांस कराई, यह बात इस समय की है। चात्रक बच्चों के सामने बाप की मुरली चलती है। बच्चों को भी सीखना पड़े। फिर जो जितना सीखे। समझाना है बेहद के बाप से स्वर्ग का वर्सा लो। हे भगवान कहते हो, वह तो है रचयिता। जरूर स्वर्ग ही रचेंगे। यह एक ही बाप है जो स्वर्ग रचते हैं वो फिर आधाकल्प चलता है। बाबा तुम्हें कितने राज़ समझाते हैं। बच्चों को मेहनत कर धारणा करनी है। स्वदर्शन चक्र का राज़ भी बाबा ने कितना साफ बताया है। 84 जन्मों के चक्र को ब्राह्मण ही याद कर सकते हैं। यह है बुद्धि का योग लगाकर चक्र को याद करना। परन्तु माया घड़ी-घड़ी योग तोड़ देती है, विघ्न डालती है। सहज हो तो फिर सब पास कर लें। लाखों की माला बन जाये। यह तो ड्रामा ही कायदे अनुसार है। मुख्य हैं 8, उनमें फ़र्क नहीं पड़ सकता। त्रेता के अन्त में जितने प्रिन्स-प्रिन्सेज हैं सभी मिलकर जरूर यहाँ ही पढ़ते होंगे। प्रजा भी पढ़ती होगी। यहाँ ही किंगडम स्थापन होती है। बाप ही किंगडम स्थापन करते हैं और कोई प्रीसेप्टर किंगडम नहीं स्थापन करते। यही बड़ा वन्डरफुल राज़ है। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण का राज्य कहाँ से आया? कलियुग में तो राजाई है नहीं। अनेक धर्म हैं। भारतवासी कंगाल हैं। कलियुग की रात पूरी हो, दिन शुरू हुआ और बादशाही चली। यह क्या हुआ! अल्लाह अवलदीन का खेल दिखाते हैं ना। तो कारून के खजाने निकल आते हैं। तुम सेकेण्ड में दिव्य दृष्टि से वैकुण्ठ देख आते हो। अच्छा!

मात-पिता, बापदादा, बच्चे सारी फैमली इक्ट्ठी बैठी है। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप समान सभी को रिफ्रेश करने की सेवा करनी है। चात्रक बन ज्ञान डांस करनी और करानी है।

2) इस शरीर का भान छोड़ पुरानी दुनिया से जीते जी मरना है। अशरीरी रहने का अभ्यास करना है। स्वयं को स्वर्ग के वर्से का लायक भी बनाना है।

वरदान:-उड़ती कला के वरदान द्वारा सदा आगे बढ़ने वाले सर्व बन्धन मुक्त भव 
बाप का बनना अर्थात् उड़ती कला के वरदानी बनना। इस वरदान को जीवन में लाने से कभी किसी कदम में भी पीछे नहीं होंगे। आगे ही आगे बढ़ते रहेंगे। सर्वशक्तिमान बाप का साथ है तो हर कदम में आगे हैं। स्वयं भी सदा सम्पन्न और दूसरों को भी सम्पन्न बनाने की सेवा करते हैं। वे किसी भी प्रकार की रुकावट में अपने कदमों को रोकते नहीं। ऐसे वरदानी बच्चे किसी के बन्धन में आ नहीं सकते, सर्व बन्धनों से मुक्त हो जाते हैं।
स्लोगन:-जिनके पास सर्व शक्तियों का स्टॉक है, प्रकृति उनकी दासी बन जाती है।
Font Resize