daily murli 14 september

TODAY MURLI 14 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 14 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 12 September 2019:- Click Here

14/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence:Sweet children, when you become satopradhan, numberwise, the force of natural calamities –of destruction, will increase and this old world will end.
Question:By making which effort can you effort-makers attain the full inheritance from the Father?
Answer:In order to claim your full inheritance, first of all, make the Father your Heir, that is, surrender whatever you have to the Father. 1. Make the Father your Child and you will claim a right to your full inheritance. 2. Become completely pure and you will receive your full inheritance. If you have not become completely pure, you will receive a small reward after experiencing punishment.

Om shanti. You children must not just sit in remembrance of one. You have to sit in remembrance of all three. Although they are all the One, you know that He is the Father, the Teacher and also the Satguru. He has come to take all of us back. Only you understand this new aspect. You children know that all of those others who teach devotion and read the scriptures are human beings. That One cannot be called a human being. That One is the Incorporeal and He sits here and teaches incorporeal souls. Souls listen through their bodies. This knowledge should remain in your intellects. You are now sitting in remembrance of the unlimited Father. The unlimited Father has said: Spiritual children, remember Me and your sins will be cut away. It is not a question of the scriptures etc. here. You know that the Father is teaching you Raj Yoga. He is such a great Teacher. He is the Highest on High and so He also enables you to claim the highest-on-high status. When you become satopradhan, numberwise, according to the efforts you make, the war will begin. There will also be natural calamities. You definitely have to have remembrance. There should also be all the knowledge in your intellects. The Father only comes once, at the most auspicious confluence age, and explains to you for the new world. Even little children can remember the Father. You are sensible and you know that, by remembering the Father, your sins will be absolved and you will receive a high status from the Father. You also know that the status Lakshmi and Narayan received for the new world was received from Shiv Baba. Lakshmi and Narayan went around the cycle of 84 births and have now become Brahma and Saraswati. They will then become Lakshmi and Narayan. They are now making effort. You have the knowledge of the beginning, middle and end of the world. You would no longer bow down in blind faith in front of the deity idols. People go in front of the idols of the deities and prove themselves to be impure. They say: You are full of all virtues, whereas we are sinful and vicious and have no virtues. You yourselves are becoming like the ones you used to sing the praise of. You ask: Baba, when did reading the scriptures etc. begin? The Father says: From the time the kingdom of Ravan began. All of those things are the paraphernalia of the path of devotion. While you sit here, your intellects should imbibe all the knowledge. You souls will carry these sanskars. You will not carry the sanskars of devotion away with yourselves. Those who have the sanskars of devotion will take birth to human beings in the old world. That too is necessary. Your intellects have to rotate the cycle of knowledge. Together with that, you also have to remember Baba. Baba is our Father too. If you remember the Father, your sins will be absolved. Baba is also our Teacher and so the study would enter our intellects. We also have the knowledge of the world cycle in our intellects through which we become the rulers of the globe. (The pilgrimage of remembrance took place.) Om shanti. Knowledge and devotion; the Father is called the Ocean of Knowledge. He knows everything about devotion – when it began and when it will end. Human beings do not know that. Only the Father comes and explains all of this. In the golden age, you deities were the masters of the world. There was no mention of devotion there. There wasn’t a single temple there. All were just deities. Later, when the world becomes half old, that is, when 2500 years have passed, when it is the confluence of the silver and copper ages, Ravan comes. There definitely has to be a confluence. Ravan comes at the confluence of the silver and copper ages when the deities fall on to the path of sin. No one, apart from you, knows this. The Father comes at the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age, whereas Ravan comes at the confluence of the silver and copper ages. That confluence cannot be called a beneficial confluence. That confluence can only be called non-beneficial. Only the Father is named “The Benevolent One”. The non-beneficial age begins with the copper age. The Father is the Living Seed. He has the knowledge of the whole tree. If that seed were living, it would explain how the tree emerges from it. However, because it is non-living, it is not able to say anything. We can understand that, by a seed being sown, a small plant first emerges. Then, it grows and begins to give fruit. However, only the Living One can tell you everything. In the world nowadays, people continue to do all sorts of things. They continue to invent things. They try to go to the moon. You now listen to all of those things. They go up so high, hundreds of thousands of miles to the moon, to do research and find out what that place is. They go so deep into the ocean to try to find out about it, but they cannot reach its end. There is just water and more water. They go up high in aeroplanes and so they need to have enough petrol to go there and also come back. The sky is unlimited and the ocean is also unlimited. Just as that One is the unlimited Ocean of Knowledge, so that is the unlimited ocean of water. The element of sky is also unlimited. The earth too is unlimited – you can keep going! Below the ocean there is land. On what are the mountains standing? On the earth. They dig the earth and the mountains emerge and, below that, there is also water. The ocean too is on land. No one can reach the end of the water and land. You would not say that the Supreme Father, the Supreme Soul, who is the unlimited Father, is infinite, even though people say that God is infinite and that Maya is infinite. However, you understand that God cannot possibly be infinite, but yes, this sky is infinite. There are the five elements – earth, water, fire, air, sky; they all become tamopradhan. Souls too become tamopradhan and then the Father comes and makes them satopradhan. Souls are so tiny and they take 84 births. This cycle continues to turn. This is an eternal play which has no end; it continues eternally. If you could say when it began, it would then also have an end. However, you have to explain how the new world begins and how it then becomes old. This is the cycle of 5000 years which continues to turn. You now know this, but those people have simply written lies. It is written in the scriptures that the duration of the golden age is many hundreds of thousands of years. Therefore, when people hear that, they consider it to be the truth. They don’t know when God will come and give His own introduction. Because of not knowing this and until you explain to them they will continue to say that 40,000 years of the iron age still remain. You have now become instruments to explain to them that the duration of the cycle is 5000 years, not hundreds of thousands of years. There is so much paraphernalia of the path of devotion. When people have money, they spend so much. The Father says: I depart after giving you so much wealth. The unlimited Father would definitely give you the unlimited inheritance. You receive happiness through that and your lifespan is long too. The Father says to you children: My beloved children, may you have a long life! There, your lifespan is 150 years and death never comes to you. The Father gives you a blessing and makes your lives long; you will remain immortal. There will not be untimely death there. You remain very happy there and that is why it is called the land of happiness. The lifespan is long and you also receive a lot of wealth and a lot of happiness. From being poverty-stricken you become crowned. This is in your intellects: The Father comes to establish the deity religion. That will definitely be a small tree. There is just one religion, one kingdom and one language there. That is called peace in the world. We are actors of the whole world. No one in the world knows this. If they knew this, they would be able to tell us when we began to play our parts. The Father is now explaining to you children. There is a song that says: From no one else can you receive all the things you receive from Baba. He gives you the whole earth and sky and the kingdom of the whole world. This Lakshmi and Narayan were the masters of the world and then all the kings that came later were the kings of Bharat. It is sung: The things that Baba gives us cannot be given by anyone else. The Father Himself comes and enables us to attain that. So, all of this knowledge should remain in your intellects so that you can explain to anyone. You have to understand that much. Who is able to explain? Those who are free from bondage. When someone comes to Baba, Baba asks: How many children do you have? They say: I have five children of my own and the sixth Child is Shiv Baba, and so He is definitely the oldest Child of all. If you belong to Shiv Baba, then Shiv Baba will make you His child and make you into a master of the world. Children become heirs. Lakshmi and Narayan are full heirs of Shiv Baba. In their previous birth, they gave everything they had to Shiv Baba. So, the children surely have to receive the inheritance. Baba said: Make Me your Heir and let there not be anyone else. You say: Baba, all of this is Yours and everything of Yours is mine. You give me the sovereignty of the whole world because I gave You everything I had. This is fixed in the drama. Arjuna was shown a vision of destruction and also the four-armed image. Arjuna is not someone else. This one had those visions. Look, I am receiving this kingdom, and so why should I not make Shiv Baba my Heir? He then makes me His heir. This is a very good deal. He didn’t ask anyone for anything. This one gave away everything in an incognito way. This is called an incognito donation. What did anyone know of what happened to him? Some people thought that he had taken up disinterest and had perhaps become a sannyasi. So, these daughters also say: I have five children of my own, and I will make that One my other Child. This one placed everything in front of Baba, through which many people were served. When everyone else saw Baba, they had the same thought and so they renounced their homes and came running to Baba. It was from that time that upheaval began. They showed the courage of leaving their homes and families. It is written in the scriptures that a furnace (bhatthi) had to be created because they definitely needed solitude. No one, apart from the Father, should be remembered. Let there not be remembrance of any friends or relatives etc. either, because souls that have become impure definitely have to be made pure. The Father says: While living at home with your family, become pure. There is difficulty because of this. They used to say: This knowledge is such that it starts a quarrel between husband and wife, because if one of them becomes pure and the other one doesn’t, there would be violence. All of those people experienced being beaten because this was suddenly something new. Everyone was amazed and asked: What has happened that so many have run away? People didn’t have any understanding but said that there was definitely some power. There has never been a time before when everyone left their homes and ran away. All of those things were the divine activities of Shiv Baba in the drama. Some even ran away empty handed. That too is in the play. They ran away leaving their homes and families behind. They didn’t remember anything else at all, but just had their bodies with which they had to do all the work. Souls have to be made pure with the pilgrimage of remembrance. Only then can pure souls go back home. Impure souls cannot go to heaven; it is not the law. Only pure souls are needed in the land of liberation. There are so many obstacles in becoming pure. Previously, no one was forbidden to go to spiritual gatherings etc.; they would go anywhere they wanted. Here, because of purity, there were obstacles. You understand that you cannot go back home without becoming pure; there would be punishment through Dharamraj. Then, a little reward would be received. If you don’t have to experience punishment, you will receive a good status. This is something to be understood. The Father says: Sweet children, you have to come to Me. You have to shed those old bodies and return home as pure souls. Then, when the five elements have become new and satopradhan, you will receive new satopradhan bodies. Everything will be turned over and become new. Just as Baba comes and sits in this one, so too, this soul will go and sit in the palace of a womb without any difficulty. Then, when it is time, he will come out and it will be as though there is a flash of light all around because the soul is pure. All of this is fixed in the drama. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to make the soul pure, stay in a bhatthi in solitude. Do not remember any friends or relatives apart from the one Father.
  2. Keep all the knowledge in your intellect, become free from bondage and serve others. Make a true bargain with the Father. Just as the Father gave everything away in an incognito way, so too, make an incognito donation.
Blessing:May you serve with the consciousness of being an instrument and with humility and thereby become an embodiment of elevated success.
A server means constantly to be an instrument and have humility like the Father. To have humility is the means of elevated success. In order to achieve success in any service, adopt the consciousness of being an instrument and have humility. By doing this, you will constantly experience pleasure in doing service. There will never be tiredness from serving. No matter what service you receive to do, you will achieve success by using these two specialities and become an embodiment of success.
Slogan:Practise becoming bodiless in a second and you will become part of the sun dynasty.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 September 2019

To Read Murli 13 September 2019:- Click Here
14-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – जब तुम नम्बरवार सतोप्रधान बनेंगे तब यह नैचुरल कैलेमिटीज़ वा विनाश का फोर्स बढ़ेगा और यह पुरानी दुनिया समाप्त होगी”
प्रश्नः-कौन-सा पुरूषार्थ करने वालों को बाप का पूरा वर्सा प्राप्त होता है?
उत्तर:-पूरा वर्सा लेना है तो पहले बाप को अपना वारिस बनाओ अर्थात् जो कुछ तुम्हारे पास है, वह सब बाप पर बलिहार करो। बाप को अपना बच्चा बना लो तो पूरे वर्से के अधिकारी बन जायेंगे। 2. सम्पूर्ण पवित्र बनो तब पूरा वर्सा मिलेगा। सम्पूर्ण पवित्र नहीं तो मोचरा खाकर थोड़ी-सी मानी (रोटी) मिल जायेगी।

ओम् शान्ति। बच्चों को सिर्फ एक की याद में नहीं बैठना है। तीन की याद में बैठना है। भल एक ही है परन्तु तुम जानते हो वह बाप भी है, शिक्षक भी है, सतगुरू भी है। हम सबको वापिस ले जाने आये हैं, यह नई बात तुम ही समझते हो। बच्चे जानते हैं वह जो भक्ति सिखाते हैं, शास्त्र सुनाते हैं, वह सब हैं मनुष्य। इनको तो मनुष्य नहीं कहेंगे ना। यह तो है निराकार, निराकार आत्माओं को बैठ पढ़ाते हैं। आत्मा शरीर द्वारा सुनती है। यह ज्ञान बुद्धि में होना चाहिए। अभी तुम बेहद के बाप की याद में बैठे हो। बेहद के बाप ने कहा है – रूहानी बच्चों, मुझे याद करो तो पाप कट जाएं। यहाँ शास्त्र आदि की कोई बात नहीं। जानते हो बाप हमको राजयोग सिखला रहे हैं। कितना भारी टीचर है, ऊंच ते ऊंच, तो पद भी ऊंच ते ऊंच प्राप्त कराते हैं। जब तुम सतोप्रधान बन जायेंगे नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार तब फिर लड़ाई होगी। नैचुरल कैलेमिटीज भी होंगी। याद भी जरूर करना है। बुद्धि में सारा ज्ञान भी होना चाहिए। सिर्फ एक ही बार पुरूषोत्तम संगमयुग पर बाप आकर समझाते हैं, नई दुनिया के लिए। छोटे बच्चे भी बाप को याद करते हैं। तुम तो समझदार हो, जानते हो बाप को याद करने से विकर्म विनाश होंगे और बाप से ऊंच पद पायेंगे। यह भी जानते हो इन लक्ष्मी-नारायण ने नई दुनिया में जो पद पाया है वह शिवबाबा से ही पाया है। यह लक्ष्मी-नारायण ही फिर 84 का चक्र लगाकर अभी ब्रह्मा-सरस्वती बने हैं। यही फिर लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। अभी पुरूषार्थ कर रहे हैं। सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त का तुमको ज्ञान है। अब तुम अन्धश्रद्धा से देवताओं के आगे माथा नहीं झुकायेंगे। देवताओं के आगे मनुष्य जाकर अपने को पतित सिद्ध करते हैं। कहते हैं आप सर्वगुण सम्पन्न हो, हम पापी विकारी हैं, कोई गुण नहीं है। तुम जिनकी महिमा गाते थे, अभी तुम स्वयं बन रहे हो। कहते हैं – बाबा, यह शास्त्र आदि कब से पढ़ना शुरू हुआ है? बाप कहते हैं जब से रावण राज्य शुरू हुआ है। यह सब है भक्ति की सामग्री। तुम जब यहाँ बैठते हो तो बुद्धि में सारा ज्ञान धारण होना चाहिए। यह संस्कार आत्मा ले जायेगी। भक्ति के संस्कार नहीं जाने हैं। भक्ति के संस्कार वाले पुरानी दुनिया में मनुष्यों के पास ही जन्म लेंगे। यह भी जरूर है। तुम्हारी बुद्धि में यह ज्ञान का चक्र चलना चाहिए। साथ-साथ बाबा को भी याद करना है। बाबा हमारा बाप भी है। बाप को याद किया तो विकर्म विनाश होंगे। बाबा हमारा टीचर भी है तो पढ़ाई बुद्धि में आयेगी और सृष्टि चक्र का ज्ञान बुद्धि में है, जिससे तुम चक्रवर्ती राजा बनेंगे। (याद की यात्रा चल रही है)

ओम् शान्ति। भक्ति और ज्ञान। बाप को कहा जाता है ज्ञान का सागर। उनको भक्ति का सारा मालूम है – भक्ति कब शुरू हुई, कब पूरी होगी। मनुष्यों को यह पता नहीं। बाप ही आकर समझाते हैं। सतयुग में तुम देवी-देवता विश्व के मालिक थे। वहाँ भक्ति का नाम नहीं। एक भी मन्दिर नहीं था। सब देवी-देवता ही थे। पीछे जब आधी दुनिया पुरानी होती है यानी 2500 वर्ष पूरे होते हैं अथवा त्रेता और द्वापर का संगम होता है तब रावण आता है। संगम तो जरूर चाहिए। त्रेता और द्वापर के संगम पर रावण आते हैं जबकि देवी-देवता वाम मार्ग में गिरते हैं। यह सिवाए तुम्हारे कोई नहीं जानते। बाप भी आते हैं कलियुग अन्त और सतयुग आदि के संगम पर और रावण आता है त्रेता और द्वापर के संगम पर। अब उस संगम को कल्याणकारी नहीं कहेंगे। उनको तो अकल्याणकारी ही कहेंगे। बाप का ही नाम कल्याणकारी है। द्वापर से अकल्याणकारी युग शुरू होता है। बाप तो है चैतन्य बीजरूप। उनको सारे झाड़ की नॉलेज है। वह बीज भी अगर चैतन्य हो तो समझावे – मेरे से यह झाड़ ऐसे निकलता है। परन्तु जड़ होने कारण बता नहीं सकता। हम समझ सकते हैं कि बीज डालने से पहले झाड़ छोटा-सा निकलता है। फिर बड़ा हो फल देना शुरू करता है। परन्तु चैतन्य ही सब कुछ बता सकते हैं। दुनिया में तो आजकल मनुष्य क्या-क्या करते रहते हैं। इन्वेन्शन निकालते रहते हैं। चन्द्रमा में जाने की कोशिश करते हैं। यह सब बातें अभी तुम सुन रहे हो। चन्द्रमा तरफ कितना ऊंचा लाखों माइल्स तक चले जाते हैं, जांच करने के लिए कि देखें चन्द्रमा क्या चीज़ है? समुद्र में कितना दूर तक जाते हैं, जांच करते हैं, परन्तु अन्त पा नहीं सकते, पानी ही पानी है। एरोप्लेन में ऊपर जाते हैं, उन्हों को पेट्रोल इतना डालना है जो फिर वापिस भी आ सकें। आकाश बेहद है ना, सागर भी बेहद है। जैसे यह बेहद का ज्ञान सागर है, वह है पानी का बेहद का सागर। आकाश तत्व भी बेहद है। धरती भी बेहद है, चलते जाओ। सागर के नीचे फिर धरती है। पहाड़ी किस पर खड़ी है? धरती पर। फिर धरती को खोदते हैं तो पहाड़ निकल आता, उसके नीचे फिर पानी भी निकल आता है। सागर भी धरनी पर है। उसका कोई अन्त नहीं पा सकते हैं कि कहाँ तक पानी है, कहाँ तक धरती है? परमपिता परमात्मा जो बेहद का बाप है, उनके लिए बेअन्त नहीं कहेंगे। मनुष्य भल कहते हैं ईश्वर बेअन्त है, माया भी बेअन्त हैं। परन्तु तुम समझते हो ईश्वर तो बेअन्त हो ही नहीं सकता। बाकी यह आकाश बेअन्त है। यह 5 तत्व हैं, आकाश, वायु…… यह 5 तत्व तमोप्रधान बन जाते हैं। आत्मा भी तमोप्रधान बनती है फिर बाप आकर सतोप्रधान बनाते हैं। कितनी छोटी आत्मा है, 84 जन्म भोगती है। यह चक्र फिरता ही रहता है। यह अनादि नाटक है, इनका अन्त नहीं होता। यह परमपरा से चला आता है। कब से शुरू हुआ – यह कहें तो फिर अन्त भी हो। बाकी यह बात समझानी है – कब से नई दुनिया शुरू होती है। फिर पुरानी होती है। यह 5 हज़ार वर्ष का चक्र है जो फिरता ही रहता है। अभी तुम जानते हो, बाकी उन्हों ने तो धुक्का (गपोड़ा) लगा दिया है। शास्त्रों में लिखा है कि सतयुग की आयु इतने लाखों वर्ष है। तो मनुष्य सुनते-सुनते उनको ही सच समझ लेते हैं। यह पता नहीं पड़ता – भगवान कब आकर अपना परिचय देंगे? न जानने के कारण कह देते हैं कलियुग की आयु 40 हज़ार वर्ष अभी पड़ी है। जब तक तुम न समझाओ। अभी तुम निमित्त हो समझाने के लिए कि कल्प 5 हज़ार वर्ष का है, न कि लाखों वर्ष का है।

भक्ति मार्ग की कितनी सामग्री है, मनुष्यों को पैसा होता है तो फिर खर्चा करते हैं। बाप कहते है मैं तुमको कितने पैसे देकर जाता हूँ! बेहद का बाप तो जरूर बेहद का वर्सा देंगे। इससे सुख भी मिलता है, आयु भी बड़ी होती है। बाप बच्चों को कहते हैं – मेरे लाडले बच्चों, आयुश्वान भव। वहाँ तुम्हारी आयु 150 वर्ष रहती है, कभी काल नहीं खा सकता है। बाप वर देते हैं, तुमको आयुश्वान बनाते हैं। तुम अमर बनेंगे। वहाँ कभी अकाले मृत्यु नहीं होगी। वहाँ तुम बहुत सुखी रहते हो इसलिए कहा जाता है सुखधाम। आयु भी बड़ी होती, धन भी बहुत मिलता है, सुखी भी बहुत रहते हो। कंगाल से सिरताज बन जाते हैं। तुम्हारी बुद्धि में है – बाप आते हैं देवी-देवता धर्म की स्थापना करने। वह तो जरूर छोटा झाड़ होगा। वहाँ है ही एक धर्म, एक राज्य, एक भाषा। उसको ही कहा जाता है विश्व में शान्ति। सारे विश्व में हम ही पार्टधारी हैं। यह दुनिया नहीं जानती। अगर जानती हो तो बताये कब से हम पार्ट बजाते आये हैं? अभी तुम बच्चों को बाप समझा रहे हैं। गीत में भी है ना – बाबा से जो मिलता है सो और कोई से नहीं मिलता। सारी पृथ्वी, आसमान, सारी विश्व की राजधानी दे देते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे फिर बाद में जो राजायें आदि होते हैं वह भारत के थे। गायन भी है जो बाबा देते हैं, वह और कोई दे न सके। बाप ही आकर प्राप्ति कराते हैं। तो यह सारा ज्ञान बुद्धि में रहना चाहिए जो कोई को भी समझा सको। इतना समझने का है। अब समझा कौन सकते हैं? जो बन्धनमुक्त हो। बाबा के पास जब कोई आते हैं तो बाबा पूछते हैं – कितने बच्चे हैं? तो कहते 5 बच्चे अपने हैं और छठा बच्चा शिवबाबा है तो जरूर सबसे बड़ा बच्चा ठहरा ना। शिवबाबा के बन गये तो फिर शिवबाबा अपना बच्चा बनाए विश्व का मालिक बना देते हैं। बच्चे वारिस हो जाते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण शिवबाबा के पूरे वारिस हैं। आगे जन्म में शिवबाबा को सब कुछ दे दिया। तो वर्सा जरूर बच्चों को मिलना चाहिए। बाबा ने कहा – मुझे वारिस बनाओ फिर दूसरा कोई नहीं। कहते – बाबा यह सब कुछ आपका है, आपका फिर हमारा है। आप हमको सारे विश्व की बादशाही का वर्सा देते हो क्योंकि तुमको जो कुछ था वह दे दिया। ड्रामा में नूँध है ना। अर्जुन को विनाश भी दिखाया तो चतुर्भुज भी दिखाया। अर्जुन कोई और तो नहीं है, इनको साक्षात्कार हुआ। देखा, राजाई मिलती है तो क्यों न शिवबाबा को वारिस बनाऊं। वह फिर हमको वारिस बनाते हैं। यह सौदा तो बहुत अच्छा है। कभी कोई से कुछ पूछा नहीं। गुप्त सब कुछ दिया। इसको कहा जाता है गुप्त दान। किसको क्या पता, इन्हों को क्या हो गया। किन्हों ने समझा इनको वैराग्य आया, शायद सन्यासी बन गया। तो यह बच्चियां भी कहती हैं – 5 बच्चे तो अपने हैं, बाकी एक बच्चा हम इनको बनायेंगे। इसने भी सब कुछ बाबा के आगे रख दिया, जिससे बहुतों की सर्विस हो। बाबा को देख सबको ख्याल आया, सब घरबार छोड़ भाग आये। वहाँ से ही हंगामा शुरू हुआ। घरबार छोड़ने की उन्होंने हिम्मत दिखाई। शास्त्रों में भी लिखा है – भट्ठी बनी थी क्योंकि उन्हों को एकान्त जरूर चाहिए। सिवाए बाप के और कोई याद न रहे। मित्र-सम्बन्धियों आदि की भी याद न रहे क्योंकि आत्मा जो पतित बनी है उनको पावन जरूर बनाना है। बाप कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र बनो। इस पर ही मुसीबत आती है। कहते थे यह स्त्री-पुरूष के बीच में झगड़ा डालने वाला ज्ञान है क्योंकि एक पवित्र बने, दूसरा न बनें तो मारामारी चल पड़े। इन सबने मारें खाई हैं क्योंकि अचानक नई बात हुई ना। सब आश्चर्य खाने लगे, यह क्या हुआ जो इतने सब भागते हैं। मनुष्यों में समझ तो नहीं है। इतना कहते थे – कोई ताकत है! ऐसा तो कभी हुआ नहीं जो अपना घरबार छोड़ भागे। ड्रामा में यह सब चरित्र शिवबाबा के हैं। कोई हाथ खाली भागे, यह भी खेल है। घरबार आदि सब छोड़ भागे, कुछ भी याद नहीं रहा। बाकी सिर्फ यह शरीर है, जिससे काम करना है। आत्मा को भी याद की यात्रा से पवित्र बनाना है, तब ही पवित्र आत्मायें वापिस जा सकती हैं। स्वर्ग में अपवित्र आत्मा तो जा न सके। कायदा नहीं। मुक्तिधाम में पवित्र ही चाहिए। पवित्र बनने में ही कितने विघ्न पड़ते हैं। आगे कोई सतसंग आदि में जाने के लिए रूकावट थोड़ेही होती थी। कहाँ भी चले जाते थे। यहाँ पवित्रता के कारण विघ्न पड़ते हैं। यह तो समझते हैं – पवित्र बनने बिगर वापिस घर जा न सकें। धर्मराज द्वारा मोचरे (सजायें) खाने पड़ेंगे। फिर थोड़ी मानी मिलेगी। मोचरा नहीं खायेंगे तो पद भी अच्छा मिलेगा। यह समझ की बात है। बाप कहते हैं – मीठे बच्चों, तुमको हमारे पास आना है। यह पुराना शरीर छोड़ पवित्र आत्मा बन आना है। फिर जब 5 तत्व सतोप्रधान नये हो जायेंगे तब तुमको शरीर नये सतोप्रधान मिलेंगे। सारे उथल-पाथल हो नये बन जायेंगे। जैसे बाबा इनमें आकर बैठते हैं, वैसे आत्मा बिगर कोई तकल़ीफ गर्भ महल में जाकर बैठेगी। फिर जब समय होता है तो बाहर आ जाती है तो जैसे बिजली चमक जाती है क्योंकि आत्मा पवित्र है। यह सब ड्रामा में नूँध है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) आत्मा को पावन बनाने के लिए एकान्त की भट्ठी में रहना है। एक बाप के सिवाए दूसरा कोई भी मित्र-सम्बन्घी याद न आये।

2) बुद्धि में सारा ज्ञान रख, बन्धनमुक्त बन दूसरों की सर्विस करनी है। बाप से सच्चा सौदा करना है। जैसे बाप ने सब कुछ गुप्त किया, ऐसे गुप्त दान करना है।

वरदान:-निमित्त और निर्माण भाव से सेवा करने वाले श्रेष्ठ सफलतामूर्त भव
सेवाधारी अर्थात् सदा बाप समान निमित्त बनने और निर्माण रहने वाले। निर्माणता ही श्रेष्ठ सफलता का साधन है। किसी भी सेवा में सफलता प्राप्त करने के लिए नम्रता भाव और निमित्त भाव धारण करो, इससे सेवा में सदा मौज का अनुभव करेंगे। सेवा में कभी थकावट नहीं होगी। कोई भी सेवा मिले लेकिन इन दो विशेषताओं से सफलता को पाते सफलता स्वरूप बन जायेंगे।
स्लोगन:-सेकण्ड में विदेही बनने का अभ्यास हो तो सूर्यवंशी में आ जायेंगे।

TODAY MURLI 14 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 13 September 2017 :- Click Here

14/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence:Sweet children, first have the faith that each of you is a soul. While living at home, consider yourself to be a child and a grandchild of Shiv Baba. It is this that takes effort
Question:Which deep secret do you effort-making children understand very well?
Answer:You effort-makers understand that no one has as yet become 16 celestial degrees full. Everyone is making effort. No one has the power to say: I have become complete. If a soul had become complete, he would have shed his body and gone and sat in the subtle region. No one is able to return to the supreme abode until the Bridegroom comes and takes the brides back home. This is a deep secret.
Song:See your face in the mirror of your heart.

Om shanti. God Shiva speaks. You children have now understood that this one’s name is not Shiva. Those versions are spoken by incorporeal God Shiva. You children understand that only Shiv Baba can be called the incorporeal One. This cannot be said of any human being. Incorporeal Shiv Baba, the Purifier, is the Ocean of Knowledge. He sits here and explains through this one’s body. He alone is called the Supreme Father, the Supreme Soul. You have to understand the Father and also the soul, the self. Human beings don’t understand what their souls are. In English it is said: Self-realization. ‘Self’ means what the soul is. They have even said that a soul sparkles like a star in the centre of the forehead. They simply say this for the sake of it. If souls are stars and incorporeal, it means that their Father must also be incorporeal. Neither can be any larger or smaller; as is a soul, so the Supreme Soul. He is the Supreme, the Highest on High. First of all, it is the soul that has to be understood. Whose child is a soul? How does he change from impure to pure? How does he take rebirth? No one understands this. First of all, you need knowledge of what a soul is. The Father comes and tells souls that souls are like star s. They are extremely subtle. They cannot be seen with these eyes. One needs divine vision in order to see them. No matter how much they beat their heads in a hospital to see a soul, they cannot see it; it is so subtle. First, you need to have this faith: I, the soul, am extremely subtle. The Father explains to you souls who have part s of 84 births fixed in you; the Supreme Soul Himself makes you have realization; no human soul can do that. The Supreme Soul Himself makes us realiz e that He is our Father and that He is very subtle. The whole act is fixed within the drama; nothing can be changed in that One’s part. The Father says: I do not come to cure anyone’s sickness etc. Your physical illness etc. is the suffering of your karma. You say to Me: O Purifier, k nowledge-full One, Ocean of Knowledge, come! Come and purify us! Teach us Raja Yoga. People call out to God. So, where then does Krishna come from in between? Not everyone would call Krishna God the Father. The Father of all souls is incorporeal. He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. How does He come? How does He play His part? No one understands this. There is nothing about this in the scriptures. The Gita is the highest jewel of all the scriptures. It was through this Gita that establishment of the original eternal deity religion of the golden age took place. Later on, all these children came along. What is the main religious scripture? The Father is explaining this. The Gita is the main one through which establishment of the Brahmin religion, the sun dynasty and the moon dynasty took place. The confluence age is that of the Brahmin religion. You understand that Baba is giving us knowledge through which we change from shudras into Brahmins. Then, later, we will belong to the sun dynasty and then to the moon dynasty. You should remember this very firmly. The Supreme Father, the Supreme Soul, established the Brahmin, the deity and the warrior religions. Baba has explained about souls. Some children become confused about considering themselves to be souls and in remembering the Father. Oh! but you are a soul, are you not? Your Father is Shiva. Just as a soul is unable to do anything without organs, in the same way, the incorporeal Father too needs organs. He enters this one and explains what the form of a soul is and what the form of the Supreme Soul is. They simply say for the sake of it that God is just the form of a point. However, no one knows how an imperishable part which can never be erased is fixed within Him. Every soul is filled with an eternal part which continues for all time; it never ends. When the old world ends, the new world begins. Baba comes and purifies the impure world. Baba has explained that there are four main religious scriptures through which establishment of the four religions takes place. First of all, there is the Gita, then the religious scriptures of Islam, Buddhism and Christianity. Later, expansion takes place. All other scriptures are the children or the grandchildren of the Gita, and this is why it is said: the Shrimad Bhagawad Gita which was sung by the Father. The Father says: I am neither a human being nor a deity. I am the highest-on-high, incorporeal Supreme Soul. I enter this ordinary body every cycle in order to teach you. You understand that you have now definitely become Brahmins and that you will later become deities. Expansion continues to take place. Yes, to become a BK is not like going to your aunty’s home! It has been explained that, while living at home, you should consider yourself to be a child of Shiv Baba. You are children as well as grandchildren of Shiv Baba. Those in ignorance wouldn’t say: I am a grandchild as well as a child of my Grandfather. You children belong to the Grandfather. You belong to the clan of Shiva and then Shiv Baba adopts you, and makes you into a Brahma Kumar or Kumari. That One is incorporeal and this one is corporeal. You are the children of the incorporeal Father. He then says: I adopt you through Brahma. Therefore, because you are children of Brahma, you are also My grandchildren. You receive your inheritance from Shiv Baba. A religious scripture is that through which a religion is established. Which religion was established through the Vedas? None at all! The Mahabharata is not a religious scripture. The Bible is a religious scripture. Through the Gita, the deity religion is established, but in the Bhagawad and the Ramayana, they have simply written tall stories. Therefore, they are not religious scriptures. The main thing is to understand the soul. They say that souls are immune to the effect of action. That is wrong. In fact, it is the soul that eats food or takes the fragrance of it through the body. It is the soul that feels sorrow or happiness. There are the expressions ‘mahatma’ (great soul) and ‘paap atma’ (sinful soul), and yet they have said that the soul is the Supreme Soul. That is wrong! Many children who come to the centres don’t know what a soul is. You yourselves say that a soul is like a star. A whole part is recorded in each soul. Souls are very subtle. Souls can never be seen. Yes, Baba can give you a vision of one through divine vision. You may have a vision, but it can disappear again, so your intellect still has to develop the faith that you are a very subtle soul. There is the example of Vivekananda who had a vision of a light; the light emerged from someone and merged into him. However, that was simply a vision; there can be no question of merging. So what if someone receives a vision of a soul! You yourselves are souls. They have written such useless praise. Even if you do receive a vision, how would you benefit? Not at all! Supposing you do have a vision of the four-armed figure, does that mean you will become Lakshmi or Narayan? You simply had a vision of your aim and objective. What vision can you have of the Father? Just as a soul is a star, in the same way, He too is a star. It is written that Arjuna said that the light of God was even brighter than a thousand suns and that he couldn’t tolerate it. Therefore, he asked Him to stop. However, it was not like that. Previously, many used to receive visions; they would have visions of all that they had heard. They felt that the desires of their minds had been fulfilled. Nevertheless, there was no benefit in that at all. The Father says: I come to teach you Raja Yoga and to purify you. It is not that I put life back into a corpse. If you are sick, then go to a doctor! I have come to purify you. Become pure and you will go to the pure world. Destruction of the impure world will definitely take place. Only then will the pure world be established. What happened after the Mahabharat War? They don’t show any result of that. You children are now being told the significance of the beginning, the middle and the end of the world. This knowledge is not in anyone’s intellect. They don’t have knowledge of the soul. Some come and ask: Baba, what is a soul? How can we remember Baba? Baba is amazed. If those who do service don’t have knowledge of God and souls, what must they be explaining to others? Yes, they do read the murli to others. Teachers are also numberwise. This is why the main teachers have been fixed to go around the classes and ask each one what the form of a soul is and what the form of God is. Everyone should be supervised. Until you consider yourself to be a soul and remember the Father, sins cannot be absolved. The intellects of human beings have become absolutely like stone. It takes effort to make them into those with divine intellects. Just look at the Dilwala Temple. There is a dark stone image of Adi Dev and then, up above, they have made a scene of heaven. Those who built that temple were millionaires, but they didn’t understand anything. They speak about ‘Mahavir’, but they don’t understand anything. Jagadamba becomes a Maharani (a great queen). She is Saraswati, the daughter of Adi Dev. Countless temples have been built to her. Those who are their trustees don’t understand anything and the priests in the temples say: We are sitting here simply to take care of everything. So-and-so built the temple; how would we know anything about it? People go there to bow their heads and then go away again. You have now become so enlightened! This is the study to change from humans into deities. People build Gita Bhavans, (Houses of the Gita) but no one knows who created the Gita. Although millionaires build huge temples, they don’t understand anything. The Father comes and explains the significance of the whole drama to you. Achcha. If you don’t understand anything else, simply continue to remember Shiv Baba. That too is good. You remember the Father. Shiv Baba is the Father of all souls. If, at the time of death, nothing except Shiv Baba is remembered, you go to heaven. This is no small matter! First of all, have the faith that you are a soul and that Baba is the Supreme Father, the Supreme Soul, and that His name is Shiva. The form of a soul is a point. The Supreme Soul is also a point. Just as a soul has a part of 84 births, so, too, the part of the Supreme Soul is to purify the impure. On the path of devotion, I fulfil everyone’s desires. The key to divine vision is in the Father hands. This part is also fixed in the drama. Visions are received by doing intense devotion. Impure desires are fulfilled by the devil (Ravan). To perform things through occult power etc is not My task. Any desire that causes human beings sorrow is not a desire that I fulfil. At the moment, all children are effort-makers. As yet, no one has become 16 celestial degrees full. You must continue to make effort until destruction takes place. No one has the power to say that he has become 16 celestial degrees full. No one can become that now. That stage will be reached at the end. Even if they stay awake night and day, they cannot become that. If someone became karmateet at this time, he would have to shed his body and go and sit in the subtle region. No one can return to the supreme abode yet. The Bridegroom has to return first and then the brides will follow. How could anyone go before Him? Such a far-sighted intellect is needed! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t have any desires for visions etc. Develop faith in the intellect and make effort. First of all, have the faith that you are a very subtle soul.
  2. At times of sickness etc., stay in remembrance of the Father. Sickness is the suffering of karma; it is only by having remembrance that the soul will become pure. Become pure and go to the pure world.
Blessing:May you attain your complete and perfect stage by becoming free from subtle sins and become an embodiment of success.
Some children have become very easy in terms of the knowledge of the philosophy of karma and this is why they continue to commit very small sins. The principle of the philosophy of karma is: If you defame anyone, spread anyone’s defect or take sides with others, that is also to become a partner in crime. Today, you may defame someone and tomorrow that person will defame you twice as much. These small sins become an obstacle in attaining your complete and perfect stage. Therefore, know the philosophy of karma, free yourself from sins and become an embodiment of success.
Slogan:In order to become equal to Adi Pita (first father, Brahma Baba), become pillars of power, peace and all virtues.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 12 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 14 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 13 September 2017 :- Click Here
14/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – पहला निश्चय करो कि मैं आत्मा हूँ, प्रवृत्ति में रहते अपने को शिवबाबा का बच्चा और पौत्रा समझकर चलो, यही मेहनत है
प्रश्नः-तुम सब पुरूषार्थी बच्चे किस एक गुह्य राज़ को अच्छी तरह जानते हो?
उत्तर:-हम जानते हैं कि अभी तक 16 कला सम्पूर्ण कोई भी बना नहीं है, सब पुरूषार्थ कर रहे हैं। मैं सम्पूर्ण बन गया हूँ – यह कहने की ताकत किसी में भी नहीं हो सकती, क्योंकि अगर सम्पूर्ण बन जायें तो यह शरीर ही छूट जाए। शरीर छूटे तो सूक्ष्मवतन में बैठना पड़े। मूलवतन में तो कोई जा नहीं सकता, क्योंकि जब तक ब्राइडग्रूम न जाये, तब तक ब्राइड्स कैसे जा सकेंगी। यह भी गुह्य राज़ है।
गीत:-मुखड़ा देख ले प्राणी…..

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच – अब यह तो बच्चे समझ गये हैं कि इनका नाम शिव तो नहीं है। वह तो है निराकार शिव भगवानुवाच, बच्चे समझते हैं कि निराकार तो शिवबाबा को ही कहा जाता है और कोई मनुष्य मात्र के लिए नहीं कहेंगे। निराकार पतित-पावन शिवबाबा ही ज्ञान का सागर है। वह इस तन द्वारा बैठ समझाते हैं। उसे ही परमपिता परमात्मा कहते हैं। पिता को और अपनी आत्मा को समझना है। मनुष्यों को अपनी आत्मा का पता नहीं है कि आत्मा क्या चीज़ है। अंग्रेजी में कहा जाता है सेल्फ रियलाइजेशन। सेल्फ यानी आत्मा क्या वस्तु है। भल कहते भी हैं भ्रकुटी के बीच में सितारा रहता है। बस सिर्फ कहने मात्र कह देते हैं। आत्मा स्टॉर है – निराकार है तो उनका बाप भी तो निराकार होगा। छोटा बड़ा तो हो नहीं सकता। जैसे आत्मा है वैसे परमात्मा है। वह है सुप्रीम। सबसे ऊंच ते ऊंच। पहले तो आत्मा को समझना है कि आत्मा किसकी सन्तान है। वह कैसे पतित से पावन बनती है। वह कैसे पुनर्जन्म लेती है, कुछ भी जानते नहीं। पहले तो यह नॉलेज चाहिए कि आत्मा क्या वस्तु है। बाप ही आकर आत्माओं को बतलाते हैं कि आत्मा स्टॉर मिसल है। अति सूक्ष्म है। इन आंखों से देखा नहीं जा सकता। देखने के लिए दिव्य दृष्टि चाहिए। भल हॉस्पिटल में कितना माथा मारें, आत्मा को देखने के लिए परन्तु आत्मा को देख नहीं सकते। अति सूक्ष्म है। पहले तो यह निश्चय चाहिए कि मैं आत्मा अति सूक्ष्म हूँ। बाप उनको ही समझाते हैं, जिनकी आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट नूँधा हुआ है। फिर परमात्मा खुद ही रियलाइज़ कराते हैं, वो आत्मा थोड़ेही करा सकती है। परमात्मा खुद ही रियलाइज़ कराते हैं कि मैं तुम्हारा बाप अति सूक्ष्म हूँ। ड्रामा में सारी एक्ट नूँधी हुई है। इनके पार्ट में कुछ भी चेन्ज हो नहीं सकता। बाप कहते हैं मैं किसको बीमारी आदि से कोई ठीक करने थोड़ेही आता हूँ। यह जिस्मानी बीमारी आदि तो कर्मभोग है। तुम तो मुझे कहते ही हो पतित-पावन, नॉलेजफुल ज्ञान का सागर आओ, हमको आकर पावन बनाओ। राजयोग भी सिखाओ। परमात्मा को ही बुलाते हैं फिर बीच में कृष्ण कहाँ से आया। कृष्ण को सभी गॉड फादर थोड़ेही कहेंगे। सभी आत्माओं का बाप निराकार है। वह है दु:ख हर्ता सुख कर्ता। वह कैसे आया, कैसे पार्ट बजाया – यह कुछ भी जानते नहीं। शास्त्रों आदि में तो कुछ है नहीं। गीता है सर्व शास्त्रमई शिरोमणी, जिस गीता से ही सतयुगी आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हुई। पीछे फिर बाल बच्चे आये। धर्मशास्त्र मुख्य कौनसे हैं? उस पर बाप समझाते हैं। मुख्य है गीता, जिससे ब्राह्मण, सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी धर्म की स्थापना हुई। संगमयुग है ही ब्राह्मण धर्म। तुम जानते हो बाबा हमको ज्ञान सुना रहे हैं, जिससे हम शुद्र से ब्राह्मण बनते हैं। फिर सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी बनेंगे। यह तो पक्का याद कर लेना चाहिए। परमपिता परमात्मा ने ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय धर्म की स्थापना की।

बाबा ने आत्मा पर भी समझाया है। कई बच्चे अपने को आत्मा समझ बाप को याद करने में मूँझते हैं। अरे तुम आत्मा हो ना। तुम्हारा बाप है शिव। जैसे आत्मा आरगन्स बिना कुछ भी कर नहीं सकती वैसे निराकार बाप को भी तो आरगन्स चाहिए ना। वह इनमें आकर समझाते हैं। आत्मा का रूप क्या है, परमात्मा का रूप क्या है! यह तो कहने मात्र कहते हैं – परमात्मा का रूप बिन्दी है। परन्तु उनमें कैसे अविनाशी पार्ट नूँधा हुआ है, जो कब मिटने वाला नहीं है। यह कोई नहीं जानते। परन्तु पार्ट अनादि परम्परा से चले आते हैं, इनकी कब इन्ड नहीं होती। पुरानी दुनिया की इन्ड हो तब नई दुनिया हो। बाबा ही आकर पतित दुनिया को पावन बनाते हैं। बाबा ने समझाया है – मुख्य धर्म शास्त्र हैं ही चार, जिससे 4 धर्मो की स्थापना होती है। पहले है गीता फिर इस्लामी धर्म का शास्त्र, बौद्ध धर्म का शास्त्र, क्रिश्चियन धर्म का, फिर वृद्धि होती है। यह सब गीता के पुत्र पोत्रे हो गये इसलिए गाया जाता है श्रीमत भगवत गीता। जो बाप ने गाई है। बाप कहते हैं – न मैं मनुष्य हूँ, न मैं देवता हूँ। मैं तो ऊंच ते ऊंच निराकार परमात्मा हूँ। मैं कल्प-कल्प इस साधारण तन में पढ़ाने आता हूँ। तुम जानते हो कि अभी हम बरोबर ब्राह्मण बने हैं फिर सो देवता बनेंगे। वृद्धि तो होती जाती है। हाँ कोई बी.के. बनना मासी का घर नहीं है। समझाया जाता है कि गृहस्थ व्यवहार में रहते अपने को शिवबाबा का बच्चा समझो। तुम शिवबाबा के पोत्रे भी हो तो बच्चे भी हो। अज्ञानकाल में ऐसे नहीं कहेंगे कि मैं दादे का पौत्रा भी हूँ। बच्चा भी हूँ। तुम बच्चे दादे के हो शिववंशी। फिर शिवबाबा एडाप्ट कर बी.के. बनाते हैं। वह निराकार हो गया, वह साकार हो गया। निराकार बाप के तुम बच्चे हो। फिर कहते हैं – ब्रह्मा द्वारा मैं तुमको एडाप्ट करता हूँ। तो ब्रह्मा के बच्चे होने के कारण तुम मेरे पोत्रे हो। तुमको वर्सा शिव बाबा से मिलता है। बाकी धर्म शास्त्र उसको कहा जाता है जिससे धर्म स्थापन होता है। वेदों से कौन सा धर्म स्थापन हुआ? कुछ भी नहीं। महाभारत भी धर्म शास्त्र नहीं है। बाइबिल धर्म शास्त्र है। गीता से तो देवता धर्म स्थापन हुआ। बाकी भागवत, रामायण में तो दन्त कथायें लिख दी हैं। वह तो धर्म शास्त्र नहीं हैं। मूल बात है कि आत्मा को समझना है। वह फिर कहते कि आत्मा निर्लेप है तो उल्टा हो गया ना। वास्तव में आत्मा ही शरीर द्वारा खाती है, वासना लेती है। दु:ख-सुख आत्मा ही फील करती है ना। महात्मा, पाप आत्मा कहा जाता है। फिर आत्मा सो परमात्मा कह दिया तो रांग हो गया। सेन्टर पर आने वाले कई बच्चों को यह भी पता नहीं है कि आत्मा क्या चीज़ है। तुम खुद कहते हो आत्मा स्टार है। उनमें ही सारा पार्ट भरा हुआ है। आत्मा अति सूक्ष्म है। आत्मा को कब देख नहीं सकते हो। हाँ बाबा दिव्य दृष्टि से साक्षात्कार करा सकते हैं। साक्षात्कार किया फिर गुम हो जायेगा। फिर भी तुमको बुद्धि से निश्चय तो करना पड़ेगा ना कि हम आत्मा अति सूक्ष्म हैं। जैसे विवेकानंद का मिसाल सुनाते हैं कि उनको ज्योति का साक्षात्कार हुआ। देखा ज्योति उनसे निकल कर मेरे में समाई। परन्तु यह तो साक्षात्कार हुआ। बाकी समाने की तो बात ही नहीं है। आत्मा का साक्षात्कार हुआ तो क्या। आत्मा तो तुम हो ही। कितनी फालतू महिमा लिख दी है। साक्षात्कार हुआ अच्छा उससे प्रालब्ध क्या है? कुछ भी नहीं, मिसला तुमको चतुर्भुज का साक्षात्कार हो, तो क्या तुम लक्ष्मी-नारायण बन जायेंगे क्या? एम-आबजेक्ट का यह सिर्फ साक्षात्कार हुआ। बाप का भी क्या साक्षात्कार होगा। जैसे आत्मा स्टार है वैसे वह भी स्टार है। दिखाते हैं अर्जुन ने कहा कि हजारों सूर्य से जास्ती तेज है, हम सहन नहीं कर सकते। बस करो, बस करो। अब ऐसा तो कुछ भी है नहीं। आगे तो बहुतों को साक्षात्कार होता था, जो सुना हुआ था, वह साक्षात्कार हो जाता है। समझते हैं हमारी मनोकामना पूरी हुई। परन्तु इसमें तो कुछ भी फायदा नहीं है। बाप कहते हैं मैं राजयोग सिखाकर, पतित से पावन बनाने आया हूँ। ऐसे नहीं मुर्दे में श्वॉस डाल दूँगा। बीमारी है तो जाओ डॉक्टर के पास। हम तो आये हैं पावन बनाने। पावन बनो तो पावन दुनिया में चलेंगे। जरूर पतित दुनिया का विनाश होगा तब तो पावन दुनिया स्थापन होगी। महाभारत लड़ाई के बाद क्या हुआ, कुछ भी रिजल्ट दिखाते नही हैं। तुम बच्चों को अभी सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं। यह नॉलेज किसकी बुद्धि में है नहीं। आत्मा का ही ज्ञान नहीं है। बाबा से आकर पूछते हैं आत्मा क्या है! बाबा को याद कैसे करें? बाबा वन्डर खाते हैं – सर्विस करने वाले बच्चों में भी आत्मा, परमात्मा का ज्ञान नहीं है तो औरों को क्या सुनाते होंगे। हाँ, मुरली सुनाते रहते हैं। टीचर्स भी नम्बरवार होती हैं इसलिए मुख्य जो ब्राह्मणियाँ हैं, उनको मुकरर किया जाता है कि क्लास में चक्कर लगायें, एक-एक से पूछे कि आत्मा का रूप क्या है? परमात्मा का रूप क्या है? सुपरवाइज़ करनी चाहिए। जब तक अपने को आत्मा समझ बाप को याद न करें तो विकर्म विनाश भी हो न सकें। मनुष्य बिल्कुल पत्थरबुद्धि हैं, उन्हें पारसबुद्धि बनाने में मेहनत लगती है। देलवाड़ा मन्दिर में देखो आदि देव का काला चित्र है। फिर ऊपर में स्वर्ग की सीन बनाई है। मन्दिर बनाने वाले तो करोड़पति हैं, जानते कुछ भी नहीं। महावीर कहते हैं परन्तु अर्थ कुछ भी नहीं समझते। जगत अम्बा महारानी बनती है ना। आदि देव की बेटी सरस्वती है। मन्दिर तो अनेक बनाये हैं। ट्रस्टी लोग खुद भी जानते नहीं। पुजारी भी कहेंगे हम तो सम्भालने लिए बैठे हैं। मन्दिर फलाने ने बनाया है, हम क्या जानें। मनुष्य आते हैं माथा टेक कर चले जाते हैं। अब तुमको कितनी रोशनी मिली है। यह पढ़ाई है – मनुष्य से देवता बनने की। मनुष्य गीता भवन बनाते हैं परन्तु गीता किसने रची – यह किसको पता ही नहीं है। बड़े-बड़े करोड़पति, बड़े-बड़े मन्दिर बनाते हैं। जानते कुछ भी नहीं। बाप आकर सारे ड्रामा का राज़ तुमको समझाते हैं। अच्छा और कुछ नहीं समझते हो तो सिर्फ शिवबाबा को याद करते रहो। यह भी अच्छा। बाप को याद करते हैं ना। शिवबाबा है ही आत्माओं का बाप। मरने समय शिवबाबा के सिवाए और कुछ भी याद न आये तो भी स्वर्ग में जायेंगे। कोई कम बात थोड़ेही है। पहले-पहले तो अपने को आत्मा निश्चय करना है। वह है फिर परमपिता परमात्मा। नाम उनका शिव है। आत्मा भी बिन्दी रूप है। परमात्मा भी बिन्दी है। जैसे आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट है, परमात्मा का भी पार्ट है – पतितों को पावन बनाने का। भक्ति में मैं सर्व की मनोकामनायें पूर्ण करता हूँ। दिव्य दृष्टि की चाबी बाप के हाथ में है। यह भी ड्रामा में पार्ट बना हुआ है। नौधा भक्ति से साक्षात्कार होना ही है। अशुद्ध कामनायें शैतान (रावण) पूरी करता है। यह जो रिद्धि सिद्धि आदि सीखते हैं वह मेरा काम नहीं है, जिससे मनुष्य किसको दु:ख देवे। वह कामनायें मैं पूरी नहीं करता हूँ। अभी सब बच्चे पुरूषार्थी हैं। 16 कला कोई बना नहीं है। जब तक विनाश हो तब तक पुरूषार्थ चलना ही है। किसकी भी ताकत नहीं जो कहे कि 16 कला सम्पूर्ण बन गये हैं। बन ही नहीं सकते। वह अवस्था होगी अन्त में। भल कोई रात दिन उठकर बैठ जाये, परन्तु बन नहीं सकेगा। इस समय कोई कर्मातीत बन जाये तो शरीर छोड़ना पड़े। सूक्ष्मवतन में जाकर बैठना पड़े। मूलवतन में तो जा न सके। पहले ब्राइडग्रूम जाये तब तो ब्राइडस जायेंगी। उनसे पहले कैसे जा सकते। बुद्धि भी कितनी दूरादेशी चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) साक्षात्कार आदि की आश न रख निश्चयबुद्धि बन पुरूषार्थ करना है। पहले-पहले निश्चय करना है कि मैं अति सूक्ष्म आत्मा हूँ।

2) बीमारी आदि में बाप की याद में रहना है। यह भी कर्मभोग है। याद से ही आत्मा पावन बनेगी। पावन बनकर पावन दुनिया में चलना है।

वरदान:-सूक्ष्म पापों से मुक्त बन सम्पूर्ण स्थिति को प्राप्त करने वाले सिद्धि स्वरूप भव 
कई बच्चे वर्तमान समय कर्मो की गति के ज्ञान में बहुत इजी हो गये हैं इसलिए छोटे-छोटे पाप होते रहते हैं। कर्म फिलॉसाफी का सिद्धान्त है – यदि आप किसी की ग्लानी करते हो, किसी की गलती (बुराई) को फैलाते हो या किसी के साथ हाँ में हाँ भी मिलाते हो तो यह भी पाप के भागी बनते हो। आज आप किसी की ग्लानी करते हो तो कल वह आपकी दुगुनी ग्लानी करेगा। यह छोटे-छोटे पाप सम्पूर्ण स्थिति को प्राप्त करने में विघ्न रूप बनते हैं इसलिए कर्मो की गति को जानकर पापों से मुक्त बन सिद्धि स्वरूप बनो।
स्लोगन:-आदि पिता के समान बनने के लिए शक्ति, शान्ति और सर्वगुणों के स्तम्भ बनो।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 12 September 2017 :- Click Here

Font Resize