murli 31 october 2017

TODAY MURLI 31 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 October 2017 :- Click Here

31/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence:Sweet children, make effort to rescue human beings who have forgotten the Father and become trapped in the quicksand. Churn the ocean of knowledge and give everyone the Father’s true introduction.
Question:Which religion does the Gita scripture belong to? What significant things are to be understood from this?
Answer:The Gita scripture is the scripture of the Brahmin deity religion. It is said: Salutations to the Brahmins who become deities. You wouldn’t call it just the scripture of the deity religion because deities don’t have this knowledge. Brahmins listen to the knowledge of the Gita and become deities and it is therefore the scripture of both the Brahmins and the deities. It is not said to be a scripture of the Hindu religion. These things have to be understood very clearly. Incorporeal Shiv Baba, Himself, and not Shri Krishna, is giving you the knowledge of the Gita.
Song:Neither will He be separated from us nor will our hearts feel sorrow.

Om shanti. Baba sits here and explains to you children very well. Which father? The Father from beyond this world. A worldly father wouldn’t have so many children. The Father from beyond has so many children (souls) who remember Him and call out to Him: O Purifier, Bestower of Salvation for All! O Supreme Father, Supreme Soul! So, they call out to Him as their Father. It is incorporeal God, the Supreme Father, the Supreme Soul, who speaks. There is only the one incorporeal God, not two. It is in the intellect of you children that God is the Highest on High. Where does He reside? He resides where souls reside. When you say, “Ishwar”, “Prabhu” or “Bhagwan” (God), it doesn’t have the feeling of claiming an inheritance of happiness. When you say “Father” you remember the inheritance. However, people don’t know the Father. According to the drama, the people of Bharat bring degradation to themselves by following Ravan’s dictates. Therefore, first of all, explain that Brahma, Vishnu and Shankar are beings with subtle bodies, whereas human beings are those with corporeal bodies. However, a being with either a subtle or corporeal body cannot be called the Father. Only the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Father. What mistake was made that took them into degradation? By listening to the true Gita from the Father, there is salvation. Therefore, first of all, give the Father’s introduction to anyone who comes. This is the main thing; but it doesn’t sit in anyone’s intellect and this is why Baba has had this poster printed: Is the child Krishna or the Supreme Father, the Supreme Soul, the God of the Gita? Which religion does the Gita scripture belong to? It is right to say that it belongs to the Brahmin deity religion just as the religious scripture of Christians is the Bible. Similarly, the Gita wouldn’t be the scripture of just the deity religion; the Brahmins also have to be included. It is said: Salutations to the Brahmins who are to become deities. Baba has told you that the deities don’t have knowledge. They don’t even know that the Gita is the scripture of their religion. Brahmins have knowledge. The Gita wouldn’t even be called the scripture of just the Brahmins because the Father establishes both religions. This is why it is said to be the scripture of both religions. There, people say that the Gita is the scripture of the Hindu religion. They even say that it is also the scripture of the Arya religion. Dayananda established the Arya Samaj (1875). That is a new religion; but they don’t belong to the deity religion. The main thing is: Who is the God of the Gita? They have inserted Krishna’s name in the Gita and falsified it because their intellects’ yoga has broken away from Me. Look how many things they have shown in the Gita and how there is so much respect for the Gita pathshalas. The deity and Brahmin religions have now disappeared. Worshippers say: Salutations to the Brahmins who are to become deities. They don’t know how the Brahmins became deities. Who will tell them this? The Father says: I make you into the mouth-born creation of Brahma and then make you into deities. Therefore, the Gita is the scripture of the Brahmin and deity religions. You can’t say that it belongs to just the deity religion, because Lakshmi and Narayan don’t have knowledge. These things have to be understood, but who will explain them? Shiv Baba tells you that the flames of destruction emerge from the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. There is so much difference between the sacrificial fire of Rudra and that of Krishna. After this sacrificial fire of knowledge, there won’t be any material sacrificial fires in the golden age. Now they create sacrificial fires to remove their calamities. There are no calamities there for which they would have to create a sacrificial fire. In the Gita, it mentions the sacrificial fire of Rudra and it also says: “God speaks”. Therefore, the truth in the Gita is like a pinch of salt in a sackful of flour; all the rest is false. Shiv Baba does not churn the ocean of knowledge. It is Brahma and the Brahma Kumars and Kumaris who have to do that. At this time, people are completely trapped in quicksand. It requires a lot of effort to get out of quicksand. This is why they call out to the Father. The Father says: You have to conquer Ravan, the five vices. Then, in the golden age, you living beings are in happiness. Whenever you go to a spiritual gathering you can ask them about these things. There is no question of being afraid. All are in darkness. Death is just ahead, whereas they say that 40,000 years of the iron age still remain. That is called extreme darkness. All are sleeping in the sleep of Kumbhakarna. It is said that God comes to give the fruit of devotion and that He gives salvation. Therefore, you must be in degradation. If the name of Shiva, the Supreme Soul, were mentioned in the Gita, everyone would accept Him. So, it was truly the incorporeal One who taught you Raja Yoga. There is no question of a battlefield. How could He give such great knowledge on a battlefield? How would He teach Raja Yoga? There are four main religions and there are four religious scriptures. There are now innumerable religions, scriptures and images. It is now in the intellects of you children that Shiv Baba is the Highest on High and below Him, there are Brahma, Vishnu and Shankar and then, in the corporeal world, there are Lakshmi and Narayan and then their dynasty. At the confluence age there are just Brahma and Saraswati. When people create a sacrificial fire, they create a lingam of Shiva, worship it and then sink it. They even worship images of the goddesses and then sink them. Therefore, that is the worship of dolls, because they don’t know their occupation. His praise is that He is the Purifier. So, how does He purify impure souls? You yourselves now have to awaken and also awaken others, that is, you have to give everyone the Father’s introduction. They don’t know the Father. Those people simply earn money by telling religious stories. What happens through that? You can also go to the Vidhoot Mandali and explain to them. Everyone will definitely have to die in this war. The flames of destruction continue to emerge from this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. They continue to write about how they have created so many big bombs. Therefore, destruction also took place through them in the previous cycle. It isn’t that in the previous cycle they disposed of the bombs at sea. So, destruction still has to take place now. They speak of those who have divorced intellects at the time of destruction. Who has this? The Kauravas and the Yadavas. It is now government of the people by the people. Therefore, have hundreds of thousands of posters printed in all languages. You definitely have to print them in English. Continue to distribute them wherever there are Gita pathshalas. Your address should also be written on the poster. The Father gives directions, but it is up to you children to follow them. It is written: Shiv Baba. So Shiv Baba is the Father and Brahma is also the father. Therefore, you children are to receive your inheritance from Shiv Baba and not Brahma. Even Brahma receives it from Him. Baba has explained so much that you must first of all write the Father’s accurate introduction in the Gita magazine. Those who are to become Brahmins will quickly be shot by the arrow. Otherwise, when they are given something, they throw it away, just as if you give a book to a monkey, it would immediately throw it away; it wouldn’t understand anything. This is why the Father says: Give this knowledge to My devotees and those who study the Gita. In that too, it is those who have it in their fortune who will understand. The Father says: This is hell. All the children who are born here continue to cause sorrow for one another; they continue to bite one another. They have shown a river of poison in the Garuda Purana, but that doesn’t really exist. This world is hell. You children know that you were residents of hell and have now become residents of the confluence age, and that, tomorrow, you will become residents of heaven. This is why you are making effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night class 23/03/68

The Highest on High is the one God, who is the Father. Whose Father? The Father of all souls. He is the Father of all the souls in all the human beings. All the souls who come to play their parts definitely take rebirth. Some take very few. Some take 84 births, some take 80 births and some take 60 births; all are human beings, bodily beings. Even though Lakshmi and Narayan ruled the world, at that time, there was no other dynasty in the new world. None of the bodily beings can grant anyone salvation. First of all, there is the sweet silence home. That is the home of all souls. Even the Father stays there. That is called the incorporeal world. The Father is the Highest on High and the place where He resides is also the highest on high. The Father says: I am the Highest on High. I definitely have to come. Everyone calls out to Me. All human beings definitely have to take rebirth. Only the one Father doesn’t take rebirth. Everyone definitely has to take rebirth. Any founder of a religion is said to be an incarnation. They speak of the Buddha incarnation. The Father is also called the Incarnation. He too has to come. Now, all souls are present here. None of them can return home. It is because souls take rebirth that there is expansion. By taking rebirth, all have become tamopradhan at this time. Only the Father comes and gives knowledge. The Father alone is knowledge-full; He has the knowledge of the beginning, middle and end. He alone is called the knowledge-full and blissful One, the p eaceful One , ever pure. Human beings, however, become pure and impure. Lakshmi and Narayan are the first ones of that dynasty. They have to take the full 84 births, they take rebirth here. Then, at the end, the Father comes and purifies everyone and takes them back. The Father alone is called the Liberator. At this time, the founders of religions are present here. A few souls still remain who are continuing to come down. Expansion continues to take place. The Bestower of Salvation for all is just the one Father. He is making us into the masters of the land of peace and the land of happiness. You take the full 84 births. Those of you who came first will return first. Christ will come at his own time. Christ does not have the power to take anyone back. Only the one Father has the power to take everyone back. At this time, it is the kingdom of Ravan, the devilish kingdom. In 84 births, the vices have now entered everyone completely. The Father says: You were the masters of the deity world and you then became vicious in the kingdom of Ravan. Everyone definitely has to take rebirth. It is not possible for them to establish a religion and then return home. They definitely also have to sustain it. It is remembered: Establishment of the new world takes place through Brahma. There is also the destruction of the old world. In the new world, there was just the one religion and one deity dynasty. That does not exist now; there are just its images, and all other religions are present. Apart from the one God, the Father, all bodily beings definitely take rebirth. Bharat is the imperishable land; it is never destroyed. It is imperishable. There were no other lands when it was their kingdom. It was just their kingdom. There was just the sun dynasty and the moon dynasty; no one else. The new world is called heaven, the deity world. The incorporeal world cannot be called heaven. That is our sweet silence home, the land of nirvana. No one, except the Supreme Father, the Supreme Soul, can give knowledge to souls. A soul is a very tiny dot. The Father of all souls is the Supreme Soul. He is called the Supreme Father. He cannot ever take rebirth. It is now the end of the play. This whole world is a stage on which the play is being performed. The duration of it is 5000 years. This is the most auspicious confluence age when the Father comes and makes everyone the most elevated of all. Souls are all imperishable. This dramais also imperishable. It is the predestined play. Those who have been and gone will come again at exactly the same time. They were the ones to come first. Lakshmi and Narayan do not exist now. This is the true company of the Truth. Achcha.

Love, remembrance and good night to the sweetest, beloved, long-lost and now-found spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Churn the ocean of knowledge and rescue human beings from the quicksand. Awaken those who are sleeping in the sleep of Kumbhakarna.
  2. Remove your intellect’s yoga from subtle and corporeal bodily beings and remember the one incorporeal Father. Connect the intellect’s yoga of everyone to the one Father.
Blessing:May you be as merciful as the Father and serve at a fast speed with your mind.
You can increase the treasures of blessings you have received from the Father at the confluence age as much as you want: simply continue to give to others. Just as the Father is merciful¸ be just as merciful as the Father, not just in words, but with the attitude of your mind give souls through the atmosphere the powers that you have received. Since you have to complete serving the world in a short time, you have to serve at a fast speed. The busier you keep yourself in service, the more easily you will become a conqueror of Maya.
Slogan:Those who serve at every step with their content and happy life are true servers.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_1]

 

Read Murli 29 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 31 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 30 October 2017 :- Click Here
31/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – मनुष्य जो बाप को भूल दुबन (दलदल) में फंसे हुए हैं, उन्हें निकालने की मेहनत करो, विचार सागर मंथन कर सबको बाप का सत्य परिचय दो”
प्रश्नः-गीता को किस धर्म का शास्त्र कहेंगे? इसमें रहस्य-युक्त समझने की बात कौन सी है?
उत्तर:-गीता शास्त्र है – ब्राह्मण देवी-देवता धर्म का शास्त्र। ब्राह्मण देवी-देवताए नम: कहा जाता है। इसे सिर्फ देवता धर्म का शास्त्र नहीं कहेंगे क्योंकि देवताओं में तो यह ज्ञान है ही नहीं। ब्राह्मण यह गीता का ज्ञान सुनकर देवता बनते हैं, इसलिए ब्राह्मण देवी-देवता दोनों का ही यह शास्त्र है। यह कोई हिन्दू धर्म का शास्त्र नहीं कहा जाता। यह बहुत समझने की बातें हैं। गीता ज्ञान स्वयं निराकार शिवबाबा तुम्हें सुना रहे हैं, श्रीकृष्ण नहीं।
गीत:-न वह हमसे जुदा होंगे…..

ओम् शान्ति। बाबा बच्चों को बैठ समझाते हैं अच्छी तरह से। कौन सा बाप? पारलौकिक बाप। लौकिक बाप को इतने बच्चे नहीं होते। पारलौकिक बाप के इतने बच्चे (आत्मायें) हैं, जो याद करते रहते हैं हे पतित-पावन, सर्व के सद्गति दाता, ओ परमपिता परमात्मा, तो पिता कहकर पुकारते हैं। परमपिता परमात्मा निराकार भगवानुवाच। निराकार परमात्मा तो एक होता है ना, दो नहीं होते। बच्चों की बुद्धि में बैठा है कि ऊंचे ते ऊंचा भगवान है। वह कहाँ रहते हैं? जहाँ आत्मायें रहती हैं। ईश्वर, प्रभू, भगवान कहने से सुख का वर्सा लेने की बात नहीं आती। बाप कहने से वर्सा याद आता है, परन्तु मनुष्य बाप को नहीं जानते। भारतवासी ड्रामा अनुसार रावण मत पर अपनी दुर्गति करते हैं। तो पहले-पहले यह समझाना है कि ब्रह्मा-विष्णु-शंकर सूक्ष्म शरीरधारी हैं, मनुष्य स्थूल देहधारी हैं, परन्तु स्थूल वा सूक्ष्म देहधारी को बाप नहीं कहेंगे। बाप परमपिता परमात्मा निराकार को कहा जाता है। भूल क्या हुई जो दुर्गति हुई? बाप द्वारा सच्ची गीता सुनने से सद्गति होती है। तो कोई को भी पहले-पहले बाप का परिचय देना है। यह है मूल बात। परन्तु कोई की बुद्धि में नहीं बैठता है तब तो बाबा ने यह पोस्टर छपवाया है कि गीता का भगवान कृष्ण बच्चा है या परमपिता परमात्मा? गीता किस धर्म का शास्त्र है? ब्राह्मण देवी-देवता धर्म का कहना ठीक है। जैसे क्रिश्चियन का धर्म शास्त्र बाइबिल है। ऐसे गीता को सिर्फ देवी-देवता धर्म का शास्त्र नहीं कहेंगे, जब तक ब्राह्मणों को न मिलायें। कहते हैं ब्राह्मण देवी-देवताए नम:। बाबा ने बताया है देवताओं में ज्ञान है नहीं। वह यह भी नहीं जानते कि गीता कोई हमारे धर्म का शास्त्र है। ज्ञान है ब्राह्मणों को, सिर्फ ब्राह्मण धर्म का भी शास्त्र गीता नहीं कहेंगे क्योंकि बाप दोनों धर्म की स्थापना करते हैं इसलिए दोनों धर्म का शास्त्र कहेंगे। वहाँ तो कह देते कि हिन्दू धर्म का शास्त्र है। आर्य का भी कह देते। आर्य समाज तो दयानंद ने स्थापन किया है। वह भल नया धर्म है। परन्तु वह कोई देवी-देवता धर्म के नहीं हैं। मूल बात है गीता का भगवान कौन? गीता में कृष्ण का नाम डाल गीता को खण्डित कर दिया है क्योंकि मेरे से बुद्धियोग टूट गया। गीता में देखो बातें कितनी बताई हैं और गीता पाठशाला का मान कितना है। तो अभी देवता और ब्राह्मण धर्म प्राय:लोप है। पुजारी लोग कहते हैं ब्राह्मण देवी-देवताए नम:, उन्हों को यह मालूम नहीं है कि ब्राह्मण देवता कैसे बनें। यह बतावे कौन? बाप कहते हैं कि मैं ब्रह्मा मुख वंशावली बनाए देवता बनाता हूँ। तो गीता हो गई ब्राह्मण देवी-देवता धर्म का शास्त्र। सिर्फ कहें देवता धर्म का तो लक्ष्मी-नारायण में ज्ञान है नहीं, यह बात समझने की है। परन्तु समझाये कौन? शिवबाबा सुनाते हैं कि रुद्र ज्ञान यज्ञ से विनाश ज्वाला प्रज्जवलित हुई। कहाँ रुद्र यज्ञ, कहाँ कृष्ण, फ़र्क है। इस ज्ञान यज्ञ के बाद फिर सतयुग में कोई मटेरियल यज्ञ रचा नहीं जाता। अब यज्ञ रचते हैं आ़फत मिटाने के लिए। वहाँ कोई आ़फत होती ही नहीं जो यह यज्ञ रचना पड़े। गीता में रुद्र यज्ञ का भी लिखा है और यह भी लिखा है कि भगवानुवाच, तो गीता में सच है आटे में नमक जितना, बाकी सब झूठ है। अब यह विचार सागर मंथन शिवबाबा नहीं करेंगे। ब्रह्मा और ब्रह्माकुमार कुमारियों को करना है। इस समय मनुष्य तो एकदम दुबन में फंसे हुए हैं। दुबन (दलदल) से निकलने में बड़ी मेहनत लगती है, तब तो बाप को पुकारते हैं। बाप कहते हैं तुमको 5 विकार रूपी रावण पर ही जीत पानी है। फिर सतयुग में तुम जीव आत्मायें सुख में हो। जो भी सतसंग हैं वहाँ तुम जाकर पूछ सकते हो, डरने की कोई बात नहीं। सब अंधकार में पड़े हैं। मौत सामने खड़ा है और कहते हैं अभी तो कलियुग में 40 हजार वर्ष पड़े हैं, इसको कहा जाता है घोर अन्धियारा, कुम्भकरण की नींद में सोये पड़े हैं। कहते हैं भक्ति का फल भगवान देने आता है, सद्गति देता है, तो दुर्गति में हैं ना। गीता में अगर शिव परमात्मा का नाम होता तो उसको सब मानते। तो बरोबर निराकार ने राजयोग सिखाया था। युद्ध के मैदान की कोई बात नहीं है। युद्ध के मैदान में इतना बड़ा ज्ञान कैसे देंगे? राजयोग कैसे सिखायेंगे? मुख्य धर्म 4 हैं, धर्मशास्त्र भी 4 हैं। अभी तो अनेकानेक धर्म, अनेक शास्त्र, अनेक चित्र हैं। अब बच्चों की बुद्धि में बैठा है कि ऊंचे ते ऊंचा है शिवबाबा फिर नीचे आओ तो ब्रह्मा-विष्णु-शंकर फिर साकार में लक्ष्मी-नारायण फिर उनकी डिनायस्टी। संगम पर ब्रह्मा सरस्वती, बस। रुद्र यज्ञ जब रचते हैं तो शिव का लिंग बनाए पूजा कर फिर डुबो देते हैं। देवियों की भी पूजा कर फिर डुबो देते हैं। तो गुड्डे गुड़ियों की पूजा हो गई ना क्योंकि उनका आक्यूपेशन कोई नहीं जानते। उनकी महिमा है पतित-पावन। तो कैसे पाप आत्माओं को पावन बनाते हैं। अभी तो तुमको जागकर जगाना है अर्थात् बाप का परिचय देना है। बाप को जानते नहीं। सिर्फ पैसा कमाते, कथा सुनाते रहते हैं। इससे क्या हुआ! तुम विदुत मण्डली में भी जाकर समझाओ। इस लड़ाई में मरना तो सबको जरूर है। इस रुद्र ज्ञान यज्ञ से विनाश ज्वाला प्रज्वलित होती जाती है। लिखते भी रहते हैं कि हमने इतने बड़े-बड़े बाम्बस बनाये हैं, तो कल्प पहले भी इनसे विनाश हुआ था। यह सब बाम्ब्स कोई कल्प पहले इन्होंने समुद्र में नहीं डाले थे। तो अभी भी विनाश होना है। कहते हैं विनाश काले विपरीत बुद्धि, कौन? कौरव और यादव। अभी तो प्रजा का प्रजा पर राज्य है। तो यह पोस्टर लाखों की अन्दाज में छपाओ, सब भाषाओं में। अंग्रेजी में तो जरूर छपवाना चाहिए। जहाँ-जहाँ गीता पाठशाला हो वहाँ बांटते जाओ। पोस्टर पर एड्रेस भी लिखी हुई हो। बाबा डायरेक्शन तो देते हैं, करना तो बच्चों का ही काम है। लिखा हुआ है शिवबाबा। तो शिवबाबा भी बाप, ब्रह्मा भी बाप परन्तु बच्चों को वर्सा शिवबाबा से मिलना है, न कि ब्रह्मा से। ब्रह्मा को भी उनसे मिलता है।

बाबा ने बहुत समझाया है कि गीता मैगज़ीन में भी पहले-पहले बाप का यथार्थ परिचय लिखो, तो जो ब्राह्मण बनने वाले होंगे उनको झट तीर लगेगा। नहीं तो लिया और फेंक दिया। जैसे कोई बन्दर को किताब दो तो एकदम फेंक देगा, समझेगा कुछ नहीं। तब बाप कहते हैं कि यह ज्ञान मेरे भक्तों को और गीता-पाठियों को देना। उसमें भी जिसके भाग्य में होगा वह समझेंगे। बाप कहते हैं यह तो है ही नर्क। यहाँ जो भी बच्चे आदि पैदा होते हैं – एक दो को दु:ख देते रहते हैं। एक दो को काटते रहते हैं। बाकी जो गरुड पुराण में विषय वैतरणी नदी दिखाई है, वह तो है नहीं। यह दुनिया तो नर्क है। तो बच्चे जानते हैं आज नर्कवासी फिर संगमवासी बनते हैं, कल फिर स्वर्गवासी बनेंगे, इसलिए पुरुषार्थ कर रहे हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास – 23-3-68

ऊंच ते ऊंच है एक भगवान माना फादर। किसका फादर? सभी जो आत्माएं हैं उन सभी का। जो भी मनुष्य मात्र हैं उनमें जो आत्माएं हैं उनका है फादर। अभी सभी आत्माएं जो कि पार्ट बजाने आती हैं वह पुनर्जन्म जरूर लेती है। कोई बहुत थोड़े लेते हैं। कोई 84 जन्म लेते हैं, कोई 80 और कोई 60। देहधारी जो भी मनुष्य हैं, भल यह लक्ष्मी-नारायण विश्व पर राज्य करने वाले हैं। उस समय न्यू वर्ल्ड में और कोई डिनायस्टी नहीं थी। जो भी देहधारी मनुष्य हैं कोई भी सद्गति नहीं दे सकते। पहले पहले है स्वीट सायलेन्स होम। सभी आत्माओं का घर। बाप भी वहाँ रहते हैं। उसको इनकॉरपोरियल वर्ल्ड कहा जाता है। बाप ऊंच ते ऊंच फिर रहने का स्थान भी ऊंच ते ऊंच है। बाप कहते हैं मैं ऊंच ते ऊंच हूँ। मुझे भी आना पड़ता है। सभी मुझे पुकारते हैं जो भी मनुष्य मात्र हैं पुर्नजन्म जरूर लेना ही है। सिर्फ एक बाप ही नहीं लेते हैं। पुनर्जन्म तो सभी को लेना ही है। कोई भी धर्म स्थापक हो, बुद्ध अवतार कहते हैं ना। बाप को भी अवतार कहते हैं। उनको भी आना पड़ता है। अभी सभी आत्माएं यहाँ मौजूद हैं। वापस कोई भी जा नहीं सकते। पुनर्जन्म लेते हैं तब तो वृद्वि होती है ना। पुनर्जन्म लेते लेते इस समय सभी तमोप्रधान हैं। बाप ही आकर नॉलेज देते हैं। बाप ही नॉलेजफुल है आदि मध्य अन्त की नॉलेज उनमें है। उनको ही नॉलेजफुल ब्लिसफुल कहा जाता है। पीसफुल, एवर प्युअर। बाकी मनुष्य मात्र प्युअर इमप्युअर बनते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण डीटी डिनायस्टी के फर्स्ट हैं। इनको ही पूरे 84 जन्म लेने पड़ते हैं। पुनर्जन्म यहाँ ही लेते हैं। फिर अन्त में बाप आकर सबको पवित्र बनाकर साथ में ले जाते हैं। बाप को ही लिबरेटर कहा जाता है। इस समय सभी धर्म स्थापक यहाँ हाजिर हैं। बाकी थोड़े हैं जो आते रहते हैं। वृद्वि होती रहती है। सर्व का सद्गति दाता एक ही बाप है। शान्तिधाम वा सुखधाम का मालिक बनाते हैं। तुम्हीं पूरे 84 जन्म लेते हो। तुम जो पहले आये थे वही फिर पहले आयेंगे। क्राइस्ट फिर अपने समय पर आयेंगे। क्राईस्ट में यह ताकत नहीं जो किसको वापस ले जाये। वापिस ले जाने की ताकत एक बाप में ही है। इस समय है रावण राज्य, आसुरी राज्य। 84 जन्मों में विकार पूरे प्रवेश कर लेते हैं। बाप कहते हैं तुम डीटी दुनिया के मालिक थे फिर रावण राज्य में तुम विकारी बन पड़े हो। पुनर्जन्म सभी को जरूर लेना पड़ता है। धर्म स्थापन कर वापस चला जाये यह हो नहीं सकता। उनको पालना जरूर करनी है। गाया जाता है ब्रह्मा द्वारा नई दुनिया की स्थापना। पुरानी दुनिया का विनाश। नई दुनिया में एक ही धर्म एक ही डीटी डिनायस्टी थी। अब वह है नहीं। सिर्फ चित्र हैं। और सभी धर्म मौजूद हैं सिवाय एक गॉड फादर के, जो भी देहधारी है पुनर्जन्म जरूर लेते हैं। भारत है अविनाशी खण्ड, यह कब विनाश नहीं होता। अविनाशी है। जब इनका राज्य था तो और कोई खण्ड ही नहीं था। सिर्फ इनका ही राज्य था। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी बस। और कोई नहीं। नई दुनिया को स्वर्ग डीटी वर्ल्ड कहा जाता है। इनकोरपोरियल वर्ल्ड को स्वर्ग नहीं कहा जाता। वह है स्वीट साइलेन्स होम। निर्वाण धाम। आत्मा को ज्ञान सिवाय परमपिता परमात्मा के और कोई दे नहीं सकता। आत्मा बहुत छोटी बिन्दी है। सभी आत्माओं का फादर है सुप्रीम सोल। उनको सुप्रीम फादर कहा जाता है। वह कब पुनर्जन्म में नहीं आ सकते हैं। इस समय नाटक की पिछाड़ी है। यह सारी दुनिया स्टेज है इसमें खेल चल रहा है। इनकी डियूरेशन हैं 5000 वर्ष। यह है पुरुषोत्तम संगम युग। जब कि बाप आकर सभी को उत्तम ते उत्तम बनाते हैं। आत्माएं अविनाशी ही हैं। यह ड्रामा भी अविनाशी है। बना बनाया खेल है। जो पास हो गये फिर उसी समय पर आयेंगे। पहले पहले यह आये थे। लक्ष्मी नारायण अभी नहीं हैं। सच्चा सच्चा सत का संग यह है। अच्छा !

मीठे मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बाप व दादा का याद प्यार गुडनाईट। ओम् शान्ति।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विचार सागर मंथन कर मनुष्यों को दुबन (दलदल) से निकालना है। जो कुम्भकरण की नींद में सोये हुए हैं उन्हों को जगाना है।

2) सूक्ष्म अथवा स्थूल देहधारियों से बुद्धियोग निकाल एक निराकार बाप को याद करना है। सबका बुद्धियोग एक बाप से जुटाना है।

वरदान:-मन्सा द्वारा तीव्रगति की सेवा करने वाले बाप समान मर्सीफुल भव 
संगमयुग पर बाप द्वारा जो वरदानों का खजाना मिला है उसे जितना बढ़ाना चाहो उतना दूसरों को देते जाओ। जैसे बाप मर्सीफुल है ऐसे बाप समान मर्सीफुल बनो, सिर्फ वाणी से नहीं, लेकिन अपनी मन्सा वृत्ति से वायुमण्डल द्वारा भी आत्माओं को अपनी मिली हुई शक्तियां दो। जब थोड़े समय में सारे विश्व की सेवा सम्पन्न करनी है तो तीव्रगति से सेवा करो। जितना स्वयं को सेवा में बिजी करेंगे उतना सहज मायाजीत भी बन जायेंगे।
स्लोगन:-अपने सन्तुष्ट और खुशनुम: जीवन से हर कदम में सेवा करने वाले ही सच्चे सेवाधारी हैं।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 29 October 2017 :- Click Here

Font Resize