today murli 31 october

TODAY MURLI 31 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 October 2018 :- Click Here

31/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence:Sweet children, you souls have your own chariots. I am incorporeal. Only once in the cycle do I need a chariot. I borrow the old experienced chariot of Brahma.
Question:On the basis of what faith is it very easy to forget the awareness of the body?
Answer:You children have said with faith: Baba, I now belong to You. Therefore, to belong to the Father means to forget the awareness of your body. Just as Shiv Baba enters this chariot and then leaves, in the same way, you children also have to practi s e entering your chariots and then leaving. Practise becoming bodiless. It shouldn’t be difficult to do this. Consider yourselves to be incorporeal souls and remember the Father.
Song:Salutations to Shiva. 

Om shanti. Shiv Baba explains to you children through this chariot of Brahma. The Father tells you children: I do not have a chariot of My own. I definitely do need a chariot, just as each of you souls has a chariot of your own. Brahma, Vishnu and Shankar also have their subtle bodies. Lakshmi and Narayan etc. and all souls definitely have their bodies as chariots. They are also called horses. They are, in fact, human beings. Everything that is explained to you is about human beings. Animals would know about animals. This is the human world and so the Father sits here and explains to human beings. He sits and explains to the souls in human forms. He asks you directly: Each of you has your own body, do you not? Every soul takes a body and sheds it. People say that souls take 8.4 million births. This is a mistake, because you become completely tired when you just take 84 births. You have become so distressed. So, there is no question of 8.4 million births. Those are lies told by human beings. Therefore, the Father explains: You souls have your own chariots. I too need a chariot. I am your unlimited Father. You sing: O Purifier, Ocean of Knowledge. You would not call anyone else the Purifier. You would not call Lakshmi and Narayan etc. that. It cannot be anyone except the Supreme Father, the Supreme Soul, who makes the impure world pure, that is, who is the Creator of the pure world of heaven. He alone is the Supreme Father. The Father knows that, from being those with stone intellects, you are becoming those with divine intellects, numberwise. People outside do not know this. The Father explains: I too definitely need a chariot. I, the Purifier, definitely have to come into the impure world. When the plague spreads everywhere, doctors have to go to those who have the plague. The Father says: You have had the illness of the five vices in you for half the cycle. Human beings only cause sorrow. You have become completely impure with those five vices. Therefore, the Father explains: I have to come into the impure world. Those who are impure are called corrupt whereas those who are pure are called elevated. Truly, your Bharat was pure and elevated when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. You sing praise of it: Full of all virtues… Everyone there was happy. It is a matter of only yesterday. The Father says: When I come, how do I come? In whose body would I come? First of all, I need Prajapita. How could the one who is a resident of the subtle region be brought here? He is an angel. It would be a crime if I were to bring him into the impure world. He would say: What crime have I committed? The Father explains very entertaining things to you. Only those who belong to the Father will understand these things. They will repeatedly continue to remember the Father. The Father says: I come when sin has increased on earth. In the iron age, people commit so much sin. So the Father asks: Children, tell Me: if I come, in whose body should I come? I surely need an old experienced chariot. The one whose chariot I have chosen has truly adopted many gurus. He has studied the scriptures etc. It is also written that he was very well educated. It is nothing to do with Arjuna. I do not need the chariot of Arjuna or Krishna. I need the chariot of Brahma. Only he can be called Prajapita. Krishna cannot be called Prajapita. The Father only wants the chariot of Brahma through which he can create the Brahmin people. The Brahmin clan is the most elevated clan. They show the variety-form image. There are the deities, warriors, merchants and shudras and so where did the Brahmins go? No one knows this. The highest of all is the topknot of brahmins. Only when they have a topknot can it be understood that they are brahmins. Yours is the true topknot. You are Raj Rishis, those with big topknots. Those who remain pure are called Rishis. You are Raj Yogis, Raj Rishis. You are doing tapasya for a kingdom. Those people do hatha yoga tapasya to attain liberation. You are doing Raja Yoga tapasya for liberation-in-life, for the kingdom. Your name is Shiv Shaktis. Shiv Baba makes you re-incarnate. So you take birth in Bharat once again. You have taken birth, have you not? Although some have taken a new birth, they don’t understand that they belong to Shiv Baba or that they have taken birth to Him. If they were to understand this, they would completely forget the awareness of their bodies. Just as incorporeal Shiv Baba is in this chariot, in the same way, you also have to consider yourselves to be incorporeal souls. The Father says: Children, remember Me. You now have to return home. At first you were bodiless, then you took deity bodies, then warrior bodies, then a merchant bodies and then shudra bodies. You now have to become bodiless once again. You say to Me, the incorporeal One: Baba, I now belong to You. I want to return home. You are not going to take those bodies with you. O souls, now remember Me, your Father, and your sweet home. When people have gone abroad and are about to come back from there, they say: Let’s go back to our s w eet home in Bharat. Let’s go back to where we took birth. When a person dies, they take his body back to the place he took birth. They believe that since he was created out of the soil of Bharat, he should also leave his soil (body) there. The Father says: My birth too is in Bharat. People celebrate Shiv Jayanti. They have given Me many names. They say: Har Har Mahadev (Mahadev, the One who removes everyone’s sorrow.) He is the One who removes everyone’s sorrow. I, not Shankar, am that. Brahma is present on service. The one who carries out establishment will, in the dual-form of Vishnu, carry out sustenance. I definitely need Prajapita Brahma. There is truly the temple to Adi Dev. Whose child is Adi Dev? Can anyone tell Me? Even the trustees of the Dilwala Temple don’t know who Adi Dev was or who his Father was. Adi Dev is Prajapita Brahma and his Father is Shiva. That temple is the memorial of Jagadamba and Jagadpita. The Father sat in the chariot of this Adi Dev Brahma and gave knowledge. All the children are sitting in the alcoves. There wouldn’t be temples built to all of them. The main ones are in the rosary of 108 and so 108 alcoves have been built. Only 108 are worshipped. The main ones are Shiv Baba and then it is the couple Brahma and Saraswati. Shiv Baba is the tassel at the top. He doesn’t have a body of His own. Brahma and Saraswati have their own bodies. The rosary is created of bodily beings. Everyone worships the rosary. Once they have worshipped it and turned the beads all the way through, they then say: Salutations to Shiv Baba, and bow their heads to it because He made all the impure ones pure. That is why it is worshipped. They hold a rosary in their hands and sit and chant Rama’s name. No one knows the name of the Supreme Father, the Supreme Soul. Shiv Baba is the main One and then there are also the other main ones, Prajapita Brahma and Saraswati. Then there are also the names of the Brahma Kumars and Kumaris who continue to make effort. As you progress further, you will continue to see all of this. When it is the end, you will come and stay here. Only those who are firm yogis will be able to stay here. Those who indulge in sensual pleasures will hear just a little sound and die there. Some people become unconscious just watching an operation being performed. So many people died when there was partition. Those people boast that they claimed the kingdom without having a war etc. However, so many died, don’t even ask! This is false Maya, the false body and the false world. The true Father now sits and tells you the truth. The Father says: I definitely need a chariot. I am the Senior Bridegroom and so I need a senior bride. Saraswati is also a mouth-born creation of Brahma. She is not the partner of Brahma, she is the daughter of Brahma. Why then is she called Jagadamba? Because this one is a male and so she has been appointed to look after the mothers. Saraswati, the mouth-born creation of Brahma, becomes the daughter of Brahma. Mama is young whereas Brahma is old. Young Saraswati, as the wife of Brahma, doesn’t seem right. She cannot be called a halfpartner. You have now understood this. So the Father says: I have to take this body of Brahma on loan. Many people take loans. When a brahmin priest is fed, he invokes a soul who comes and takes the support of the body of that brahmin. Does that soul leave his body and come here? No. It has been explained to you children that the system of visions has been fixed in the drama from the beginning. Souls are also called here. It isn’t that that soul will shed his body and come here. No; that is fixed in the drama. For the Father, this chariot is Nandigan, the sacred bull. Why else would they show a bull in a Shiva Temple? How could there be a bull with Shankar in the subtle region? There, there are just Brahma, Vishnu and Shankar; they show the form of a couple. They show the family path. Where did animals etc. come there from? The intellects of people do not work at all! They continue to say whatever enters their minds through which there is a waste of time and waste of energy. You say that you were pure deities and that you then became impure worshippers by taking rebirth. You yourselves were worthy of worship and you yourselves became worshippers. God doesn’t become worthy of worship or a worshipper. He doesn’t have to take 84 births. Maya makes people’s intellects completely like stone. The meaning of “Hum so” is not: “I, a soul, am the Supreme Soul.” “No, it is I, a Brahmin, will then become a deity.” You will continue to take rebirth. This is such a good explanation. The Father says: The one I have entered has had many gurus, studied many scriptures and has taken the full 84 births. He didn’t know that. I tell you as well as him. I also tell Brahma all of this. I cannot always be riding in the chariot. I tell everything to the Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. I need a chariot. You children remember Me and I come. I have to do service and so Bharat becomes pure through the directions of Shri Shri Shiva. It is wrong to give the residents of heaven the title ‘Shri Shri’. Previously, they didn’t have the name Shri. Now they have made everyone Shri, that is, elevated. Shri Shri is Shiv Baba. Then it is Brahma, Vishnu and Shankar, the residents of the subtle region, and then Shri Lakshmi and Shri Narayan. These matters have to be understood. This knowledge is very entertaining. However, while studying, some disappear. Maya makes them let go of Baba’s hand. Shops are also numberwise. There would definitely be many salesmen in a big shop. There would be fewer salesmen in smaller shops. So, you should go to the big shops where there are the maharathis. The mothers have plenty of time whereas the men have to do business etc. and so they remain busy. The mothers are free. Once they have finished cooking, that’s it. The men then create bondages for you. They stop the mothers going to the Brahma Kumaris because they have heard that their vice would stop if the mothers went to them. Shiv Baba is something so slippery that you repeatedly forget Him. The Father shows you a very easy method: Remember Me and your sins will be absolved and you will come to Me. If you don’t remember Me, your sins won’t be cut away and I won’t take you back with Me. You will then have to experience punishment. On the path of devotion, you have been drinking buttermilk. You ate up all the butter in the golden and silver ages. So, at the end, just buttermilk is left. At first, you receive good buttermilk and then it is just like water. In the golden and silver ages, rivers of ghee and milk flow. Now ghee has become so expensive. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a Raj Rishi and do tapasya. In order to enter the rosary that is worthy of worship, do service the same as the father. Become a firm yogi.
  2. Knowledge is very entertaining. Therefore, study with enjoyment and don’t become confused.
Blessing:May you constantly have the fortune of happiness and experience an easy and elevated life with the divine sustenance of blessings.
At the confluence age BapDada sustains all the children with three relationships. In terms of the relationship of the Father, He sustains you with the awareness of the inheritance. In terms of the Teacher, He sustains you with the study and in terms of the Satguru, He sustains you with the experience of blessings. You are all receiving this at the same time. Therefore, continue to experience an easy and elevated life through this divine sustenance. Let the words “effort” and “difficult” finish and you will then be said to have the fortune of happiness.
Slogan:To be loving to all souls as well as to the Father is to have true feelings of faith and good wishes.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 31 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 October 2018

To Read Murli 30 October 2018 :- Click Here
31-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे-बच्चे – तुम आत्माओं को अपना-अपना रथ है, मैं हूँ निराकार, मुझे भी कल्प में एक ही बार रथ चाहिए, मैं ब्रह्मा का अनुभवी वृद्ध रथ उधार लेता हूँ”
प्रश्नः-किस निश्चय के आधार पर शरीर का भान भूलना अति सहज है?
उत्तर:-तुम बच्चों ने निश्चय से कहा – बाबा, हम आपके बन गये, तो बाप का बनना माना ही शरीर का भान भूलना। जैसे शिवबाबा इस रथ पर आता और चला जाता, ऐसे तुम बच्चे भी प्रैक्टिस करो इस रथ पर आने-जाने की। अशरीरी बनने का अभ्यास करो। इसमें मुश्किल का अनुभव नहीं होना चाहिए। अपने को निराकारी आत्मा समझ बाप को याद करो।
गीत:-ओम् नमो शिवाए……… 

ओम् शान्ति। शिवबाबा बच्चों को इस ब्रह्मा के रथ द्वारा समझाते हैं क्योंकि बाप बच्चों से ही पूछते हैं मुझे अपना रथ तो है नहीं। मुझे रथ तो जरूर चाहिए। जैसे तुम हर एक आत्मा को अपना-अपना रथ है ना। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को भी सूक्ष्म शरीर है ना। लक्ष्मी-नारायण आदि सब आत्माओं को शरीर रूपी रथ है जरूर, जिसको अश्व कहते हैं। हैं तो मनुष्य ना। मनुष्यों की ही बात समझाई जाती है, जानवरों की बातें जानवर जानें। यहाँ तो मनुष्य सृष्टि है तो बाप भी मनुष्यों को बैठ समझाते हैं। मनुष्य में भी जो आत्मा है, उनको बैठ समझाते हैं। डायरेक्ट पूछते हैं तुम हर एक को अपना-अपना शरीर है ना। हर एक आत्मा शरीर लेती और छोड़ती है। मनुष्य तो कह देते कि आत्मा 84 लाख जन्म लेती है। यह भूल है जबकि तुम 84 जन्म लेकर ही बिल्कुल फाँ हो गये हो (थक गये हो), कितने तंग हो गये हो। तो 84 लाख जन्मों की तो बात ही नहीं। यह हैं मनुष्यों के गपोड़े। तो बाप समझाते हैं तुम आत्माओं का भी अपना-अपना रथ है। मुझे भी तो रथ चाहिए ना। मैं तुम्हारा बेहद का बाप हूँ। गाते भी हैं पतित-पावन, ज्ञान का सागर…तुम और कोई को पतित-पावन नहीं कहेंगे। लक्ष्मी-नारायण आदि को भी नहीं कहेंगे। पतित सृष्टि को पावन बनाने वाला अर्थात् पावन सृष्टि स्वर्ग का रचयिता, परमपिता परमात्मा बिगर कोई हो नहीं सकता। सुप्रीम फादर वही है। बाप जानते हैं तुम नम्बरवार पत्थरबुद्धि से पारस बुद्धि बन रहे हो। बाहर वाले मनुष्य यह नहीं जानते। तो बाप समझाते हैं मुझे भी जरूर रथ तो चाहिए ना। मुझ पतित-पावन को जरूर पतित दुनिया में आना पड़े ना। प्लेग की बीमारी होती है तो डॉक्टर को प्लेगियों के पास आना पड़ेगा। बाप कहते हैं तुम्हारे में 5 विकारों की बीमारी आधाकल्प की है। मनुष्य तो दु:ख देने वाले हैं। इन 5 विकारों से तुम बिल्कुल ही पतित बन गये हो। तो बाप समझाते हैं मुझे पतित दुनिया में ही आना पड़े ना। पतित को ही भ्रष्टाचारी कहा जाता है, पावन को श्रेष्ठाचारी कहेंगे। बरोबर तुम्हारा भारत पावन श्रेष्ठाचारी था, लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। जिसकी ही महिमा गाते हो सर्वगुण सम्पन्न… वहाँ सब सुखी थे। यह तो कल की बात है। तो बाप कहते हैं मैं आऊं तो कैसे आऊं, किसके शरीर में आऊं? पहले तो मुझे प्रजापिता चाहिए। सूक्ष्म वतनवासी को यहाँ कैसे ले आ सकता? वह तो फरिश्ता है ना। उनको पतित दुनिया में ले आऊं – यह तो दोष हो जाए। कहेंगे मैंने क्या गुनाह किया? बाप बड़ी रमणीक बातें समझाते हैं। समझेगा वही जो बाप का बना होगा। घड़ी-घड़ी बाप को याद करता रहेगा।

बाप कहते हैं मैं आता ही तब हूँ जब धरती पर पाप बढ़ जाता है। कलियुग में मनुष्य कितने पाप करते हैं। तो बाप पूछते हैं – बच्चे, बताओ मैं आऊं तो किस तन में आऊं? मुझे चाहिए भी जरूर वृद्ध अनुभवी रथ। यह जो मैंने रथ लिया है, बरोबर इनके बहुत गुरू किये हुए हैं। शास्त्र आदि पढ़ा हुआ है। यह भी लिखा हुआ है ना कि बहुत पढ़ा हुआ था। अर्जुन की बात नहीं। मुझे कोई अर्जुन वा कृष्ण का रथ थोड़ेही चाहिए। मुझे तो चाहिए ब्रह्मा का रथ, उनको ही प्रजापिता कहेंगे। कृष्ण को तो प्रजापिता नहीं कहेंगे। बाप को तो ब्रह्मा का ही रथ चाहिए जिससे ब्राह्मणों की प्रजा रचे। ब्राह्मणों का है सर्वोत्तम कुल। विराट रूप दिखाते हैं ना। देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र, बाकी ब्राह्मण कहाँ गये? यह किसको भी पता नहीं। ऊंच ते ऊंच है ब्राह्मणों की चोटी। चोटी हो तब ही समझा जाता है कि यह ब्राह्मण है। सच्ची-सच्ची चोटी तो तुम्हारी है। तुम राजऋषि हो, बड़ी चोटी वाले। ऋषि उनको कहा जाता जो पवित्र रहते हैं। तुम हो राज-योगी, राजऋषि। राजाई के लिए तपस्या कर रहे हो। वह मुक्ति के लिए हठयोग की तपस्या करते हैं, तुम जीवनमुक्ति, राजाई के लिए राजयोग की तपस्या कर रहे हो। तुम्हारा नाम ही है शिव शक्ति। शिवबाबा तुम्हें रीइनकारनेट करते हैं। तो तुम फिर से भारत में जन्म लेते हो। जन्म लिया है ना। कोई-कोई ने भल जन्म लिया है परन्तु समझते नहीं कि हम शिवबाबा के बने हैं, उनके पास जन्म लिया है। अगर ऐसा समझें तो शरीर का भान बिल्कुल ही निकल जाना चाहिए। जैसे शिवबाबा निराकार इस रथ में है, तुम भी अपने को निराकार आत्मा समझो। बाप कहते हैं – बच्चे, मुझे याद करो। अब वापिस घर चलना है। तुम तो पहले अशरीरी थे फिर देवी वा देवता का शरीर लिया, फिर क्षत्रिय शरीर, फिर वैश्य शरीर, फिर शूद्र शरीर लिया। अभी फिर तुम अशरीरी बनो। तुम मुझ निराकार को ही कहते हो – बाबा, अभी हम आपके बने हैं, हमको वापिस जाना है। देह को तो ले नहीं चलना है। हे आत्मायें, अब मुझ बाप को और स्वीट होम को याद करो। मनुष्य जब विलायत से लौटते हैं तो कहते हैं – चलो, अपने स्वीट होम भारत में चलें। जहाँ जन्म लिया था वहाँ लौटें। मनुष्य मरते हैं तो जहाँ जन्म लिया था उनको वहाँ ले जाते हैं। समझते हैं भारत की मिट्टी का बना हुआ है तो वह मिट्टी भारत में ही छोड़ें।

बाप कहते हैं मेरा जन्म भी भारत में है। शिव जयन्ती भी मनाते हो। मेरे नाम तो ढेर रख दिये हैं। कहते हैं हर-हर महादेव, सबके दु:ख काटने वाला, वह भी मैं ही हूँ, शंकर नहीं है। ब्रह्मा सर्विस पर हाज़िर है। और फिर जो स्थापना करते हैं वही विष्णु के दो रूप से पालना करेंगे। मुझे प्रजापिता ब्रह्मा जरूर चाहिए। आदि देव का बरोबर मन्दिर भी है। आदि देव किसका बच्चा है? कोई बताये। इस देलवाड़ा मन्दिर के जो ट्रस्टी लोग हैं वह भी यह नहीं जानते कि आदि देव है कौन? उनका बाप कौन था? आदि देव प्रजापिता ब्रह्मा है, उनका बाप है शिव। यह जगतपिता, जगत अम्बा का यादगार मन्दिर है। इस आदि देव ब्रह्मा के रथ में बाप ने बैठ ज्ञान सुनाया है। कोठरी में सब बच्चे बैठे हैं। सभी का मन्दिर तो नहीं बनायेंगे। मुख्य है 108 की माला, तो 108 कोठरियां बना दी हैं। 108 की ही पूजा होती है। मुख्य है शिवबाबा फिर ब्रह्मा-सरस्वती युगल। वह शिवबाबा है फूल। उनको अपना शरीर नहीं है। ब्रह्मा-सरस्वती को अपना शरीर है। माला शरीरधारियों की बनी हुई है। सब माला को पूजते हैं। पूजकर पूरा करेंगे फिर शिवबाबा को नमस्कार करेंगे, माथा झुकायेंगे क्योंकि उसने इन सबको पतित से पावन बनाया है इसलिए पूजी जाती है। माला हाथ में ले बैठ राम-राम कहते हैं। परमपिता परमात्मा के नाम का किसको पता नहीं है। शिवबाबा है मुख्य फिर प्रजापिता ब्रह्मा और सरस्वती भी मुख्य हैं। बाकी ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ जो-जो पुरुषार्थ करते रहते हैं उन्हों के नाम होंगे। आगे चल तुम सब देखते रहेंगे। जब पिछाड़ी होगी तब तुम यहाँ आकर रहेंगे। जो पक्के योगी होंगे वही रह सकेंगे। भोगी तो थोड़ा ठका सुनने से ख़त्म हो जायेंगे। कोई का आपरेशन देखने से भी मनुष्य अनकॉन्सेस हो जाते हैं। अभी पार्टीशन में कितने मनुष्य मरे। वो लोग तो गपोड़े मारते रहते हैं कि हमने बिगर कोई लड़ाई राज्य ले लिया। परन्तु मरे इतने जो बात मत पूछो। यह है ही झूठी माया…. अभी सच्चा बाप बैठ तुमको सच सुनाते हैं। बाप कहते हैं मुझे रथ तो जरूर चाहिए। मैं साजन बड़ा हूँ तो सजनी भी बड़ी चाहिए। सरस्वती है ब्रह्मा मुख वंशावली। वह कोई ब्रह्मा की युगल नहीं है, ब्रह्मा की बेटी है। उनको फिर जगत अम्बा क्यों कहते हैं? क्योंकि यह मेल है ना, तो माताओं की सम्भाल के लिए उनको रखा है। ब्रह्मा मुख वंशावली सरस्वती तो ब्रह्मा की बेटी हो गई। मम्मा तो जवान है, ब्रह्मा तो बूढ़ा है। सरस्वती जवान, ब्रह्मा की स्त्री शोभती भी नहीं। हाफ पार्टनर कहला न सके। अभी तुम समझ गये हो। तो बाप कहते हैं मुझे इस ब्रह्मा का शरीर लोन लेना पड़ता है। उधार पर तो बहुत लेते हैं। ब्राह्मण को खिलाते हैं तो वह आत्मा आकर ब्राह्मण के शरीर का आधार लेगी। आत्मा वह शरीर छोड़कर आती है क्या? नहीं, यह तो बच्चों को समझाया गया है कि ड्रामा में साक्षात्कार की रस्म-रिवाज पहले से नूँध है। यहाँ भी बुलाते हैं। ऐसे नहीं कि आत्मा शरीर छोड़कर आयेगी। नहीं, यह ड्रामा में नूँध है। बाप के लिए तो यह रथ नंदीगण है। नहीं तो शिव के मन्दिर में बैल क्यों दिखाते? सूक्ष्म वतन में शंकर के पास बैल कहाँ से आया? वहाँ तो है ही ब्रह्मा, विष्णु, शंकर और वह युगल दिखाते हैं। प्रवृत्ति मार्ग दिखाते हैं। बाकी वहाँ जानवर कहाँ से आया? मनुष्यों की बुद्धि कुछ भी काम नहीं करती, जो आता है सो कहते रहते। जिससे वेस्ट ऑफ टाइम, वेस्ट ऑफ एनर्जी होती है।

तुम कहते हो हम सो पावन देवता थे फिर पुनर्जन्म लेते-लेते हम पतित पुजारी बने हैं। आपे ही पूज्य, आपेही पुजारी। पूज्य और पुजारी कोई भगवान् नहीं बनता। उनको थोड़ेही 84 जन्म लेने पड़ते। माया मनुष्यों को बिल्कुल पत्थरबुद्धि बना देती है। हम सो का अर्थ यह नहीं कि हम आत्मा सो परमात्मा हैं, नहीं। हम सो ब्राह्मण, सो देवता बनेंगे। पुनर्जन्म लेते आयेंगे। कितनी अच्छी समझानी है। बाप कहते हैं मैंने जिसमें प्रवेश किया है, इसने बहुत गुरू किये, शास्त्र पढ़े हैं, जन्म भी पूरे 84 लिए हुए हैं। यह नहीं जानता, हम तुमको इन सहित बताता हूँ। ब्रह्मा को भी बतलाता हूँ। सदैव भी तो सवारी नहीं कर सकता हूँ। ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मणों को बतलाता हूँ। मुझे रथ भी चाहिए ना। तुम बच्चे याद करते हो और मैं आ जाता हूँ। मुझे तो सर्विस करनी है तो श्री श्री शिव की मत से भारत पावन बनता है। नर्कवासियों को श्री श्री का टाइटिल देना रांग है। आगे श्री नाम नहीं था। अभी तो सबको श्री अर्थात् श्रेष्ठ बना दिया है। श्री श्री तो है शिवबाबा। फिर सूक्ष्मवतनवासी ब्रह्मा, विष्णु, शंकर फिर श्री लक्ष्मी-नारायण। यह समझने की बातें हैं। नॉलेज बड़ी मज़े की है। परन्तु कोई-कोई पढ़ते-पढ़ते रफू-चक्कर हो जाते हैं। माया हाथ छुड़ा देती है। दुकान भी नम्बरवार हैं। बड़ी दुकान में जरूर अच्छे सेल्स मैन होंगे। छोटे-छोटे में कम होंगे। तो बड़ी दुकान पर जाना चाहिए जहाँ महारथी हों। माताओं को तो टाइम बहुत रहता है। पुरुषों को धंधा आदि करना है तो बिजी रहते हैं। मातायें तो फ्री हैं। खाना पकाया बस। वह तुम पर फिर बंधन डालते हैं। सुनते हैं ब्रह्माकुमारियों पास जाने से विष बंद हो जायेगा, तो रोकते हैं।

शिवबाबा ऐसी तिरकनी (फिसलने वाली) चीज़ है जो घड़ी-घड़ी भूल जाती है। बाप बिल्कुल सहज रास्ता बताते हैं कि मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप भी कट जायेंगे और मेरे पास भी आ जायेंगे। याद नहीं करेंगे तो पाप भी नहीं कटेंगे और साथ भी नहीं ले जाऊंगा। फिर सजा खानी पड़ेगी। भक्ति मार्ग में छांछ पीते आये। मक्खन तो तुमने सतयुग-त्रेता में खाकर पूरा कर दिया। बाकी पीछे छांछ रह जाती है। छांछ भी पहले अच्छी मिलती फिर पानी मिलता है। सतयुग-त्रेता में घी दूध की नदी बहती है। अभी तो घी कितना महंगा हो गया है। अच्छा!

मात-पिता बापदादा का मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) राजऋषि बन तपस्या करनी है। पूज्यनीय माला में आने के लिए बाप समान सर्विस करनी है। पक्का योगी बनना है।

2) नॉलेज बड़ी मज़े की है, इसलिए रमणीकता से पढ़ना है, मूँझना नहीं है।

वरदान:-वरदानों की दिव्य पालना द्वारा सहज और श्रेष्ठ जीवन का अनुभव करने वाले सदा खुशनसीब भव
बापदादा संगमयुग पर सभी बच्चों की तीन संबंधों से पालना करते हैं। बाप के संबंध से वर्से की स्मृति द्वारा पालना, शिक्षक के संबंध से पढ़ाई की पालना और सतगुरू के संबंध से वरदानों के अनुभूति की पालना.. एक ही समय पर सबको मिल रही है, इसी दिव्य पालना द्वारा सहज और श्रेष्ठ जीवन का अनुभव करते रहो। मेहनत और मुश्किल शब्द भी समाप्त हो जाए तब कहेंगे खुशनसीब।
स्लोगन:-बाप के साथ-साथ सर्व आत्माओं के स्नेही बनना ही सच्ची सद्भावना है।

TODAY MURLI 31 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 October 2017 :- Click Here

31/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence:Sweet children, make effort to rescue human beings who have forgotten the Father and become trapped in the quicksand. Churn the ocean of knowledge and give everyone the Father’s true introduction.
Question:Which religion does the Gita scripture belong to? What significant things are to be understood from this?
Answer:The Gita scripture is the scripture of the Brahmin deity religion. It is said: Salutations to the Brahmins who become deities. You wouldn’t call it just the scripture of the deity religion because deities don’t have this knowledge. Brahmins listen to the knowledge of the Gita and become deities and it is therefore the scripture of both the Brahmins and the deities. It is not said to be a scripture of the Hindu religion. These things have to be understood very clearly. Incorporeal Shiv Baba, Himself, and not Shri Krishna, is giving you the knowledge of the Gita.
Song:Neither will He be separated from us nor will our hearts feel sorrow.

Om shanti. Baba sits here and explains to you children very well. Which father? The Father from beyond this world. A worldly father wouldn’t have so many children. The Father from beyond has so many children (souls) who remember Him and call out to Him: O Purifier, Bestower of Salvation for All! O Supreme Father, Supreme Soul! So, they call out to Him as their Father. It is incorporeal God, the Supreme Father, the Supreme Soul, who speaks. There is only the one incorporeal God, not two. It is in the intellect of you children that God is the Highest on High. Where does He reside? He resides where souls reside. When you say, “Ishwar”, “Prabhu” or “Bhagwan” (God), it doesn’t have the feeling of claiming an inheritance of happiness. When you say “Father” you remember the inheritance. However, people don’t know the Father. According to the drama, the people of Bharat bring degradation to themselves by following Ravan’s dictates. Therefore, first of all, explain that Brahma, Vishnu and Shankar are beings with subtle bodies, whereas human beings are those with corporeal bodies. However, a being with either a subtle or corporeal body cannot be called the Father. Only the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Father. What mistake was made that took them into degradation? By listening to the true Gita from the Father, there is salvation. Therefore, first of all, give the Father’s introduction to anyone who comes. This is the main thing; but it doesn’t sit in anyone’s intellect and this is why Baba has had this poster printed: Is the child Krishna or the Supreme Father, the Supreme Soul, the God of the Gita? Which religion does the Gita scripture belong to? It is right to say that it belongs to the Brahmin deity religion just as the religious scripture of Christians is the Bible. Similarly, the Gita wouldn’t be the scripture of just the deity religion; the Brahmins also have to be included. It is said: Salutations to the Brahmins who are to become deities. Baba has told you that the deities don’t have knowledge. They don’t even know that the Gita is the scripture of their religion. Brahmins have knowledge. The Gita wouldn’t even be called the scripture of just the Brahmins because the Father establishes both religions. This is why it is said to be the scripture of both religions. There, people say that the Gita is the scripture of the Hindu religion. They even say that it is also the scripture of the Arya religion. Dayananda established the Arya Samaj (1875). That is a new religion; but they don’t belong to the deity religion. The main thing is: Who is the God of the Gita? They have inserted Krishna’s name in the Gita and falsified it because their intellects’ yoga has broken away from Me. Look how many things they have shown in the Gita and how there is so much respect for the Gita pathshalas. The deity and Brahmin religions have now disappeared. Worshippers say: Salutations to the Brahmins who are to become deities. They don’t know how the Brahmins became deities. Who will tell them this? The Father says: I make you into the mouth-born creation of Brahma and then make you into deities. Therefore, the Gita is the scripture of the Brahmin and deity religions. You can’t say that it belongs to just the deity religion, because Lakshmi and Narayan don’t have knowledge. These things have to be understood, but who will explain them? Shiv Baba tells you that the flames of destruction emerge from the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. There is so much difference between the sacrificial fire of Rudra and that of Krishna. After this sacrificial fire of knowledge, there won’t be any material sacrificial fires in the golden age. Now they create sacrificial fires to remove their calamities. There are no calamities there for which they would have to create a sacrificial fire. In the Gita, it mentions the sacrificial fire of Rudra and it also says: “God speaks”. Therefore, the truth in the Gita is like a pinch of salt in a sackful of flour; all the rest is false. Shiv Baba does not churn the ocean of knowledge. It is Brahma and the Brahma Kumars and Kumaris who have to do that. At this time, people are completely trapped in quicksand. It requires a lot of effort to get out of quicksand. This is why they call out to the Father. The Father says: You have to conquer Ravan, the five vices. Then, in the golden age, you living beings are in happiness. Whenever you go to a spiritual gathering you can ask them about these things. There is no question of being afraid. All are in darkness. Death is just ahead, whereas they say that 40,000 years of the iron age still remain. That is called extreme darkness. All are sleeping in the sleep of Kumbhakarna. It is said that God comes to give the fruit of devotion and that He gives salvation. Therefore, you must be in degradation. If the name of Shiva, the Supreme Soul, were mentioned in the Gita, everyone would accept Him. So, it was truly the incorporeal One who taught you Raja Yoga. There is no question of a battlefield. How could He give such great knowledge on a battlefield? How would He teach Raja Yoga? There are four main religions and there are four religious scriptures. There are now innumerable religions, scriptures and images. It is now in the intellects of you children that Shiv Baba is the Highest on High and below Him, there are Brahma, Vishnu and Shankar and then, in the corporeal world, there are Lakshmi and Narayan and then their dynasty. At the confluence age there are just Brahma and Saraswati. When people create a sacrificial fire, they create a lingam of Shiva, worship it and then sink it. They even worship images of the goddesses and then sink them. Therefore, that is the worship of dolls, because they don’t know their occupation. His praise is that He is the Purifier. So, how does He purify impure souls? You yourselves now have to awaken and also awaken others, that is, you have to give everyone the Father’s introduction. They don’t know the Father. Those people simply earn money by telling religious stories. What happens through that? You can also go to the Vidhoot Mandali and explain to them. Everyone will definitely have to die in this war. The flames of destruction continue to emerge from this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. They continue to write about how they have created so many big bombs. Therefore, destruction also took place through them in the previous cycle. It isn’t that in the previous cycle they disposed of the bombs at sea. So, destruction still has to take place now. They speak of those who have divorced intellects at the time of destruction. Who has this? The Kauravas and the Yadavas. It is now government of the people by the people. Therefore, have hundreds of thousands of posters printed in all languages. You definitely have to print them in English. Continue to distribute them wherever there are Gita pathshalas. Your address should also be written on the poster. The Father gives directions, but it is up to you children to follow them. It is written: Shiv Baba. So Shiv Baba is the Father and Brahma is also the father. Therefore, you children are to receive your inheritance from Shiv Baba and not Brahma. Even Brahma receives it from Him. Baba has explained so much that you must first of all write the Father’s accurate introduction in the Gita magazine. Those who are to become Brahmins will quickly be shot by the arrow. Otherwise, when they are given something, they throw it away, just as if you give a book to a monkey, it would immediately throw it away; it wouldn’t understand anything. This is why the Father says: Give this knowledge to My devotees and those who study the Gita. In that too, it is those who have it in their fortune who will understand. The Father says: This is hell. All the children who are born here continue to cause sorrow for one another; they continue to bite one another. They have shown a river of poison in the Garuda Purana, but that doesn’t really exist. This world is hell. You children know that you were residents of hell and have now become residents of the confluence age, and that, tomorrow, you will become residents of heaven. This is why you are making effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night class 23/03/68

The Highest on High is the one God, who is the Father. Whose Father? The Father of all souls. He is the Father of all the souls in all the human beings. All the souls who come to play their parts definitely take rebirth. Some take very few. Some take 84 births, some take 80 births and some take 60 births; all are human beings, bodily beings. Even though Lakshmi and Narayan ruled the world, at that time, there was no other dynasty in the new world. None of the bodily beings can grant anyone salvation. First of all, there is the sweet silence home. That is the home of all souls. Even the Father stays there. That is called the incorporeal world. The Father is the Highest on High and the place where He resides is also the highest on high. The Father says: I am the Highest on High. I definitely have to come. Everyone calls out to Me. All human beings definitely have to take rebirth. Only the one Father doesn’t take rebirth. Everyone definitely has to take rebirth. Any founder of a religion is said to be an incarnation. They speak of the Buddha incarnation. The Father is also called the Incarnation. He too has to come. Now, all souls are present here. None of them can return home. It is because souls take rebirth that there is expansion. By taking rebirth, all have become tamopradhan at this time. Only the Father comes and gives knowledge. The Father alone is knowledge-full; He has the knowledge of the beginning, middle and end. He alone is called the knowledge-full and blissful One, the p eaceful One , ever pure. Human beings, however, become pure and impure. Lakshmi and Narayan are the first ones of that dynasty. They have to take the full 84 births, they take rebirth here. Then, at the end, the Father comes and purifies everyone and takes them back. The Father alone is called the Liberator. At this time, the founders of religions are present here. A few souls still remain who are continuing to come down. Expansion continues to take place. The Bestower of Salvation for all is just the one Father. He is making us into the masters of the land of peace and the land of happiness. You take the full 84 births. Those of you who came first will return first. Christ will come at his own time. Christ does not have the power to take anyone back. Only the one Father has the power to take everyone back. At this time, it is the kingdom of Ravan, the devilish kingdom. In 84 births, the vices have now entered everyone completely. The Father says: You were the masters of the deity world and you then became vicious in the kingdom of Ravan. Everyone definitely has to take rebirth. It is not possible for them to establish a religion and then return home. They definitely also have to sustain it. It is remembered: Establishment of the new world takes place through Brahma. There is also the destruction of the old world. In the new world, there was just the one religion and one deity dynasty. That does not exist now; there are just its images, and all other religions are present. Apart from the one God, the Father, all bodily beings definitely take rebirth. Bharat is the imperishable land; it is never destroyed. It is imperishable. There were no other lands when it was their kingdom. It was just their kingdom. There was just the sun dynasty and the moon dynasty; no one else. The new world is called heaven, the deity world. The incorporeal world cannot be called heaven. That is our sweet silence home, the land of nirvana. No one, except the Supreme Father, the Supreme Soul, can give knowledge to souls. A soul is a very tiny dot. The Father of all souls is the Supreme Soul. He is called the Supreme Father. He cannot ever take rebirth. It is now the end of the play. This whole world is a stage on which the play is being performed. The duration of it is 5000 years. This is the most auspicious confluence age when the Father comes and makes everyone the most elevated of all. Souls are all imperishable. This dramais also imperishable. It is the predestined play. Those who have been and gone will come again at exactly the same time. They were the ones to come first. Lakshmi and Narayan do not exist now. This is the true company of the Truth. Achcha.

Love, remembrance and good night to the sweetest, beloved, long-lost and now-found spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Churn the ocean of knowledge and rescue human beings from the quicksand. Awaken those who are sleeping in the sleep of Kumbhakarna.
  2. Remove your intellect’s yoga from subtle and corporeal bodily beings and remember the one incorporeal Father. Connect the intellect’s yoga of everyone to the one Father.
Blessing:May you be as merciful as the Father and serve at a fast speed with your mind.
You can increase the treasures of blessings you have received from the Father at the confluence age as much as you want: simply continue to give to others. Just as the Father is merciful¸ be just as merciful as the Father, not just in words, but with the attitude of your mind give souls through the atmosphere the powers that you have received. Since you have to complete serving the world in a short time, you have to serve at a fast speed. The busier you keep yourself in service, the more easily you will become a conqueror of Maya.
Slogan:Those who serve at every step with their content and happy life are true servers.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_1]

 

Read Murli 29 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 31 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 30 October 2017 :- Click Here
31/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – मनुष्य जो बाप को भूल दुबन (दलदल) में फंसे हुए हैं, उन्हें निकालने की मेहनत करो, विचार सागर मंथन कर सबको बाप का सत्य परिचय दो”
प्रश्नः-गीता को किस धर्म का शास्त्र कहेंगे? इसमें रहस्य-युक्त समझने की बात कौन सी है?
उत्तर:-गीता शास्त्र है – ब्राह्मण देवी-देवता धर्म का शास्त्र। ब्राह्मण देवी-देवताए नम: कहा जाता है। इसे सिर्फ देवता धर्म का शास्त्र नहीं कहेंगे क्योंकि देवताओं में तो यह ज्ञान है ही नहीं। ब्राह्मण यह गीता का ज्ञान सुनकर देवता बनते हैं, इसलिए ब्राह्मण देवी-देवता दोनों का ही यह शास्त्र है। यह कोई हिन्दू धर्म का शास्त्र नहीं कहा जाता। यह बहुत समझने की बातें हैं। गीता ज्ञान स्वयं निराकार शिवबाबा तुम्हें सुना रहे हैं, श्रीकृष्ण नहीं।
गीत:-न वह हमसे जुदा होंगे…..

ओम् शान्ति। बाबा बच्चों को बैठ समझाते हैं अच्छी तरह से। कौन सा बाप? पारलौकिक बाप। लौकिक बाप को इतने बच्चे नहीं होते। पारलौकिक बाप के इतने बच्चे (आत्मायें) हैं, जो याद करते रहते हैं हे पतित-पावन, सर्व के सद्गति दाता, ओ परमपिता परमात्मा, तो पिता कहकर पुकारते हैं। परमपिता परमात्मा निराकार भगवानुवाच। निराकार परमात्मा तो एक होता है ना, दो नहीं होते। बच्चों की बुद्धि में बैठा है कि ऊंचे ते ऊंचा भगवान है। वह कहाँ रहते हैं? जहाँ आत्मायें रहती हैं। ईश्वर, प्रभू, भगवान कहने से सुख का वर्सा लेने की बात नहीं आती। बाप कहने से वर्सा याद आता है, परन्तु मनुष्य बाप को नहीं जानते। भारतवासी ड्रामा अनुसार रावण मत पर अपनी दुर्गति करते हैं। तो पहले-पहले यह समझाना है कि ब्रह्मा-विष्णु-शंकर सूक्ष्म शरीरधारी हैं, मनुष्य स्थूल देहधारी हैं, परन्तु स्थूल वा सूक्ष्म देहधारी को बाप नहीं कहेंगे। बाप परमपिता परमात्मा निराकार को कहा जाता है। भूल क्या हुई जो दुर्गति हुई? बाप द्वारा सच्ची गीता सुनने से सद्गति होती है। तो कोई को भी पहले-पहले बाप का परिचय देना है। यह है मूल बात। परन्तु कोई की बुद्धि में नहीं बैठता है तब तो बाबा ने यह पोस्टर छपवाया है कि गीता का भगवान कृष्ण बच्चा है या परमपिता परमात्मा? गीता किस धर्म का शास्त्र है? ब्राह्मण देवी-देवता धर्म का कहना ठीक है। जैसे क्रिश्चियन का धर्म शास्त्र बाइबिल है। ऐसे गीता को सिर्फ देवी-देवता धर्म का शास्त्र नहीं कहेंगे, जब तक ब्राह्मणों को न मिलायें। कहते हैं ब्राह्मण देवी-देवताए नम:। बाबा ने बताया है देवताओं में ज्ञान है नहीं। वह यह भी नहीं जानते कि गीता कोई हमारे धर्म का शास्त्र है। ज्ञान है ब्राह्मणों को, सिर्फ ब्राह्मण धर्म का भी शास्त्र गीता नहीं कहेंगे क्योंकि बाप दोनों धर्म की स्थापना करते हैं इसलिए दोनों धर्म का शास्त्र कहेंगे। वहाँ तो कह देते कि हिन्दू धर्म का शास्त्र है। आर्य का भी कह देते। आर्य समाज तो दयानंद ने स्थापन किया है। वह भल नया धर्म है। परन्तु वह कोई देवी-देवता धर्म के नहीं हैं। मूल बात है गीता का भगवान कौन? गीता में कृष्ण का नाम डाल गीता को खण्डित कर दिया है क्योंकि मेरे से बुद्धियोग टूट गया। गीता में देखो बातें कितनी बताई हैं और गीता पाठशाला का मान कितना है। तो अभी देवता और ब्राह्मण धर्म प्राय:लोप है। पुजारी लोग कहते हैं ब्राह्मण देवी-देवताए नम:, उन्हों को यह मालूम नहीं है कि ब्राह्मण देवता कैसे बनें। यह बतावे कौन? बाप कहते हैं कि मैं ब्रह्मा मुख वंशावली बनाए देवता बनाता हूँ। तो गीता हो गई ब्राह्मण देवी-देवता धर्म का शास्त्र। सिर्फ कहें देवता धर्म का तो लक्ष्मी-नारायण में ज्ञान है नहीं, यह बात समझने की है। परन्तु समझाये कौन? शिवबाबा सुनाते हैं कि रुद्र ज्ञान यज्ञ से विनाश ज्वाला प्रज्जवलित हुई। कहाँ रुद्र यज्ञ, कहाँ कृष्ण, फ़र्क है। इस ज्ञान यज्ञ के बाद फिर सतयुग में कोई मटेरियल यज्ञ रचा नहीं जाता। अब यज्ञ रचते हैं आ़फत मिटाने के लिए। वहाँ कोई आ़फत होती ही नहीं जो यह यज्ञ रचना पड़े। गीता में रुद्र यज्ञ का भी लिखा है और यह भी लिखा है कि भगवानुवाच, तो गीता में सच है आटे में नमक जितना, बाकी सब झूठ है। अब यह विचार सागर मंथन शिवबाबा नहीं करेंगे। ब्रह्मा और ब्रह्माकुमार कुमारियों को करना है। इस समय मनुष्य तो एकदम दुबन में फंसे हुए हैं। दुबन (दलदल) से निकलने में बड़ी मेहनत लगती है, तब तो बाप को पुकारते हैं। बाप कहते हैं तुमको 5 विकार रूपी रावण पर ही जीत पानी है। फिर सतयुग में तुम जीव आत्मायें सुख में हो। जो भी सतसंग हैं वहाँ तुम जाकर पूछ सकते हो, डरने की कोई बात नहीं। सब अंधकार में पड़े हैं। मौत सामने खड़ा है और कहते हैं अभी तो कलियुग में 40 हजार वर्ष पड़े हैं, इसको कहा जाता है घोर अन्धियारा, कुम्भकरण की नींद में सोये पड़े हैं। कहते हैं भक्ति का फल भगवान देने आता है, सद्गति देता है, तो दुर्गति में हैं ना। गीता में अगर शिव परमात्मा का नाम होता तो उसको सब मानते। तो बरोबर निराकार ने राजयोग सिखाया था। युद्ध के मैदान की कोई बात नहीं है। युद्ध के मैदान में इतना बड़ा ज्ञान कैसे देंगे? राजयोग कैसे सिखायेंगे? मुख्य धर्म 4 हैं, धर्मशास्त्र भी 4 हैं। अभी तो अनेकानेक धर्म, अनेक शास्त्र, अनेक चित्र हैं। अब बच्चों की बुद्धि में बैठा है कि ऊंचे ते ऊंचा है शिवबाबा फिर नीचे आओ तो ब्रह्मा-विष्णु-शंकर फिर साकार में लक्ष्मी-नारायण फिर उनकी डिनायस्टी। संगम पर ब्रह्मा सरस्वती, बस। रुद्र यज्ञ जब रचते हैं तो शिव का लिंग बनाए पूजा कर फिर डुबो देते हैं। देवियों की भी पूजा कर फिर डुबो देते हैं। तो गुड्डे गुड़ियों की पूजा हो गई ना क्योंकि उनका आक्यूपेशन कोई नहीं जानते। उनकी महिमा है पतित-पावन। तो कैसे पाप आत्माओं को पावन बनाते हैं। अभी तो तुमको जागकर जगाना है अर्थात् बाप का परिचय देना है। बाप को जानते नहीं। सिर्फ पैसा कमाते, कथा सुनाते रहते हैं। इससे क्या हुआ! तुम विदुत मण्डली में भी जाकर समझाओ। इस लड़ाई में मरना तो सबको जरूर है। इस रुद्र ज्ञान यज्ञ से विनाश ज्वाला प्रज्वलित होती जाती है। लिखते भी रहते हैं कि हमने इतने बड़े-बड़े बाम्बस बनाये हैं, तो कल्प पहले भी इनसे विनाश हुआ था। यह सब बाम्ब्स कोई कल्प पहले इन्होंने समुद्र में नहीं डाले थे। तो अभी भी विनाश होना है। कहते हैं विनाश काले विपरीत बुद्धि, कौन? कौरव और यादव। अभी तो प्रजा का प्रजा पर राज्य है। तो यह पोस्टर लाखों की अन्दाज में छपाओ, सब भाषाओं में। अंग्रेजी में तो जरूर छपवाना चाहिए। जहाँ-जहाँ गीता पाठशाला हो वहाँ बांटते जाओ। पोस्टर पर एड्रेस भी लिखी हुई हो। बाबा डायरेक्शन तो देते हैं, करना तो बच्चों का ही काम है। लिखा हुआ है शिवबाबा। तो शिवबाबा भी बाप, ब्रह्मा भी बाप परन्तु बच्चों को वर्सा शिवबाबा से मिलना है, न कि ब्रह्मा से। ब्रह्मा को भी उनसे मिलता है।

बाबा ने बहुत समझाया है कि गीता मैगज़ीन में भी पहले-पहले बाप का यथार्थ परिचय लिखो, तो जो ब्राह्मण बनने वाले होंगे उनको झट तीर लगेगा। नहीं तो लिया और फेंक दिया। जैसे कोई बन्दर को किताब दो तो एकदम फेंक देगा, समझेगा कुछ नहीं। तब बाप कहते हैं कि यह ज्ञान मेरे भक्तों को और गीता-पाठियों को देना। उसमें भी जिसके भाग्य में होगा वह समझेंगे। बाप कहते हैं यह तो है ही नर्क। यहाँ जो भी बच्चे आदि पैदा होते हैं – एक दो को दु:ख देते रहते हैं। एक दो को काटते रहते हैं। बाकी जो गरुड पुराण में विषय वैतरणी नदी दिखाई है, वह तो है नहीं। यह दुनिया तो नर्क है। तो बच्चे जानते हैं आज नर्कवासी फिर संगमवासी बनते हैं, कल फिर स्वर्गवासी बनेंगे, इसलिए पुरुषार्थ कर रहे हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास – 23-3-68

ऊंच ते ऊंच है एक भगवान माना फादर। किसका फादर? सभी जो आत्माएं हैं उन सभी का। जो भी मनुष्य मात्र हैं उनमें जो आत्माएं हैं उनका है फादर। अभी सभी आत्माएं जो कि पार्ट बजाने आती हैं वह पुनर्जन्म जरूर लेती है। कोई बहुत थोड़े लेते हैं। कोई 84 जन्म लेते हैं, कोई 80 और कोई 60। देहधारी जो भी मनुष्य हैं, भल यह लक्ष्मी-नारायण विश्व पर राज्य करने वाले हैं। उस समय न्यू वर्ल्ड में और कोई डिनायस्टी नहीं थी। जो भी देहधारी मनुष्य हैं कोई भी सद्गति नहीं दे सकते। पहले पहले है स्वीट सायलेन्स होम। सभी आत्माओं का घर। बाप भी वहाँ रहते हैं। उसको इनकॉरपोरियल वर्ल्ड कहा जाता है। बाप ऊंच ते ऊंच फिर रहने का स्थान भी ऊंच ते ऊंच है। बाप कहते हैं मैं ऊंच ते ऊंच हूँ। मुझे भी आना पड़ता है। सभी मुझे पुकारते हैं जो भी मनुष्य मात्र हैं पुर्नजन्म जरूर लेना ही है। सिर्फ एक बाप ही नहीं लेते हैं। पुनर्जन्म तो सभी को लेना ही है। कोई भी धर्म स्थापक हो, बुद्ध अवतार कहते हैं ना। बाप को भी अवतार कहते हैं। उनको भी आना पड़ता है। अभी सभी आत्माएं यहाँ मौजूद हैं। वापस कोई भी जा नहीं सकते। पुनर्जन्म लेते हैं तब तो वृद्वि होती है ना। पुनर्जन्म लेते लेते इस समय सभी तमोप्रधान हैं। बाप ही आकर नॉलेज देते हैं। बाप ही नॉलेजफुल है आदि मध्य अन्त की नॉलेज उनमें है। उनको ही नॉलेजफुल ब्लिसफुल कहा जाता है। पीसफुल, एवर प्युअर। बाकी मनुष्य मात्र प्युअर इमप्युअर बनते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण डीटी डिनायस्टी के फर्स्ट हैं। इनको ही पूरे 84 जन्म लेने पड़ते हैं। पुनर्जन्म यहाँ ही लेते हैं। फिर अन्त में बाप आकर सबको पवित्र बनाकर साथ में ले जाते हैं। बाप को ही लिबरेटर कहा जाता है। इस समय सभी धर्म स्थापक यहाँ हाजिर हैं। बाकी थोड़े हैं जो आते रहते हैं। वृद्वि होती रहती है। सर्व का सद्गति दाता एक ही बाप है। शान्तिधाम वा सुखधाम का मालिक बनाते हैं। तुम्हीं पूरे 84 जन्म लेते हो। तुम जो पहले आये थे वही फिर पहले आयेंगे। क्राइस्ट फिर अपने समय पर आयेंगे। क्राईस्ट में यह ताकत नहीं जो किसको वापस ले जाये। वापिस ले जाने की ताकत एक बाप में ही है। इस समय है रावण राज्य, आसुरी राज्य। 84 जन्मों में विकार पूरे प्रवेश कर लेते हैं। बाप कहते हैं तुम डीटी दुनिया के मालिक थे फिर रावण राज्य में तुम विकारी बन पड़े हो। पुनर्जन्म सभी को जरूर लेना पड़ता है। धर्म स्थापन कर वापस चला जाये यह हो नहीं सकता। उनको पालना जरूर करनी है। गाया जाता है ब्रह्मा द्वारा नई दुनिया की स्थापना। पुरानी दुनिया का विनाश। नई दुनिया में एक ही धर्म एक ही डीटी डिनायस्टी थी। अब वह है नहीं। सिर्फ चित्र हैं। और सभी धर्म मौजूद हैं सिवाय एक गॉड फादर के, जो भी देहधारी है पुनर्जन्म जरूर लेते हैं। भारत है अविनाशी खण्ड, यह कब विनाश नहीं होता। अविनाशी है। जब इनका राज्य था तो और कोई खण्ड ही नहीं था। सिर्फ इनका ही राज्य था। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी बस। और कोई नहीं। नई दुनिया को स्वर्ग डीटी वर्ल्ड कहा जाता है। इनकोरपोरियल वर्ल्ड को स्वर्ग नहीं कहा जाता। वह है स्वीट साइलेन्स होम। निर्वाण धाम। आत्मा को ज्ञान सिवाय परमपिता परमात्मा के और कोई दे नहीं सकता। आत्मा बहुत छोटी बिन्दी है। सभी आत्माओं का फादर है सुप्रीम सोल। उनको सुप्रीम फादर कहा जाता है। वह कब पुनर्जन्म में नहीं आ सकते हैं। इस समय नाटक की पिछाड़ी है। यह सारी दुनिया स्टेज है इसमें खेल चल रहा है। इनकी डियूरेशन हैं 5000 वर्ष। यह है पुरुषोत्तम संगम युग। जब कि बाप आकर सभी को उत्तम ते उत्तम बनाते हैं। आत्माएं अविनाशी ही हैं। यह ड्रामा भी अविनाशी है। बना बनाया खेल है। जो पास हो गये फिर उसी समय पर आयेंगे। पहले पहले यह आये थे। लक्ष्मी नारायण अभी नहीं हैं। सच्चा सच्चा सत का संग यह है। अच्छा !

मीठे मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बाप व दादा का याद प्यार गुडनाईट। ओम् शान्ति।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विचार सागर मंथन कर मनुष्यों को दुबन (दलदल) से निकालना है। जो कुम्भकरण की नींद में सोये हुए हैं उन्हों को जगाना है।

2) सूक्ष्म अथवा स्थूल देहधारियों से बुद्धियोग निकाल एक निराकार बाप को याद करना है। सबका बुद्धियोग एक बाप से जुटाना है।

वरदान:-मन्सा द्वारा तीव्रगति की सेवा करने वाले बाप समान मर्सीफुल भव 
संगमयुग पर बाप द्वारा जो वरदानों का खजाना मिला है उसे जितना बढ़ाना चाहो उतना दूसरों को देते जाओ। जैसे बाप मर्सीफुल है ऐसे बाप समान मर्सीफुल बनो, सिर्फ वाणी से नहीं, लेकिन अपनी मन्सा वृत्ति से वायुमण्डल द्वारा भी आत्माओं को अपनी मिली हुई शक्तियां दो। जब थोड़े समय में सारे विश्व की सेवा सम्पन्न करनी है तो तीव्रगति से सेवा करो। जितना स्वयं को सेवा में बिजी करेंगे उतना सहज मायाजीत भी बन जायेंगे।
स्लोगन:-अपने सन्तुष्ट और खुशनुम: जीवन से हर कदम में सेवा करने वाले ही सच्चे सेवाधारी हैं।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 29 October 2017 :- Click Here

Font Resize